राहुल द्रविड़ की टीम इंडिया, हर खिलाड़ी का एक कारण के तहत किया गया चयन

Last Updated: बुधवार, 10 नवंबर 2021 (18:42 IST)
राहुल द्रविड़ ने जो सुझाव चयनकर्ता चेतन शर्मा को दिए थे उन पर पूरी तरह अमल किया गया। रोहित शर्मा को मंगलवार को औपचारिक रूप से विराट कोहली की जगह न्यूजीलैंड के खिलाफ होने वाली तीन मैचों की श्रृंखला के लिए भारतीय टी20 टीम का नया कप्तान चुना गया। > राहुल द्रविड़ भारतीय क्रिकेट में दूरदृष्टी रखते हैं। एक साल बाद के लिए वह आज से ही तैयारी करने वाले क्रिकेटर के रूप में जाने जाते हैं। इसका असर चयन प्रक्रिया में भी दिखा। एक साल बाद ऑस्ट्रेलिया में टी-20 विश्वकप खेला जाना है।> राहुल द्रविड़ ने पहला कदम यह उठाया है कि जो गलतियां इस विश्वकप में हुई वो ऑस्ट्रेलिया में ना हों। इस कारण बड़े नाम की जगह फॉर्म को तरजीह दी गई।

टी-20 क्रिकेट में युवा जोश काफी महत्वपूर्ण होता है इस कारण दर्जन भर युवा चहरों को टीम में अभी से मौका दिया गया है ताकि अगले साल तक वह टीम के माहौल से अभ्यसत हो जाएं।

आईपीएल में शानदार प्रदर्शन के बाद रुतुराज (635 रन), हर्षल (32 विकेट), आवेश (24 विकेट) और वेंकटेश (370 रन और तीन विकेट) को सर्वसम्मति से चुना गया।

भारत की 16 सदस्यीय टीम में इंडियन प्रीमियर लीग 2021 में सर्वाधिक रन बनाने वाले रुतुराज गायकवाड़ और सबसे अधिक विकेट चटकाने वाले हर्षल पटेल को भी शामिल किया गया है।

रोहित शर्मा (कप्तान)-  टी 20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 3000 रन बनाने वाले रोहित शर्मा को कप्तानी सौंपी गई क्योंकि उनका कप्तानी रिकॉर्ड खासा अच्छा है। उन्होंने 10 टी-20 मैचों में भारत को 8 में जीत दिलाई है। इसके अलावा आईपीएल में वह अपनी फ्रैंचाइजी मुंबई को 5 बार जीत दिला चुके हैं।

रोहित शर्मा 116 मैचों में 3038 रन बना चुके हैं। अब तक की जानकारी के मुताबिक वह सलामी बल्लेबाजी ही करेंगे।

केएल राहुल ( उपकप्तान)- रोहित शर्मा अगर किसी मैच में उपलब्ध नहीं रहते तो केएल राहुल को कप्तानी सौंपी जाएगी। राहुल आईपीएल में पंजाब किंग्स की कप्तानी कर चुके हैं। टी-20 विश्वकप में खराब शुरुआत के बाद केएल राहुल ने अफगानिस्तान, स्कॉटलैंड और नामीबिया के खिलाफ अर्धशतक लगाए। उनके फॉर्म के कारण उन्हें जगह दी गई।

सूर्यकुमार यादव- सूर्यकुमार यादव से टी-20 विश्वकप में जो अपेक्षाएं थी वह वो पूरी नहीं कर पाए लेकिन वह द्रविड़ के विश्वास पात्र हैं और काफी युवा हैं। इंग्लैंड के खिलाफ धमाकेदार अर्धशतक लगाने वाले सूर्यकुमार यादव भी ऑस्ट्रेलिया में होने वाले विश्वकप की योजना में है। इस कारण उन्हें टीम में जगह दी गई है।

ईशान किशन- जैसा सूर्यकुमार का प्रदर्शन रहा ठीक वैसे ही टी-20 विश्वकप में ईशान किशन ने भी निराश किया। हालांकि उन्हें एक ही मौका मिला लेकिन वह उसे भुना नहीं पाए। तेजी से रन बनाने के लिए मशहूर ईशान ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 विश्वकप में टीम के काम आएंगे इस कारण एक और युवा चेहरे को टीम में रखा गया। वह समय पड़ने पर विकेटकीपिंग भी कर सकते हैं।

ऋषभ पंत- अफगानिस्तान के खिलाफ तेजी से रन बनाने वाले ऋषभ पंत ने पाकिस्तान के खिलाफ औसत और न्यूजीलैंड के खिलाफ खराब बल्लेबाजी की थी। लेकिन पंत ने इस साल दिखाया है कि वह किस स्तर के क्रिकेटर हैं। अब तक खेले 38 मैचों में वह 590 रन बना चुके हैं।

श्रेयस अय्यर- दिल्ली कैपिटल्स के पूर्व कप्तान श्रेयस अय्यर को मध्यक्रम में स्थिरता प्रदान करने के लिए टीम में रखा गया है। वह टीम के थोड़े सीनियर खिलाड़ी की भूमिका में दिख सकते हैं। आईपीएल 2021 में 8 मैचों में उन्होंने 175 रन बनाए। अब तक भारत के लिए खेले 29 टी-20 मैचों में वह 550 रन भी बना चुके हैं।

