0

आज है गुरुनानक की पुण्यतिथि: जानिए उनकी पवित्र जीवनी

मंगलवार,सितम्बर 20, 2022
0
1
Guru Nanak Dev गुरु नानक देव जी ने अपने उपदेशों के जरिए संपूर्ण विश्‍व को एकता और प्यार का पाठ पढ़ाया। वे माता तृप्ता जी और पिता कालू खत्रीजी के सुपुत्र थे। उनकी महानता के दर्शन बचपन से ही उनमें दिखने लगे थे। यहां पढ़ें नानक देव जी के 10 अनमोल ...
1
2
10 Quotes By Guru Nanak Dev . आप सभी सिख धर्म के संस्थापक, महान दार्शनिक गुरु, गुरु नानक देव जी से परिचित है। नानक जी कहते हैं, जो अपने अहंकार को जीतता है और सभी चीजों के एकमात्र द्वार के रूप में भगवान को देखता है, उस व्यक्ति ने 'जीवन मुक्ति' को ...
2
3
guru granth sahib parkash purb गुरु ग्रंथ साहिब सिख समुदाय का एक धार्मिक ग्रंथ है। इसमें सिख गुरुओं द्वारा कही गई बानी का वर्णन है। श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी के प्रकाशोत्सव पर गुरुद्वारा से नगर कीर्तन निकाला जाता है तथा लंगर का आयोजन किया जाता है। यह ...
3
4
Guru Har Krishan Singh श्री गुरु हर किशन या हरकृष्ण साहिब जी सिखों के आठवें गुरु थे। श्री गुरु हर किशन साहब जी का जन्म सन् 1656 ईस्वी में किरतपुर (पंजाब) हुआ था। केवल 5 वर्ष की उम्र में ही सिखों की गुरु गद्दी पर बैठने वाले वे पहले गुरु कहे जा सकते ...
4
4
5
सन् 1656 ई. में सिख धर्म के आठवें गुरु, गुरु हर किशन सिंह जी (Guru Har Krishan) का जन्म कीरतपुर साहिब में गुरु हरि राय जी (सिख धर्म के सातवें गुरु) और माता किशन कौर के यहां हुआ था।
5
6
Guru Arjun dev Singh वैशाख वदी सप्तमी को गोइंदवाल (अमृतसर) में गुरु अर्जुन (अर्जन) देव का जन्म सिख धर्म के चौथे गुरु, गुरु रामदासजी व माता भानीजी के घर हुआ था।
6
7
पीएम नरेंद्र मोदी ने सिखों के नौंवें गुरु, गुरु तेगबहादुर के 400वें प्रकाश पर्व पर लालकिले पर आयोजित एक समारोह के दौरान बलिदान के प्रतीक गुरुद्वारा शीशगंज साहिब का उल्लेख करते हुए कहा कि उस समय देश में मजहबी कट्टरता की आंधी आई थी, जिन्होंने धर्म के ...
7
8
Ninth Sikh Guru सिख धर्म के नौवें गुरु, गुरु तेग बहादुर जी (Guru Teg bahadur) को कौन नहीं जानता। यहां जानिए उनके जीवन की 25 रोचक बातें...
8
8
9
इस वर्ष गुरु तेग बहादुर जी (Guru Tegh Bahadur) का प्रकाश पर्व 21 अप्रैल को मनाया जा रहा है। गुरु तेग बहादुर जी सिखों के नौवें गुरु थे। उन्होंने अपना समस्त जीवन मानवीय सांस्कृतिक विरासत की खातिर बलिदान किया था। उनके अनमोल वचन आज भी हमारे लिए बहुत ...
9
10
बैसाखी पर्व (Baisakhi festival 2022) सिख धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक माना जाता है। यह पंजाबी नववर्ष का प्रतीक भी है। इसे वैशाखी भी कहा जाता है। इस वर्ष बैसाखी पर्व 14 अप्रैल को मनाया जा रहा है।
10
11
प्रतिवर्ष भारतभर में लोहड़ी (Happy Lohri 2022) का पवित्र पर्व बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2022) के एक दिन पहले ही यह पर्व मनाया जाता है। नववर्ष आगमन के कुछ ही दिनों बाद पंजाबी समुदाय का यह खास लोहड़ी का त्योहार
11
12
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार लोहड़ी (Happy Lohri) को दुल्ला भट्टी (dulla bhatti) की एक कहानी (happy lohri story) से भी जोड़ा जाता है। लोहड़ी के सभी गाने दुल्ला भट्टी से ही जुड़े हैं तथा यह भी कह सकते हैं कि
12
13
गुरु गोविंद सिंह (Guru Govind Singh) जी सिखों के 10वें गुरु थे। उनका जन्म बिहार के पटना जिले में हुआ था। गुरु गोविंद जी ने खालासा पंथ (Khalsa Panth) की स्थापना की थी।
13
14
Guru Govind Singh Jee : धर्म, समाज देश की रक्षार्थ अपने अपना सबकुछ न्योछावर करने वाले 10वें गुरु गुरु गोविंद सिंह जो कार्य किया वह अतुलनीय और अकल्पनीय है। आओ जानते हैं गुरुजी की 10 खास विशेषताएं।
14
15
सिख धर्म के 10वें गुरु गुरु गोविंद सिंह ने धर्म की रक्षा के लिए जो कार्य किया उसे कोई भी नहीं भूला सकता है। उनका जन्म पौष माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी को 1666 में हुआ था। अंग्रेजी माह के अनुसार इस बार उनकी जयंती 9 जनवरी 2022 को मनाई जाएगी। आओ जानते ...
15
16
वर्ष 2022 में 9 जनवरी को गुरु गोविंद सिंह (guru gobind singh) जी की जयंती (Birth anniversary) मनाई जाएगी। गुरु गोविंद सिंह जी सिखों के 10वें (10th Guru) गुरु हैं। पौष सुदी सप्तमी के दिन उनका जन्म हुआ था।
16
17
सिख धर्म के 10वें गुरु गुरु गोविंद सिंह ने धर्म की रक्षा के लिए जो कार्य किया उसे कोई भी नहीं भूला सकता है। गुरु गोविंद सिंह जी ने इसके अलावा सिख धर्म को एक स्थापित संगत बनाया और संपूर्ण देश में गुरुओं की परंपरा को आगे बढ़ाया। आओ जानते हैं उनके ...
17
18
सिख धर्म के दसवें (10th Guru) और अंतिम गुरु, गुरु गोविंद सिंह (Guru Gobind Singh) का जन्म पटना साहिब में हुआ था, उनकी याद में वहां एक खूबसूरत गुरुद्वारा बनाया गया है
18
19
गुरु तेग बहादुर सिंह guru teg bahadur को सिख धर्म में क्रांतिकारी युग पुरुष कहा जाता है। गुरु तेग बहादुर सिंह का जन्म पंजाब के अमृतसर में वैशाख कृष्ण पंचमी तिथि को हुआ था
19