यूरोप के सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र Zaporizhzhia पर रूस का कब्जा, जानिए कैसे काम करते हैं Nuclear Plant

Last Updated: शुक्रवार, 4 मार्च 2022 (13:29 IST)
हमें फॉलो करें
कीव। ने के एनेर्होदर शहर में स्थित यूरोप के सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र पर हमला कर उस पर कब्जा कर लिया। ऊर्जा संयंत्र पर हुई गोलाबारी के बाद आग लग गई है। हालांकि समय रहते आग पर काबू पा लिया गया।

इस संयंत्र में यूक्रेन की कुल खपत की 25 प्रतिशत बिजली का उत्पादन होता है। हालांकि इस रिएक्टर में मरम्मत का काम चल रहा था और यह बंद था, लेकिन इसके अंदर बड़ी मात्रा परमाणु ईंधन मौजूद है। अमेरिकी परमाणु सोसाइटी ने हमले की निंदा की है, लेकिन कहा कि वर्तमान विकिरण का स्तर सामान्य है।

कैसे काम करता है परमाणु संयंत्र : न्यूक्लियर एनर्जी बनाने के लिए परमाणु संयंत्र के रिएक्टर में लगी फ्यूल रॉड्‌स के विखंडन से प्लांट में भारी मात्रा में गरमी पैदा होती है। इससे वॉटर रिएक्टर में इकट्ठा किए गए पानी को गर्म किया जाता है। इससे भाप उत्पन्न होती है। इस भाप को प्लांट से टरबाइन तक पाइपों के माध्यम से पहुंचाया जाता है।
इस भाप से जनरेटर से जुड़े टरबाइन को घुमाया जाता है जिससे बिजली पैदा होती है। इस प्रकिया में परमाणु विखंडन को नियंत्रित करने के लिए या तापमान को नियंत्रित करने के लिए फ्यूल रॉड्‌स के बीच कंट्रोल रॉड्‌स डाली जाती है।

रिएक्टर की कूलिंग प्रणाली : संयंत्र से गरम पानी को शक्तिशाली पंप के जरिए कंडेसर में निकाला जाता है। इसमें ताजा व ठंडा पानी मिलाया जाता है और इसे पंप के माध्यम से कोर रिएक्टर में सप्लाय किया जाता है। कंट्रोलिंग रॉड्‌स से रिएक्टर का तापमान नियंत्रण में रखा जाता है। बची हुई भाप कूलिंग टॉवर के जरिए बाहर निकल जाती है।



और भी पढ़ें :