रुतुराज गायकवाड़-आईपीएल 2021 की विजेता टीम चेन्नई सुपर किंग्स के सलामी बल्लेबाज ऋतुराज गायकवाड़ को टीम में शामिल किया गया है। इस सत्र में गायकवाड़ ने 16 मैचों में 45 की औसत से 635 रन बनाए। इसमें 4 अर्धशतक और राजस्थान के खिलाफ लगाया गया विस्फोटक शतक (101) शामिल है। इस सत्र में उन्होंने कुल 64 चौके और 23 छक्के लगाए। पारी को तेज गति देने का काम गायकवाड़ को सौंपा गया जो उन्होंने बखूबी निभाया। फाइनल मैच में उन्होंने केएल राहुल से औरेंज कैप छीन ली थी। ऋतुराज श्रीलंका श्रृंखला के दौरान भारत की ओर से पदार्पण कर चुके हैं।

वेंकटेश अय्यर-आईपीएल 2021 की उपविजेता टीम कोलकाता नाइट राइडर्स के सलामी बल्लेबाज वेंकटेश अय्यर को न्यूजीलैंड के खिलाफ टी-20 टीम में मौका दिया गया।

अगर यह कहा जाए कि सलामी बल्लेबाज वैंकटेश अय्यर के कारण ही कोलकाता की टीम आईपीएल 2021 के प्लेऑफ में पहुंची तो अतिशियोक्ति नहीं होगी।10 मैचों में अय्यर ने 41 की औसत से 370  रन बनाए जिसमें उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 67 रनों का रहा। इस सत्र में उन्होंने 4 अर्धशतक लगाए और उन्होंने 3 विकेट भी चटकाए।

युजवेंद्र चहल- टी-20 विश्वकप में भारतीय टीम में शामिल नहीं हो पाए युजवेंद्र चहल को टीम में शामिल किया गया है। ऑस्ट्रेलिया दौरे पर पहले टी-20 में युजवेंद्र चहल मैन ऑफ द मैच बने थे। यह भी टीम मैनेजमेंट के ध्यान में है। युजवेंद्र चहल भारत के दूसरे सबसे सफल टी-20 गेंदबाज हैं। चहल ने 49 मैचों में 63 विकेट लिये हैं।

रविचंद्रन अश्विन-सिर्फ रविचंद्रन अश्विन इकलौते ऐसे खिलाड़ी है जो काफी सीनियर हैं और न्यूजीलैंड के खिलाफ टी-20 सीरीज में शामिल हैं। टी-20 विश्वकप में रविचंद्रन अश्विन को देर से मौका मिला लेकिन उन्होंने 3 मैचों में सिर्फ 63 रन देकर और 6 विकेट लेकर अपनी महत्ता बताई। रविचंद्रन अश्विन ने भारत के लिए टी-20 विश्वकप में अब तक सबसे ज्यादा विकेट लिए हैं। उन्होंने 4 विश्वकप के 18 मैचों में टीम इंडिया के लिए 15.40 की औसत से 26 विकेट लिए हैं।

अक्षर पटेल-  स्पिनर अक्षर पटेल ने भी आईपीएल 2021 में दिल्ली कैपिटल्स के लिए खासा अच्छा प्रदर्शन किया था। उन्होंने गेंद से 15 विकेट निकाले। वहीं निचले क्रम में वह जड़ेजा की तरह तेजी से रन बना सकते हैं। टीम मैनेजमेंट ने उनको और ज्यादा मौके देने का मन बनाया है।

आवेश खान- आवेश तेज गति से गेंदबाजी करने में सक्षम है और आईपीएल 2021 के सत्र में  दिल्ली कैपिटल्स की ओर से 16 मैचों में 24 विकेट चटकाए हैं। वह सर्वाधिक विकेट चटकाने वाले गेंदबाजों की सूची में हर्षल पटेल (32 विकेट) के साथ दूसरे स्थान पर रहे। नेट गेंदबाज के रूप में वह भारत की टी20 विश्व कप टीम से भी जुड़े थे और दूसरा मैच हारने के बाद सैयद मुश्ताक ट्रॉफी के लिए स्वदेश रवाना हुए थे।

भुवनेश्वर कुमार-तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार को संभवत: खुद को साबित करने का आखिरी मौका मिला है। वह अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के करीब भी नहीं हैं लेकिन तेज गेंदबाजी आक्रमण में अनुभव की कमी को देखते हुए उन्हें बरकरार रखा गया है।

दीपक चाहर- टी-20 अंतरराष्ट्रीय में सबसे बेहतरीन गेंदबाजी फिगर और हैट्रिक लेने वाले भारतीय तेज गेंदबाज दीपक चाहर को भी टीम में शामिल किया गया है। उनके पास ओस में सटीक गेंदबाजी करने की कला है। इस कारण उन्हें टीम में शामिल किया गया है।

मोहम्मद सिराज- मोहम्मद सिराज टेस्ट क्रिकेट में भारत के अभिन्न अंग बन चुके हैं खासकर टेस्ट क्रिकेट में । अगला विश्वकप ऑस्ट्रेलिया में है और ऑस्ट्रेलिया में उनका शानदार प्रदर्शन रहा है। इस कारण उन्हें टीम में शामिल किया गया है। अभी वह 3 टी-20 मैचों में सिर्फ 3 विकेट ही ले पाए हैं, लेकिन उनकी प्रतिभा को तराशने के मूड में द्रविड़ दिख रहे हैं।

हर्षल पटेल- इस सीजन रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की खोज रहे पर्पल कैप होल्डर हर्षल पटेल को भी न्यूजीलैंड टीम के खिलाफ टी-20 सीरीज में शामिल किया गया है। पहले मैच में मुंबई के खिलाफ उन्होंने किसी भी सीजने के पहले मैच में 5 विकेट लेने का रिकॉर्ड बनाया। टूर्नामेंट अंत होते होते वह रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और किसी भी गेंदबाज द्वारा आईपीएल में विकटों के लिहाज से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर गए। उन्होंने 15 मैचों में 14 की औसत से 32 विकेट चटकाए।



और भी पढ़ें :