Kedarnath Yatra: केदारनाथ पैदल मार्ग पर बारिश से कीचड़, यात्रा रोकी, ठंड का प्रकोप बढ़ा

एन. पांडेय| Last Updated: सोमवार, 23 मई 2022 (22:47 IST)
हमें फॉलो करें
देहरादून। सोमवार तड़के से में होने से केदारनाथ यात्रा कुछ वक्त तक रुकी रही। 3 घंटे बाद मौसम साफ होने के बाद फिर शुरू कर दिया गया। बारिश के कारण केदारनाथ पर कीचड़ व अन्य दिक्कत होने से यात्रा रोकी गई थी। सोमवार सुबह से 8 बजे तक हालांकि 8,500 यात्रियों को केदारनाथ धाम भेजा जा चुका था जबकि उसके बाद बारिश न रुकने से 4,500 यात्री सोनप्रयाग में रोके गए।

लगातार हो रही बारिश व घने कोहरे के कारण हेली सेवाएं भी सुबह 8 बजे से बंद रहीं। इससे पहले केदारनाथ में रविवार को बर्फबारी हुई थी जिससे यहां का तापमान शून्य से नीचे चला गया था। यात्री बर्फबारी में ही लाइन में खड़े रहकर दर्शनों के लिए अपनी बारी का इंतजार करते रहे।

केदारनाथ धाम में बर्फबारी के चलते तापमान में आई कमी से ठंड का प्रकोप बढ़ गया है। अब फिर से प्रशासन ने गौरीकुंड और सोनप्रयाग में केदारनाथ यात्रा रोकी है जिससे करीब 5,000 तीर्थयात्री रास्तों में रुके हैं। केदारनाथ समेत पूरी केदार घाटी में सुबह 5 बजे से लगातार बारिश हो रही थी। केदारनाथ धाम में करीब 3,200 तीर्थयात्री रुके हुए हैं जिन्हें मौसम साफ होने पर सोनप्रयाग के लिए रवाना होने की अनुमति मिलेगी। सोनप्रयाग और गौरीकुंड से आगे यात्रियों को नहीं जाने दिया जा रहा है। गुप्तकाशी से रुद्रप्रयाग के बीच भी 5,000 के करीब तीर्थयात्रियों के रोके जाने की खबर है।
मौसम विभाग के 2 दिनों तक भारी बारिश का अलर्ट जारी किए जाने से ऐसा ऐहतियातन किया गया है। रुद्रप्रयाग के जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी नंदन रजवार ने बताया कि तीर्थयात्री मौसम खुलने का इंतजार कर रहे हैं। मौसम खुलने के बाद ही यात्रा शुरू की जाएगी। 2 साल बाद रिकॉर्ड संख्या में यात्री चारधाम यात्रा के लिए उत्तराखंड पहुंचे हैं। हर दिन तीर्थयात्रियों की संख्या में इजाफा हो रहा है।
ऋषिकेश में यात्रियों की भीड़ बढ़ने से संयुक्त रोटेशन यात्रा व्यवस्था समिति के पास बसों की कमी हो गई। यमुनोत्री धाम की चोटियों पर भी बर्फबारी से कड़ाके ठंड पड़ रही है। उधर श्रीनगर और आसपास के क्षेत्रों में रात से हल्की बारिश जारी है। नई टिहरी और आसपास के क्षेत्रों में भी बीती रात से झमाझम बारिश होने से मौसम में ठंडक आ गई है।



और भी पढ़ें :