0

जिम जाना सही या योग करना, जानिए डिफरेंस

गुरुवार,सितम्बर 2, 2021
0
1
योग में यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान और समाधि। इन आठ विधियों का महत्व है। परंतु प्रचलन में आसन, प्राणायाम और ध्यान ही है। उक्त तीनों के माध्यम से शरीर को आप इन निम्नलि‍खित कष्टों से बचाकर रखें।
1
2
नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने यह दावा कर एक और विवाद खड़ा कर दिया कि योग का उद्भव भारत में नहीं बल्कि उनके देश में हुआ था। उन्होंने दावा किया कि वास्तव में योग की उत्पत्ति उत्तराखंड से हुई थी और उस समय उत्तराखंड वर्तमान भारत में नहीं बल्कि ...
2
3
एक युवती हिप्नोटिज्म की गहरी अवस्था में सम्मोहनकर्ता के सामने बैठी थी। सम्मोहनकर्ता धीर-गंभीर लहजे में उसे निर्देश दे रहा था। उसने एक पेंसिल के सिरे पर रबर लगाकर कहा कि यह अंगारे की तरह दहक रहा है। यह अंगारे की तरह लाल है। फिर सम्मोहनकर्ता ने उस ...
3
4
योग को अपनाने से आपका जीवन बदल सकता है। योग सिर्फ सेहत ही नहीं बल्कि मानसिक दृढ़ता भी देता है। दोनों ही बातों से ही जीवन में सफलता के रास्ते खुल जाते हैं। आओ जानते हैं योग के ऐसे 5 सूत्र जिन्हें अपनाने से आपका जीवन बदल सकता है।
4
4
5
आज विश्व योग दिवस है। जानें कैसे हुई विश्व योग दिवस की शुरुआत। पढ़ें योग से संबंधित विशेष सामग्री एक ही स्थान पर...
5
6
सिर्फ वेबदुनिया पर... योग मुद्राओं के आकर्षक और उत्कृष्ट सामग्री। 21 जून को हमारे यानी वेबदुनिया के साथ मनाइए विश्व योग दिवस। हम लेकर आए हैं योग दिवस के साथ योग का इतिहास, परम्परा और विशेष आलेख....
6
7
योग के प्रचलन के इतिहास को हम दो भागों में विभक्त कर सकते हैं पहला हिन्दू परंपरा से प्राप्त इतिहास और दूसरा शोध पर आधारित इतिहास। योग का इतिहास बहुत ही वृहद है हमनें इसे यहां पर संक्षिप्त रूप से लिखा है। कहते हैं कि भारत में योग लगभग 15 हजार वर्षों ...
7
8
हर साल 21 जून को विश्व योग दिवस मनाया जाता है। यह दिवस संपूर्ण विश्व में मनाया जाता है। इस अवसर पर विश्‍वभर में लाखों लोग एक साथ योग करके सेहतमंद बने रहने और शांति का संदेश देते हैं। योग दिवस आखिर क्यों मनाया जाता है और इसकी शुरुआत कब से हुई जानिए ...
8
8
9
21 जून 2021 को विश्व योग दिवस मनाया जाएगा। पहले हमने बताया था कि 84 योगासन होते हैं परंतु योग कितने प्रकार के होते हैं? आओ जानते हैं इस संबंध में महत्वपूर्ण जानकारी।
9
10
कोविड 19 कोरोना वायरस के चलते भारत में 25 मार्च 2020 को लॉकडाउन लगा दिया गया था जो 31 मई 2020 तक चला और फिर चरणों में अनलॉक की प्रक्रिया प्रारंभ हुई। इसके बाद अप्रैल 2021 में पुन: चरणों में लॉकडाउन प्रारंभ हुआ और अब पुन: जून से अनलॉक प्रक्रिया ...
10
11
नियमित रूप से योगासन, प्राणायाम, ध्यान और योग क्रियाएं करते रहने से आपके जीवन पर 10 तरह के प्रभाव पड़ते हैं। आओ जानते हैं कौनसे हैं वे प्रभाव...
11
12
21 जून 2021 को विश्व योग दिवस मनाया जाएगा। योगासन में आसन क्या है, आसन किसे कहते हैं, योगासनों का मुख्य उद्येश्य क्या है, आसन और व्यायाम में फर्क क्या है और यह कितने प्रकार के होते हैं, जानिए योगा डे पर इन सभी को संक्षिप्त रूप में।
12
13
21 जून 2021 को विश्‍व योगा दिवस है। करोनावायरस के संक्रमण के चलते लगे लॉकडाउन में बहुतों ने घर में ही योग करना प्रारंभ करके खुद को महामारी से बचाए रखा। यदि आपने अब तक योग को अपनी दिनचर्या का हिस्सा नहीं बनाया है तो योग दिवस से नियम बनाएं और रोज ...
13
14
'योग : दि अल्‍फा एंड दि ओमेगा' शीर्षक से ओशो द्वारा अंग्रेजी में दिए गए 100 अमृत प्रवचनों को पढ़ना बहुत ही अद्भुत है। उन्होंने कहा कि जैसे बाहरी विज्ञान की दुनिया में आइंस्टीन का नाम सर्वोपरि है, वैसे ही भीतरी विज्ञान की दुनिया के आइंस्टीन हैं ...
14
15
भारतीय योग की परंपरा भगवान शंकर, दत्तात्रेय से लेकर ऋषि भारद्वाज मुनि, वशिष्ठ मुनि और पराशर मुनि तक प्रचलित रही। फिर योगेश्वर श्रीकृष्ण से लेकर गौतम बुद्ध और पतंजलि, आदि शंकराचार्य, गुरु मत्स्येंद्रनाथ और गुरु गोरखनाथ तक अनवरत चलती रही। इसके बाद ...
15
16
कहते हैं कि जहां गंदगी होती है वहां पर ही वायरस और बैक्टीरिया पनपते हैं। अत: कोरोना काल में साफ-सफाई के साथ ही शरीर और मन की शुद्धि का भी महत्व बढ़ गया है। आओ जानते हैं कि स्नान के कितने प्रकार हैं और यह कैसे किया जाता है। यहां मुख्‍यत: दो तरह के ही ...
16
17
योग के दूसरे अंग 'नियम' के उपांगों के अंतर्गत प्रथम 'शौच' का उल्लेख मिलता है। शौच के अभाव के चलते शरीर और मन रोग और शोक से ग्रस्त हो जाता है और व्यक्ति मृत्यु के करीब पहुंच जाता है। शौच का अर्थ शरीर और मन की बाहरी और आंतरिक शुद्धि और पवित्रता से है। ...
17
18
कोरोना महामारी का दौर जारी है। बल्कि कोरोना की यह दूसरी वेव पहले से भी काफी भयानक साबित हो रही है। एक व्यक्ति के संक्रमित होने पर पूरा परिवार इससे संक्रमित हो रहा है।
18
19
वर्तमानकाल में अधिकतर लोगों की सोच नकारात्मक हो चली है। इसके पीछे कई राजनीतिक, सामाजिक और रहन-सहन में परिवर्तन के कारण भी हो सकते हैं। यह भी हो सकता है कि कोई व्यक्ति बचपन से ही गलत लोगों के साथ रहा हो या बाद में उसकी संगति गलत लोगों की हो गई हो। कई ...
19