मीम्स पर बोले रवि शास्त्री, 'मेरे कारण लोग हंसें इससे बेहतर और क्या', ऐसा रहा कोचिंग का सफर

Last Updated: मंगलवार, 9 नवंबर 2021 (20:12 IST)
हमें फॉलो करें
दुबई:रवि शास्त्री इस बात से अच्छी तरह से वाकिफ हैं भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान सोशल मीडिया पर उन्हें मजाकिया अंदाज में पेश किया जाता था लेकिन इस पूर्व आलराउंडर ने कहा कि अगर उनके कारण लोग हंसते हैं तो फिर उन्हें कोई दिक्कत नहीं है।

इस 59 वर्षीय पूर्व क्रिकेटर का मुख्य कोच के रूप में कार्यकाल नामीबिया के खिलाफ सोमवार को टी20 विश्व कप में भारत के आखिरी मैच के साथ समाप्त हो गया। इस दौरान सोशल मीडिया पर अक्सर उनकी टांग खींची जाती थी।

शास्त्री ने मीडियाकर्मियों से कहा, ‘‘हर तरफ मजाक चलता रहता है। वे मेरे नाम पर हंसते हैं, मजा करते हैं। क्या फर्क पड़ता है। मैं नींबू पानी पीऊंगा या मेरे पास दूध और शहद होगा, लेकिन आप ड्रिंक करो। मेरे नाम पर मजे करो न।’’

उन्होंने कहा, ‘‘जब आप इस तरह की चीजें पोस्ट करते हैं तो कितने जन (लोग) हंसते हैं यार, कितने जन खुश होते हैं। ‘एंज्वाय’ (मजा) करो ना यार। जब तक टीम अच्छा प्रदर्शन करती है, मैं खुश हूं।’’

भारत की हार के बाद अक्सर होने वाली आलोचना के बारे में शास्त्री ने कहा, ‘‘ आलोचना। यह प्रदर्शन पर निर्भर करता है। अच्छा करो तो आपकी प्रशंसा होगी, अच्छा प्रदर्शन नहीं करो तो आपको लताड़ दिया जाएगा। शांति रखो। ओम शांति ओम।’’
शास्त्री के कार्यकाल में टीम इंडिया ने गाड़े झंड़े

विराट कोहली तो सिर्फ कप्तानी से ही विदाई ले रहे हैं लेकिन रवि शास्त्री तो भारतीय टीम की कोचिंग से ही विदाई ले रहे हैं। इसका मतलब यह है कि अब वह किसी फॉर्मेट में भारतीय टीम की कोचिंग करते हुए नहीं दिखेंगे। उनका स्थान जल्द ही राहुल द्रविड़ लेने वाले हैं।

रवि शास्त्री के कार्यकाल में टीम इंडिया ने नित नई उपलब्धियां हासिल की। हाल ही में भारतीय टीम का में कार्यकाल पूरा हुआ है तो टी-20 मैचों के प्रदर्शन पर ही नजर डाल लेते हैं।



रवि शास्त्री के कार्यकाल के दौरान टीम इंडिया 64 टी-20 मैच खेली जिसमें से 42 में भारतीय टीम को जीत मिली और 18 में हार का सामना करना पड़ा। 2 मैच टाई रहे और 2 बेनतीजा रहे।

वहीं वनडे क्रिकेट में शास्त्री की कोचिंग में भारतीय टीम 76 मैच खेली जिसमें से 51 वनडे में जीत हासिल हुई और सिर्फ 22 वनडे में टीम हारी। 2 मैच टाई रहे और 1 मैच का नतीजा नहीं निकला।

टेस्ट की बात करें तो कुल 43 टेस्ट मैच भारतीय टीम ने शास्त्री की कोचिंग में खेले। इसमें से 25 टेस्ट मैचों में जीत मिली और 13 मैचों में टीम इंडिया को हार मिली। 5 मैच ड्रॉ हुए।

अगर तीनों फॉर्मेट को मिला दिया जाए तो यह कह जा सकता है कि रवि शास्त्री के कोचिंग का सफर शानदार रहा। इन 183 मैचों में भारतीय टीम 118 मैचों में जीत दर्ज कर पायी। सिर्फ 53 मैचों में भारत को हार का सामना करना पड़ा। 5 (टेस्ट) मैच ड्रॉ रहे और कुल 4 मैच टाई रहे और 3 मैचों का नतीजा नहीं निकल पाया।



और भी पढ़ें :