डोपिंग मामले में लाखों डॉलर का जुर्माना भरना पड़ा था रूस को, जल्द सुलझने की उम्मीद कम

Last Updated: शुक्रवार, 11 दिसंबर 2020 (21:51 IST)
नयी दिल्ली:के अध्यक्ष सेबेस्टियन को ने शुक्रवार को कहा कि वह चाहते हैं कि निलंबित एक ‘जवाबदेह और जिम्मेदार’ सदस्य महासंघ के रूप में वापसी करे लेकिन वह सुनिश्चित नहीं है कि इस देश का डोपिंग से जुड़ा मसला निकट भविष्य में सुलझ पाएगा।

विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी (वाडा) ने रूस के ट्रैक एवं फील्ड एथलीटों में बड़े स्तर पर डोपिंग के सबूत हासिल किये थे। उसकी रिपोर्ट के बाद 2015 में रूस को निलंबित कर दिया गया था।

को से जब पूछा गया कि क्या उन्हें निकट भविष्य में रूसी डोपिंग मसला सुलझने की उम्मीद है, उन्होंने कहा, ‘‘मुझे भविष्य में ऐसी उम्मीद है, मैं पक्के तौर पर नहीं कह सकता हूं। मैं निकट शब्द का उपयोग करूंगा। मैं कोई समय निर्धारित नहीं कर सकता हूं लेकिन हम ऐसा चाहते हैं। ’’
उन्होंने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘यह अच्छा नहीं है कि रूस जैसा देश हमारे खेल में बाहर रहे। मैं चाहता हूं कि रूस जवाबदेही और जिम्मेदारी के साथ पूर्णकालिक सदस्य के तौर पर वापसी करे जो सभी सदस्य महासंघों को स्वीकार हो।’’

ने विश्व एथलेटिक्स से बाहर होने से बचने के लिये अगस्त में लाखों डालर का जुर्माना चुकता किया था।में दो बार के स्वर्ण पदक विजेता को ने कहा, ‘‘मैं आशावान हूं। हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। ’’(भाषा)



और भी पढ़ें :