नीता अंबानी ने महिलाओं के लिए खास प्लेटफॉर्म 'हर-सर्कल' हिन्दी में लॉन्च किया

Last Updated: मंगलवार, 8 मार्च 2022 (16:55 IST)
हमें फॉलो करें
प्रमुख बिंदु

• 4 करोड़ 20 लाख लोगों तक पहुंच बना चुका है 'हर-सर्कल'
• 1.5 लाख लोगों ने किया है पर्सनलाइज्ड ट्रेकर का इस्तेमाल
• मंच का सोशल नेटवर्किंग हिस्सा केवल महिलाओं के लिए
• गूगल प्ले स्टोर और iOS ऐप स्टोर पर नि:शुल्क उपलब्ध

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर रिलायंस फाउंडेशन की चेयरपर्सन नीता अंबानी ने 'हर-सर्कल' के हिन्दी ऐप को किया। 'हर-सर्कल' महिलाओं के लिए एक खास प्लटफॉर्म है, जो महिला सशक्तीकरण के लिए काम करता है। 1 वर्ष पूर्व लॉन्च किए गए इस प्लेटफॉर्म ने पहले ही वर्ष में 4 करोड़ 20 लाख से अधिक लोगों तक अपनी पहुंच बनाई है। यह भारत में महिलाओं के बीच सबसे तेजी से बढ़ता डिजिटल प्लेटफॉर्म है।
'हर-सर्कल' हिन्दी ऐप के लॉन्च के मौके पर नीता अंबानी ने कहा कि 'किसी भी क्षेत्र और भाषा की महिलाओं के लिए 'हर-सर्कल' एक उभरता हुआ प्लेटफॉर्म है। मैं चाहती हूं कि हमारी पहुंच और समर्थन बिना रुकावट के बढ़ता रहे। अधिक से अधिक महिलाओं तक उनकी भाषा में पहुंचने के लिए हम सबसे पहले को हिन्दी में लॉन्च कर रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि इसे उतना ही प्यार मिलेगा जितना अब तक अंग्रेजी प्लेटफॉर्म को मिला है।'
बयान में कहा गया है कि 'हर-सर्कल' ने डिजिटल नेटवर्क का उपयोग कर हजारों महिलाओं के लिए सटीक करियर और रोजगार के अवसर पैदा किए हैं। इस पर पेशेवर मेकअप आर्टिस्ट, फूड स्टाइलिस्ट, फिटनेस ट्रेनर, डॉग ट्रेनर, रेडियो जॉकी जैसे करियर के बारे में बेहतरीन जानकारियां उपलब्ध हैं। 'हर-सर्कल' नेटवर्क को 30,000 पंजीकृत उद्यमियों का समर्थन भी हासिल है।
'हर-सर्कल' को महिलाओं से संबंधित सामग्री प्रदान करने के लिए वन-स्टॉप डेस्टिनेशन के रूप में डिजाइन किया गया है। नेटवर्क से जुड़ीं महिलाएं सर एचएन रिलायंस अस्पताल के चिकित्सा और विशेषज्ञों के नेटवर्क पर मानसिक स्वास्थ्य, शारीरिक फिटनेस, त्वचा की देखभाल, स्त्री रोग संबंधी परामर्श ले सकती हैं। इस सेवा से हजारों महिलाएं लाभान्वित हुई हैं। फिटनेस और पोषण, प्रजनन क्षमता, गर्भावस्था के साथ-साथ वित्तीय जरूरतों के लिए पर्सनलाइज्ड ट्रैकर्स का 1.50 लाख से अधिक लोगों ने मुफ्त इस्तेमाल किया है।
हालांकि वीडियो से लेकर लेख सामग्री सभी के लिए खुली है, परंतु मंच का सोशल नेटवर्किंग हिस्सा केवल महिलाओं के लिए है ताकि वे बिना किसी हिचकिचाहट के साथियों या विशेषज्ञों से सवाल पूछ सकें। 'हर-सर्कल' में महिलाओं के लिए एक गोपनीय चैट रूम की भी व्यवस्था है, जहां वे बेहद निजी सवाल-जवाब कर सकती हैं।

इस प्लेटफॉर्म पर रिलायंस के हेल्थ, वेलनेस, एजुकेशन, एंटरप्रेन्योरशिप, फाइनेंस और लीडरशिप के विशेषज्ञ जवाब देते हैं। महिलाओं को अपस्किलिंग और जॉब सेक्शन से नए प्रोफेशनल स्किल्स खोजने में मदद मिलती है। प्लेटफॉर्म पर बहुत से डिजिटल पाठ्यक्रम की पढ़ाई भी की जा सकती है।



और भी पढ़ें :