Weather Alert : महाराष्ट्र के पालघर में भारी बारिश, पुल हुआ जलमग्न, 12 गांवों से संपर्क कटा

Last Updated: गुरुवार, 7 जुलाई 2022 (09:31 IST)
हमें फॉलो करें
ठाणे/पालघर। के जिले में और के कारण एक पुल पर पानी जमा होने से कम से कम 12 गांव कट गए हैं।मौसम विज्ञान विभाग ने आज और अगले 3 दिनों के लिए महाराष्ट्र में भारी बारिश होने की चेतावनी दी है। राजधानी मुंबई में लगातार तीसरे दिन भी भारी बारिश हुई।
एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी। अधिकारियों के अनुसार, लगातार हो रही भारी बारिश की वजह से उसगांव और वसई तालुका को जोड़ने वाला पंडारतारा पुल जलमग्न हो गया। अधिकारियों ने ने कहा कि क्षेत्र के कम से कम 12 गांव कट गए हैं और आने वाले दिनों में पानी निकलने तक स्थिति ऐसी ही रहेगी। ठाणे जिले में भी बारिश से संबंधित घटनाएं सामने आईं।

आरडीएमसी के अध्यक्ष अविनाश सावंत ने कहा कि ठाणे शहर के वागले एस्टेट क्षेत्र में दोपहर एक बजे ईएसआईएस अस्पताल की तीसरी मंजिल की एक दीवार का हिस्सा गिर गया जिससे 73 वर्षीय एक महिला घायल हो गई। उन्होंने बताया कि एक अन्य घटना में मुंब्रा बाईपास रोड पर दोपहर के बजे पत्थर गिर गए जिसमें कोई घायल नहीं हुआ।

महाराष्ट्र में 6 से 8 जुलाई के बीच भारी बारिश की चेतावनी : भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बुधवार और अगले दो दिनों के लिए महाराष्ट्र में भारी बारिश होने की चेतावनी दी है। राजधानी मुंबई में लगातार तीसरे दिन भी भारी बारिश हुई, जिससे एक चॉल के पास भूस्खलन हो गया, कई स्थानों पर जलजमाव की स्थिति पैदा हो गई और यातायात बाधित हुआ।

एक अधिकारी ने बताया कि भूस्खलन की घटना में तीन लोग घायल हो गए। बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त होने के साथ ही मुंबई के एक व्यक्ति ने ट्वीट किया कि अब उन्हें आने-जाने के लिए कार की बजाय नाव की जरूरत है। भारी बारिश के बाद, महाराष्ट्र के सातारा जिले में प्रतापगढ़ जाने वाली सड़क पर भी भूस्खलन हुआ।

लोक निर्माण विभाग के कार्यकारी अभियंता संजय सोनवणे ने कहा कि इस घटना में किसी के हताहत होने या मलबे में दबे होने की खबर नहीं है। आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा कि गुजरात और महाराष्ट्र के तट के पास और पश्चिमी मध्य प्रदेश के ऊपर हवा का कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है जिसके कारण महाराष्ट्र और गुजरात में भारी बारिश हो सकती है।

आईएमडी ने दक्षिण कोंकण, गोवा और दक्षिण मध्य महाराष्ट्र के लिए छह से आठ जुलाई के बीच ‘रेड अलर्ट’ घोषित किया है। विभाग ने कहा कि इस दौरान कुछ स्थानों पर भारी से अत्यधिक भारी बारिश होने की संभावना है और छिटपुट स्थानों पर अत्यधिक भारी बारिश हो सकती है।

आईएमडी ने उत्तर कोंकण के लिए ‘ऑरेंज अलर्ट’ जारी किया है। विभाग ने उत्तर मध्य महाराष्ट्र, पूर्वी विदर्भ और पश्चिमी विदर्भ में बुधवार के लिए ‘यलो अलर्ट’ और गुरुवार तथा शुक्रवार के लिए ‘ऑरेंज अलर्ट’ जारी किया। मराठवाड़ा क्षेत्र में बुधवार और अगले दो दिन के लिए भारी बारिश का ‘यलो अलर्ट’ जारी किया गया था।

