सिंधू और साइना हुई जर्मन ओपन से बाहर, लड़को ने रखी उम्मीदें बरकरार

Last Updated: शुक्रवार, 11 मार्च 2022 (13:42 IST)
हमें फॉलो करें
मुएलहेम एन डेर रुहर: किदाम्बी श्रीकांत और एच एस प्रणय ने गुरुवार को यहां सुपर 300 बैडमिंटन टूर्नामेंट के पुरुष एकल के क्वार्टर फाइनल में जगह बनायी लेकिन महिला एकल में ओलंपिक में दो बार की पदक विजेता पीवी सिंधू और लंदन ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता को हार का सामना करना पड़ा।

कृष्ण प्रसाद गरगा और विष्णुवर्धन गौड़ पंजाला की भारतीय पुरुष युगल जोड़ी भी अंतिम आठ में पहुंचने में सफल रही।विश्व के पूर्व नंबर एक खिलाड़ी और यहां आठवीं वरीयता प्राप्त श्रीकांत ने एक घंटे सात मिनट तक चले पुरुष एकल के दूसरे दौर के मैच में चीन के लू गुआंग झू पर 21-16, 21-23, 21-18 से जीत दर्ज की।

विश्व चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता श्रीकांत का अगला मुकाबला डेनमार्क के ओलंपिक चैंपियन और शीर्ष वरीयता प्राप्त विक्टर एक्सेलसन से होगा, जिन्होंने एक अन्य मैच में फ्रांस के तोमा जूनियर पोपोव को 21-17, 21-10 से हराया।

प्रणय ने भी रोमांचक मुकाबले में हांगकांग के ली चेयुक इयु को 21-19, 24-22 से हराकर क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया। उनका अगला मुकाबला भारत के लक्ष्य सेन और इंडोनेशिया के चौथे वरीय एंथोनी सिनिसुका गिनटिंग के बीच होने वाले मैच के विजेता से होगा।

विश्व चैंपियनशिप 2019 की विजेता और यहां सातवीं वरीयता प्राप्त सिंधू दूसरे दौर में 55 मिनट तक चले मैच में चीन की कम रैंकिंग की खिलाड़ी झांग यी मैन से 14-21, 21-15, 14-21 से हार गयी।फिटनेस से जुड़े मुद्दों से जूझ रही साइना को थाईलैंड की आठवीं वरीयता प्राप्त रतचानोक इंतानोन के खिलाफ एकतरफा मुकाबले में 10-21, 15-21 से हार का सामना करना पड़ा।

पुरुष युगल में कृष्ण और विष्णुवर्धन की जोड़ी ने हमवतन ईशान भटनागर और साई प्रतीक के पर एक घंटे तीन मिनट में 23-21, 16-21, 21-14 से जीत दर्ज की।

श्रीकांत ने दुनिया में 27वें नंबर के गुआंग झू के खिलाफ शानदार प्रदर्शन किया। भारतीय खिलाड़ी ने अच्छी शुरुआत करके 8-3 की बढ़त बनायी, लेकिन लू ने अच्छी वापसी की। ब्रेक तक श्रीकांत 11-10 से आगे थे। इसके बाद एक समय स्कोर 14-14 था। श्रीकांत ने इसके बाद लगातार चार अंक बनाये और फिर पहला गेम अपने नाम किया।

श्रीकांत दूसरे गेम में शुरू में पिछड़ने के बाद 15-11 की बढ़त बनाने में सफल रहे, लेकिन लू ने हार नहीं मानी और एक मैच प्वाइंट बचाकर मुकाबले को बराबरी पर ला दिया।

तीसरे और निर्णायक गेम में श्रीकांत 10-5 से आगे थे। हालांकि लू ने एक समय स्कोर 15-14 कर दिया लेकिन भारतीय खिलाड़ी ने जल्द ही लय पकड़ी और अपने इस प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ अपना करियर रिकार्ड 3-0 कर दिया।

इससे पहले सिंधू के लिये यूरोपीय चरण की शुरुआत निराशाजनक रही। वह अगले सप्ताह से शुरू होने वाली ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप में खिताब के दावेदारों में शामिल है।

भारतीय खिलाड़ी शुरू में लय हासिल नहीं कर पायी तथा झांग ने पहले 5-5 से बराबरी की और फिर लगातार छह अंक बनाकर 11-5 से बढ़त बना दी। उन्होंने इसके बाद अच्छा खेल जारी रखा और पहला गेम आसानी से अपने नाम किया।

सिंधू ने दूसरे गेम में वापसी की। वह ब्रेक के समय 11-10 से आगे थी और इसके बाद उन्होंने यह गेम जीतकर मुकाबले को बराबरी पर ला दिया।लेकिन चीनी खिलाड़ी ने निर्णायक गेम में फिर से लय हासिल की और ब्रेक तक 11-8 से बढ़त बनाने के बाद आगे भी भारतीय खिलाड़ी को कोई मौका नहीं दिया।(भाषा)



और भी पढ़ें :