भारत पाक मैच में होंगे तटस्थ देशों के अंपायर, पूरे टी-20 विश्वकप में भारत का सिर्फ यह अंपायर दिखेगा

Last Updated: शुक्रवार, 8 अक्टूबर 2021 (18:47 IST)
दुबई: अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने आगामी पुरुष के राउंड वन और सुपर 12 चरण के लिए गुरुवार को 20 मैच अधिकारियों की नियुक्ति की घोषणा की, जिसमें मैच अंपायरों में एकमात्र भारतीय हैं। अनुभवी दक्षिण अफ्रीकी मराइस इरासमस और इंग्लैंड के क्रिस गाफाने भारत और पाकिस्तान के बीच 24 अक्टूबर को होने वाले मैच के दो मैदानी अंपायर होंगे जबकि रिचर्ड इलिंगवर्थ टीवी अधिकारी होंगे। डेविड बून मैच रैफरी होंगे।

टी20 विश्व कप के लिए 16 अंपायर और चार मैच रैफरियों को चुना गया है। 45 मैच के टूर्नामेंट में तीन अंपायर – अलीम डार, इरासमस और रॉड टकर – ऐसे होंगे, जो अपने छठे पुरुष टी20 विश्व कप में अधिकारी होंगे। मस्कट (ओमान), अबुधाबी, शारजाह और दुबई (संयुक्त अरब अमीरात) में 17 अक्टूबर से 14 नवंबर तक चलने वाले टूर्नामेंट के लिए चार मैच रैफरियों में पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज जवागल श्रीनाथ भी शामिल हैं। सेमीफाइनल और फाइनल के लिए मैच अधिकारियों की घोषणा आने वाले समय में की जाएगी।

आईसीसी ने कहा कि मैच अधिकारियों के 20 मजबूत ग्रुप का मतलब है कि कोविड-19 महामारी शुरू होने के बाद पहली बार टूर्नामेंट के सभी मैचों के लिए तटस्थ अंपायर होंगे। श्रीलंका के कुमार धर्मसेना आईसीसी पुरूष क्रिकेट विश्व कप 2019 के फाइनल में मौजूद मैदानी अंपायरों में से एक थे। वह टूर्नामेंट के पहले मैच में न्यूजीलैंड के क्रिस गाफाने के साथ होंगे जिसमें ओमान का सामना पापुआ न्यू गिनी से होगा।

आईसीसी के अंपायरों और रैफरियों के सीनियर मैनेजर एड्रियन ग्रिफिथ ने कहा, ‘‘हमें आईसीसी पुरूष टी20 विश्व कप के लिए दुनिया के कुछ शीर्ष अधिकारियों को नियुक्त करके खुशी हो रही है जिसमें 16 अंपायर और चार मैच रैफरी शामिल हैं।’’

पिछले साल ही हुए थे एलीट अंपायरो में शामिल

भारत के युवा अंपायर नितिन मेनन को इंग्लैंड के नाइजेल लोंग की जगह 2020-21 सत्र के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के अंपायरों की एलीट पैनल में शामिल किया गया था।

आईसीसी के महाप्रबंधक (क्रिकेट) ज्योफ अलार्डिस (अध्यक्ष), पूर्व खिलाड़ी और कमेंटेटर संजय मांजरेकर और मैच रेफरियों रंजन मदुगले एवं डेविड बून की चयन समिति ने मेनन का चुनाव किया था।

पूर्व अंतरराष्ट्रीय अंपायर नरेन्द्र मेनन के बेटे मेनन ने मध्य प्रदेश के लिए दो लिस्ट-ए मुकाबले खेले है। उन्होंने कहा था, ‘मेरे पिता एक पूर्व अंतरराष्ट्रीय अंपायर हैं और 2006 में बीसीसीआई ने लगभग 10 साल के बाद अंपायरों के लिए एक परीक्षा आयोजित की थी।’ उन्होंने कहा था, ‘मेरे पिता ने मुझे परीक्षा देने के लिए प्रोत्साहित करते हुए कहा कि अगर मैं इसमें सफल रहा तो कभी भी एक पेशे के रूप में अंपायरिंग कर सकता हूं। इसलिए मैंने परीक्षा दिया और 2006 में मैं अंपायर बन गया।’

मेनन पिछले 13 साल से अंपायरिंग कर रहे है। उन्होंन कहा था, ‘मेरी प्राथमिकता अंपायरिंग की बजाय देश के लिए खेलना थी। मैंने हालांकि 22 साल की उम्र में खेलना छोड़ दिया था और 23 साल की उम्र में सीनियर अंपायर बन गया था। एक साथ खेलना और अंपायर करना संभव नहीं था इसलिए मैंने सिर्फ अंपायरिंग पर ध्यान देने का फैसला किया।’

मैच रैफरी : डेविड बून, जेफ क्रो, रंजन मदुगले, जवागल श्रीनाथ

अंपायर : क्रिस ब्राउन, अलीम डार, कुमार धर्मसेना, मराइस इरासमस, क्रिस गाफोन, माइकल गॉ, एड्रियन होल्डस्टॉक, रिचर्ड इलिंगवर्थ, रिचर्ड केटलबोरो, नितिन मेनन, अहसन रजा, पॉल रिफेल, लैंगटन रूसेरे, रॉड टकर, जोएल विल्सन, पॉल विल्सन।



और भी पढ़ें :