निजी मौसम पूर्वानुमान कंपनी स्काईमेट ने कहा है कि सक्रिय की स्थिति अगले 10 दिनों तक बनी रहेगी और महाराष्ट्र तथा गुजरात में गुरुवार और शुक्रवार को बेहद भारी बारिश हो सकती है। मुंबई में चूनाभट्टी क्षेत्र में पूर्वाह्न साढ़े दस बजे दो मंजिला नारायण हड़के चॉल पर एक पहाड़ी की चट्टानें गिर गईं जिससे एक बच्चा और दो अन्य लोग घायल हो गए। नगर निकाय अधिकारी ने यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि भूस्खलन के कारण चॉल के तीन कमरे भी क्षतिग्रस्त हो गए। अधिकारी ने कहा कि नगर निकाय ने एहतियात के तौर पर आसपास के कमरों में रहने वाले लोगों को वहां से हटा दिया है। मध्य रेलवे और पश्चिम रेलवे के अधिकारियों ने कहा कि लोकल ट्रेन का परिचालन सामान्य रूप से हो रहा है लेकिन कुछ यात्रियों ने दावा किया कि उपनगरीय ट्रेन सेवा में कुछ विलंब हुआ।

महानगरीय बस सेवा ‘बेस्ट’ के एक प्रवक्ता ने कहा कि उनकी बस सेवाओं को छह स्थानों पर अन्य मार्गों से परिचालित किया गया। निकाय अधिकारियों ने कहा कि भारत मौसम विज्ञान विभाग ने मुंबई में अगले 24 घंटे में और बारिश होने का पूर्वानुमान किया है।

गुजरात में भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त : गुजरात के गिर सोमनाथ और जूनागढ़ जिलों के कई हिस्सों में लगातार भारी बारिश होने से सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। के मुताबिक अगले 24 घंटों के दौरान गिर सोमनाथ, देवभूमि द्वारका, सूरत, वलसाड और नवसारी जिलों में छिटपुट स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा और कुछ स्थानों पर अत्यधिक भारी बारिश की आशंका है।

अधिकारियों के मुताबिक बीते 30 घंटे की अवधि में गिर सोमनाथ जिले के सूत्रपाड़ा तालुका में 300 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। मौसम विज्ञान केंद्र ने कहा है कि गुजरात में मानसून अब सक्रिय है क्योंकि कच्छ क्षेत्र के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बन गया है और अगले पांच दिनों में संपूर्ण राज्य में और अधिक बारिश होने की संभावना है।

अधिकारियों के मुताबिक गिर सोमनाथ और जूनागढ़ जिलों में मंगलवार से ही भारी बारिश हो रही है। राज्य आपातकालीन अभियान केंद्र (एसईओसी) द्वारा साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार सूत्रपाड़ा तालुका में पिछले 30 घंटों में 300 मिमी बारिश हुई है।

एसईओसी के मुताबिक इसी तरह जिले के कोडिनार तालुका में बुधवार को सुबह छह बजे से दोपहर 12 बजे के बीच 119 मिमी बारिश हुई, वेरावल तालुका में 106 मिमी, जूनागढ़ के मंगरोल तालुका में 82 मिमी, इसके बाद भुज (कच्छ) में 51 मिमी, हंसोट (भरूच) में 42 मिमी बारिश हुई जबकि कल्याणपुर (देवभूमि द्वारका) में 33 मिमी बारिश हुई।

अधिकारियों के मुताबिक भारी बारिश के कारण मंगरोल, कोडिनार और वेरावल कस्बों के साथ-साथ सूत्रपाड़ा और कोडिनार तालुका के कई गांवों में सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ क्योंकि निचले इलाके, कृषि क्षेत्र, हाउसिंग सोसाइटी और कई सड़कें घुटने तक पानी में डूब गईं।

गुजरात के राजस्व मंत्री राजेंद्र त्रिवेदी ने राजधानी गांधीनगर में एसईओसी का दौरा किया और मौजूदा स्थिति का जायजा लिया तथा इसके अलावा उन्होंने प्रशासन की तैयारियों की समीक्षा की क्योंकि अगले पांच दिनों में और बारिश की संभावना जताई गई है।

अहमदाबाद में मौसम विज्ञान केंद्र की निदेशक मनोरमा मोहंती ने कहा, अगले पांच दिनों में गुजरात के अधिकांश हिस्सों में सामान्य बारिश होने की संभावना है।(एजेंसियां)



और भी पढ़ें :