Uttarakhand Election 2022 : राहुल गांधी बोले- आज का राजा जनता की नहीं सुनता, प्रधानमंत्री नहीं राजा हैं मोदी

पुनः संशोधित शनिवार, 5 फ़रवरी 2022 (20:29 IST)
हमें फॉलो करें
किच्छा (उत्तराखंड)। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर महामारी के बीच प्रदर्शनकारी किसानों को एक साल के लिए सड़कों पर छोड़ने का आरोप लगाया और कहा कि भारत में अब एक राजा है जिसे लगता है कि उसके द्वारा निर्णय लिए जाते समय लोगों को चुप रहना चाहिए।

यहां एक रैली में किसानों को संबोधित करते हुए गांधी ने कहा कि कांग्रेस एक ऐसी सरकार देना चाहती है जो किसानों, युवाओं और गरीबों के साथ साझेदारी में काम करे।

उन्होंने यहां 'उत्तराखंडी किसान स्वाभिमान संवाद' रैली को संबोधित करते हुए कहा कि अगर कोई प्रधानमंत्री सभी के लिए काम नहीं करता है तो वह प्रधानमंत्री नहीं हो सकता। उस हिसाब से नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री नहीं हैं।
मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली संप्रग सरकार का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि किसानों ने कर्ज माफी के लिए उनसे संपर्क किया और यह 10 दिन के भीतर किया गया तथा उन्हें 70,000 करोड़ रुपये की कर्ज माफी दी गई।

गांधी ने कहा कि यह कोई मुफ्त उपहार नहीं था। हमने ऐसा इसलिए किया क्योंकि आप देश के लिए 24 घंटे काम करते हैं।
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस ने कभी किसानों के लिए अपने दरवाजे बंद नहीं किए... हम किसानों, गरीबों, मजदूरों के साथ साझेदारी में काम करना चाहते हैं ताकि हर वर्ग को लगे कि यह उनकी सरकार है।

उन्होंने कहा कि मोदी ने एक साल के लिए कोविड और ठंड के बीच किसानों को सड़कों पर छोड़ दिया तथा शिकायतों को सुनने के लिए किसानों को आमंत्रित नहीं किया। गांधी ने आरोप लगाया कि भारत में आज प्रधानमंत्री नहीं है। इसका एक राजा है जो मानता है कि जब राजा निर्णय लेता है तो बाकी सभी को चुप रहना चाहिए।
समाज में धन के अंतर का उल्लेख करते हुए कांग्रेस नेता ने "दो भारत" होने की बात कही। उन्होंने कहा कि इस तरह की आय असमानता "कहीं और नहीं देखी जाती है। उन्होंने कहा कि हमारे पास एक अमीर उद्योगपतियों, पांच सितारा होटलों और मर्सिडीज कारों का भारत है और दूसरा गरीबों एवं बेरोजगारों का भारत है जहां महंगाई बढ़ रही है। लगभग 100 लोगों के एक चुनिंदा समूह के पास भारत की 40 प्रतिशत आबादी के बराबर संपत्ति है। ऐसी आय असमानता कहीं और नहीं देखी जाती है।
गांधी ने कहा कि हम दो भारत नहीं बल्कि एक भारत चाहते हैं। हम चाहते हैं कि अन्याय समाप्त हो।
उन्होंने कृषि कानूनों का विरोध करने के मुद्दे पर किसानों को बधाई दी, जिन्हें अंततः भाजपा नीत केंद्र सरकार ने रद्द कर दिया था। गांधी ने कहा कि कांग्रेस किसानों के संघर्ष में उनके साथ खड़ी है क्योंकि उनके साथ अन्याय हो रहा है।

के लिए कांग्रेस के प्रचार प्रमुख हरीश रावत और पार्टी की राज्य इकाई के प्रमुख गणेश गोदियाल ने रैली में राहुल गांधी के साथ मंच साझा किया। चुनाव की तारीखों की घोषणा के बाद राज्य में यह राहुल की पहली रैली थी। उत्तराखंड में 14 फरवरी को मतदान होगा। (भाषा)



और भी पढ़ें :