अनपढ़, गंवार, नासमझ... हार से बोखलाए ओपी राजभर ने पिछड़ा वर्ग के मतदाताओं को ये क्‍या कह डाला!

Last Updated: शनिवार, 12 मार्च 2022 (16:01 IST)
हमें फॉलो करें
कहा जाता है कि मतदाता ही भगवान है। एक बार उन्‍होंने जो फैसला दे दिया वो सर्वमान्‍य है। लेकिन कुछ नेता ऐसे होते हैं जो जनता जर्नादन को भी नहीं गाली देने से नहीं चूकते हैं। ओपी राजभर उन्‍हीं नेताओं में से एक हैं।

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) गठबंधन के साथ चुनाव लड़े सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) प्रमुख ओपी राजभर ने करारी हार को लेकर पहले ईवीएम पर सवाल उठाया था, अब वे जनता को गाली देते नजर आ रहे हैं।

उन्होंने पिछड़े वर्ग के लोगों को अशिक्षित, गंवार और नासमझ तक कह डाला है। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने यह भी माना कि जनता को समझाने में असफल रहे।

एक टीवी चैनल से बातचीत में उनसे जब हार की वजहों को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, ''हम जिस वोट को अपने साथ लाना चाहते थे, उनमें बड़ी अशिक्षा है, अशिक्षा की वजह से उसे शिक्षा की बात समझ नहीं आती है। नौकरी की बात समझ नहीं आती है। जो कभी बीमार नहीं हुआ या जिस परिवार में कोई हॉस्पिटल नहीं गया उसे हमारी फ्री इलाज की बात समझ नहीं आई। जो हॉस्पिटल आया था उसे समझ आया कि सूद पर पैसा लेना पड़ा, जमीन गिरवी रखनी पड़ी।'

जब उनसे बुलडोजर के मुद्दे पर भाजपा को वोट मिलने को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, ''ये बुलडोजर चलाने वाले लोग, अभी देखा मैंने सोशल मीडिया पर हमारे कुछ बैकवर्ड क्लास के लोग जो अशिक्षित, गंवार हम उनको कहते हैं, नामसमझ आप बुलडोजर पर बैठकर नारा लगा रहे हो उतना समय अपने बच्चे को पढ़ाने में लगा देते। अपने बच्चे को डॉक्टर, मास्टर इंजनीयर बनाने में लगाते।'

ओपी राजभर से जब यह पूछा गया कि जनता ने आपकी बातों को खारिज कर दिया तो उन्होंने कहा, ''जनता मत माने, हमने तो समझाने का प्रयास किया। क्लास में टीचर समझाता है। 50 को पढ़ाता है, सब मेरिट तो नहीं पाते। 2-3 फर्स्ट आ जाते हैं, 10-20 फेल हो जाते हैं।'' उन्होंने कहा कि उनकी अखिलेश यादव से बातचीत हुई है और एक-एक सीट पर समीक्षा की जाएगी कि कहां क्यों हारे और जहां जीते वहां वजह क्या रही।



और भी पढ़ें :