गुजरात सरकार का 'ड्रैगन फ्रूट' का नाम बदलकर 'कमलम' करने का फैसला

Last Updated: बुधवार, 20 जनवरी 2021 (15:26 IST)
हमें फॉलो करें
गांधीनगर। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा है कि राज्य सरकार ने 'ड्रैगन फ्रूट' का बदलकर 'कमलम' करने का फैसला किया है। रूपाणी ने मंगलवार को बताया कि राज्य सरकार ने 'ड्रैगन फ्रूट' का नाम 'कमलम' करने के पेटेंट के लिए आवेदन किया है। कच्छ, नवसारी और सौराष्ट्र के विभिन्न भागों में इसकी पैदावार होती है।
ALSO READ:

टीका लगवाकर खुश है अहमदाबाद का डॉक्टर परिवार, रूपाणी बोले- बेझिझक लगवाएं टीका
उन्होंने कहा कि 'ड्रैगन फ्रूट' नाम ठीक नहीं है और इसके नाम के कारण लगता है कि यह चीन का फल है इसलिए हमने इसका नाम 'कमलम' करने का फैसला किया है। फल का नाम 'कमलम' क्यों रखा गया है? यह पूछे जाने पर रूपाणी ने कहा कि किसानों का कहना है कि यह कमल के फूल की तरह दिखता है और इसी वजह से हमने इसे 'कमलम' नाम देने का फैसला किया है।
उल्लेखनीय है कि 'कमल' भाजपा का चुनाव चिह्न है और पार्टी की गुजरात इकाई के मुख्यालय का नाम 'श्री कमलम' है। मुख्यमंत्री रूपाणी ने कहा कि फल का नाम बदलने के पीछे कोई राजनीतिक सोच नहीं है। नाम बदलने की जरूरत के बारे में पूछे गए सवाल पर रूपाणी ने कहा कि राज्य के बंजर क्षेत्रों में इस फल की पैदावार होती है और यह फल शरीर में खून बढ़ाने में सहायक होता है। इस समय बाजार में उपलब्ध यह सबसे महंगा फल है। कैक्टस प्रजाति के पौधों में यह फल उगता है और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहतर करने के लिए लोग इसे खाते हैं। (भाषा)



और भी पढ़ें :