जौनपुर की 9 सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला

संदीप श्रीवास्तव|
हमें फॉलो करें
जौनपुर जिले में 9 विधानसभा क्षेत्र हैं जिन पर पिछले विधानसभा चुनाव 2012 में 7 सीटों पर अकेले समाजवादी पार्टी का कब्जा हुआ था व 1-1 सीट भारतीय जनता पार्टी व कांग्रेस पार्टी के खाते में गई थी जिसने सपा सरकार के जिले को 3 मंत्री भी दिए थे लेकिन जिले के विकास पर नजर डाली जाए तो शायद विकास के नाम पर किसी ने कुछ भी नहीं किया, जो सपा के लिए इस चुनाव में चिंता का विषय हो सकता है।
जिले की सभी 9 सीटों पर अपना कब्जा करने के लिए सभी बड़े राजनीतिक दल पूरी ताकत लगाए हुए हैं और दावा भी कर रहे हैं। चाहे वो भाजपा, बसपा या फिर सपा+कांग्रेस हो। वहीं लोकदल भी पीछे नहीं है।
 
किंतु इस क्षेत्र में इस बार के चुनाव में नवनिर्मित छोटे दल भी किसी से कम नहीं दिख रहे। उनकी पार्टी से भी बड़े-बड़े दिग्गज चुनाव मैदान में बड़े दलों को बड़ी टक्कर दे रहे हैं जिससे राजनीतिक समीकरण भी बिगड़ा हुआ है, जबकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, मुख्यमंत्री अखिलेश यादव व बसपा सुप्रीमो मायावती सभी ने बड़ी-बड़ी जनसभाएं भी की हैं।
 
लेकिन मतदाता है कि चुपचाप सब देख रहा है और शांत है। जिले में कुल 31 लाख 58 हजार 226 मतदाता हैं जिसमें पुरुष मतदाता 16 लाख 80 हजार 453 व महिला मतदाता 14 लाख 77 हजार 651 हैं जिन्हें फैसला करना है। 
 
इसे विधानसभावार भी देखा जा सकता है। बदलापुर सीट पर कुल 13 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं लेकिन मुख्य रूप से मुकाबला बसपा के लालजी यादव, भाजपा के रमेश मिश्रा, सपा-कांग्रेस के विधायक ओमप्रकाश दुबे के बीच है लेकिन रालोद के कुं. मृगेंद्र सिंह भी हैं। शाहगंज विधानसभा से प्रदेश सरकार में मंत्री शैलेन्द्र यादव ललाई, भासपा+भाजपा के राणा अजीत प्रताप सिंह, बसपा के डॉ. ओपी सिंह के बीच मुकाबला है।
 
जौनपुर सीट पर बसपा के दिनेश टंडन, सपा+कांग्रेस के नदीम जावेद, भाजपा के गिरीश यादव हैं। यहां सपा-कांग्रेस की पकड़ मजबूत दिख रही है लेकिन भाजपा को भी हल्का नहीं समझा जा सकता है। 
 
मल्हनी सीट से प्रदेश सरकार में मंत्री पारस यादव के सामने पूर्वांचल के बाहुबली कहे जाने वाले व पूर्व सांसद व पूर्व विधायक धनंजय सिंह निषाद पार्टी से हैं तो भाजपा के सतीश सिंह व बसपा के विवेक यादव मैदान में हैं। इसी सीट पर धनंजय सिंह निर्दलीय चुनाव लड़कर विधायक रह चुके हैं। मुंगरा बादशाहपुर से भाजपा की 3 बार विधायक रह चुकीं सीमा द्विवेदी, कांग्रेस के अजय दुबे, बसपा की सुषमा पटेल व आरएलडी के चक्रपाणी हैं।
 
मछली शहर सुरक्षित सीट पर भी प्रदेश सरकार में मंत्री जगदीश सोनकर, भाजपा की अनिता रावत, बसपा की सुशीला सरोज मैदान में हैं। मडियाहू सीट पर माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की पत्नी सीमा सिंह अपना दल कृष्ण गुट से, भाजपा की लीना तिवारी, बसपा के भोलेनाथ शुक्ल, व सपा की विधायक श्रद्धा यादव के बीच मुकाबला है।



और भी पढ़ें :