Fact Check: कोरोना वैक्सीन बताकर युवाओं को लगाया जा रहा एंटी-फर्टिलिटी वैक्सीन? जानिए सच

Last Updated: शुक्रवार, 6 अगस्त 2021 (12:09 IST)
हमें फॉलो करें
(Photo:Twitter/PIB Fact Check)
देश में के खिलाफ लड़ाई में वैक्सीनेशन को अहम हथियार माना जा रहा है। लेकिन कुछ लोग को लेकर लगातार भ्रम फैला रहे हैं। सोशल मीडिया पर वायरल ऐसी ही एक खबर में वैक्सीन को लेकर चौंकाने वाला दावा किया गया है। इस खबर में दावा किया जा रहा है कि युवाओं को कोरोना वैक्सीन बताकर लगाया जाएगा।


क्या हो रहा वायरल-


सोशल मीडिया पर एक अखबार की कटिंग जमकर वायरल हो रही है, जिसमें डॉ. बिस्वरूप रॉय चौधरी का बयान है कि ‘युवाओं को कोरोना वैक्सीन बताकर एंटी-फर्टिलिटी का टीका लगाया जाएगा, जिससे संतान नहीं होती है।’


क्या है सच्चाई-


भारत सरकार की संस्था प्रेस इंफॉर्मेशन ब्यूरो (PIB) ने इस वायरल खबर की सत्यता की जांच की है, इस दावे को खारिज किया गया है।

PIB फैक्ट चेक ने अपने ट्वीट में लिखा है कि ‘एक न्यूज़ आर्टिकल में दावा किया जा रहा है कि युवाओं को कोरोना वैक्सीन बताकर एंटी-फर्टिलिटी का टीका लगाया जाएगा। यह दावा फर्जी है।’ PIB ने दोहराया कि कोविड वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित और प्रभावी है। साथ ही सभी लोगों से वैक्सीन से संबंधित अफवाहों पर ध्यान न देने की अपील की है और टीकाकरण कराने की गुजारिश की।




और भी पढ़ें :