0

पितृ पक्ष भोग : शाही मालपुए

रविवार,अक्टूबर 3, 2021
0
1
सर्वप्रथम दूध को एक मोटे तल वाले बर्तन में गाढ़ा होने तक उबालें। तत्पश्चात उसमें शक्कर डालकर अच्छी तरह मिलाएं और पूरी तरह गाढ़ा होने दें। ऊपर से इलायची व मेवा की कतरन डाल दें।
1
2
आश्विन कृष्ण अष्‍टमी को गजलक्ष्मी या महालक्ष्मी व्रत का बहुत महत्व है। श्राद्ध महालय के दौरान आने वाली इस अष्टमी के दिन धन की देवी महालक्ष्मी को इस खीर का नैवेद्य
2
3
दूध को मोटे तले वाले बर्तन में लेकर गरम करके 10-15 उबाल लेकर पका लें। अब चावल का पूरा पानी निथार कर दूध में डाल दें। बीच-बीच में चलाती रहें।
3
4
सबसे पहले एक प्रेशर कुकर में चने की दाल को अच्छी तरह से धोकर, दाल से डबल पानी लेकर कम आंच पर 30 से 35 मिनट पकने दें। 2-3 सीटी लेने के बाद गैस बंद कर दें।
4
4
5
लोकदेवता तेजाजी महाराज को तेजा दशमी के दिन एक विशेष भोग लगाया जाता है। इसमें पूजन के बाद उन्हें चूरमा चढ़ाने की मान्यता है। पढ़ें पारंपरिक शाही मीठा चूरमा बनाने की सरल विधि-
5
6
गणेशोत्सव के दस दिनों में भगवान श्री गणेश को अलग-अलग पकवानों को भोग लगाया जाता है। अत: गणेश पूजा के अवसर पर भगवान श्री गणेश को मोदक और लड्‍डूओं का भोग अवश्य लगाना चाहिए, क्योंकि यह उनके सबसे प्रिय व्यंजन है। यहां पढ़ें 5 खास प्रसाद-
6
7
हरितालिका तीज एक हिंदू त्योहार है, जो उत्तरी-पश्चिमी भारत में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है, इस पर्व में कई तरह के व्यंजन बनाए जाते हैं और इस त्योहार को सेलिब्रेट किया जाता है। यहां पढ़ें तीज के खास मौके पर किन-किन पकवानों को बनाया जा सक‍ता है। पढ़ें ...
7
8
9 सितंबर को हरतालिका तीज का पर्व मनाया जा रहा है। आप इस खास त्योहार के दिन घर पर ही कुछ खास पकवान बनाकर त्योहार की मिठास को और बढ़ा सकती हैं और अपने परिवार वालों का दिल जीत सकती हैं। अगर आप भी तीज के खास मौके पर कुछ खास पकवान बनाना चाहती हैं तो आपके ...
8
8
9
पौराणिक शास्त्रों में भाद्रपद अमावस्या के दिन धार्मिक कार्यों के निमित्त कुशा या घास इकट्ठी करने की मान्यता है। इसे भाद्रपद अमावस्या को पिठौरा, कुशोत्पाटनी, कुशग्रहणी अमावस्या, पोला पर्व आदि नामों से भी जाना जाता है
9
10
जन्माष्टमी के दिन प्रसाद के रूप में भगवान श्री कृष्ण को नैवेद्य या भोग में कई तरह के विशेष पकवान अवश्‍य चढ़ाना चाहिए। यहां पढ़ें 5 खास भोग...
10
11
धनिया पंजीरी भगवान श्री कृष्ण के प्रिय भोग में शामिल है। कोई भी भोग या प्रसाद बनाने के लिए हमेशा शुद्धता और स्वच्छता पर ध्यान देना चाहिए। यहां पढ़ें धनिया की पंजीरी बनाने का सरल तरीका...
11
12
रक्षाबंधन का मौसम हो और पकवानों की बात न हो, यह भला कैसे संभव है? यहां आपके लिए पेश हैं अलग-अलग तरह की मिठाई बनाने की आसान विधियां...
12
13
राखी के इस खास पर्व पर आप इन मिठाइयों को अपने हाथों से बनाकर अपने भाई को खिलाएंगी तो उन्हें बहुत खुशी होगी। आइए जानें 5 पारंपरिक व्यंजन की आसान रेसिपी....
13
14
कड़ाही में घी लेकर उसमें पिसी उड़द की दाल डाल कर धीमी आंच पर गुलाबी होने तक सेंक लें। तत्पश्चात उसमें मेवों का पिसा पाउडर डालें और नारियल बूरा भी डाल दें। अब 5-7 मिनट धीमी आंच पर सेंक लें।
14
15
इस नागपंचमी पर बनाएं पारंपरिक शाही मीठा चूरमा। भगवान शिव और नाग देवता प्रसन्न होकर देंगे वरदान...
15
16
खीर बनाने से एक-दो घंटे पूर्व चावल धोकर पानी में गला दें। दूध को मोटे तले वाले बर्तन में लेकर गरम करके 10-15 उबाल लेकर पका लें। अब चावल का पूरा पानी निथार कर दूध में डाल दें।
16
17
भारत का लोकप्रिय पकवान 'मालपुआ' एक पारंपरिक भारतीय मिठाई है। भगवान भोलेनाथ को इसका भोग लगाने से वे अतिप्रसन्न होते हैं। अमावस्या पर भोलेनाथ को लगाएं मालपूए का भोग...
17
18
किसी भी अमावस्या पर भगवान शिवजी को खीर का भोग लगाने से वे प्रसन्न होकर खुशहाली का आशीष देते हैं। यहां पढ़ें सरल विधि..
18
19
सबसे पहले एक कड़ाही में छोटा आधा चम्मच घी गर्म करें। अब धनिया डालकर धीमी आंच पर भूनें।
19