शराबबंदी पर मोदी से क्या बोले नीतीश...

खगड़िया| पुनः संशोधित गुरुवार, 12 जनवरी 2017 (17:57 IST)
हमें फॉलो करें
खगड़िया। के मुख्यमंत्री ने बिहार में शराबबंदी लागू किए जाने की प्रशंसा किए जाने पर उन्हें धन्यवाद देते हुए गुरुवार को आग्रह किया कि शराबबंदी के लिए देश में बेहतर वातावरण बनाने के लिए इसे पहले भाजपा शासित प्रदेशों में लागू करवा दें।
 
अपनी 'निश्चय यात्रा' के 7वें चरण में खगड़िया में एक 'चेतना सभा' को संबोधित करते हुए नीतीश ने बिहार में लागू पूर्ण शराबबंदी से हुए लाभ की चर्चा करते हुए कहा कि बहुत से लोग इसको लेकर मेरा मजाक उड़ाते थे, आलोचना करते थे, कानून की निंदा करते थे।
 
उच्चतम न्यायालय के एक फैसले में राष्ट्रीय राजमार्ग और राज्य उच्च पथ के 500 मीटर के दायरे में शराब की दुकान खोले जाने को प्रतिबंधित किया गया है जिसका जिक्र करते हुए नीतीश ने कहा कि जो काम (बिहार में शराबबंदी) हम लोगों ने पूरे तौर पर कर दिया अब तो देश में भी सड़क किनारे शराब उपलब्ध नहीं होगी। यह मामूली उपलब्धि नहीं है और बिहार में तो पूर्ण शराबबंदी लागू है तथा इसका फायदा दिखने लगा है तथा हाल में आयोजित प्रकाश पर्व के दौरान पटना आए प्रधानमंत्री ने भी बिहार में शराबबंदी की प्रशंसा की।
 
नीतीश ने कहा कि हम तो उनसे (प्रधानमंत्री से) यही कहेंगे कि शराबबंदी के फायदे को देखते हुए इसे देशभर में लागू करने के उपाय करें और पूरे देश में इसे लागू करने के लिए वातावरण बनाने के वास्ते इसे पहले भाजपा शासित प्रदेशों में पहले लागू करवा दीजिए। इससे बेहतर संदेश जाएगा। उन्होंने कहा कि तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा ने बोधगया में जारी कालचक्र पूजा के दौरान बुधवार को कहा कि बिहार में शराबबंदी प्रशंसनीय है।
 
नीतीश ने कहा कि अब शराबबंदी के आगे हमें नशामुक्ति की ओर जाना है और इसके लिए 2 महीने तक 21 जनवरी से 22 मार्च तक जबरदस्त अभियान चलेगा। आगामी 21 जनवरी को शराबबंदी के पक्ष में लोग अपनी एकजुटता प्रदर्शित करने के लिए 11,000 किलोमीटर से अधिक लंबी मानव श्रृंखला में करीब 2 करोड़ लोग 45 मिनट तक एक-दूसरे का हाथ थामे खड़े रहेंगे। उन्होंने इस मानव श्रृंखला का भाजपा द्वारा समर्थन किए जाने का स्वागत किया। (भाषा)



और भी पढ़ें :