उत्तराखंड : AAP की तिरंगा यात्रा में उमड़ी भीड़ से राजनीतिक दलों में खलबली, केजरीवाल ने जनता को दी 6 गारंटी

निष्ठा पांडे| Last Updated: रविवार, 19 सितम्बर 2021 (21:19 IST)
हल्द्वानी। उत्तराखंड के हल्द्वानी में रविवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री की तिरंगा यात्रा में जुटी भीड़ ने उत्तराखंड के राजनीतिक दलों के समीकरण गड़बड़ा दिए हैं। तिरंगा यात्रा में उमड़ी भीड़ से केजरीवाल तो गद्‍गद्‍ दिखे ही पार्टी को खड़ा करने के लिए जुटे आम आदमी पार्टी कार्यकर्ताओं में भी जोश का संचार हुआ है। उत्तराखंड के स्थापित राजनीतिक दलों में इसमें जुटी भीड़ से खलबली है।
हालांकि केजरीवाल तिरंगा यात्रा को संबोधित नहीं कर सके, उन्हें उससे पहले ही दिल्ली रवाना होना पड़ा। तिरंगा यात्रा के समापन पर केजरीवाल को हल्द्वानी के रामलीला मैदान में जनसभा को संबोधित करना था, लेकिन अधिक भीड़ और सुरक्षा के मद्देनजर अरविंद केजरीवाल रामलीला मैदान नहीं पहुंचे और दिल्ली रवाना हो गए। आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता और जनता अरविंद केजरीवाल का रामलीला में इंतजार करते रह गए।

तिरंगा यात्रा में भीड़ के चलते हल्द्वानी की सड़कें थम गईं। तिरंगा यात्रा में केजरीवाल के दिल्ली विकास मॉडल को प्रचार-प्रसार भी किया गया। बड़ी संख्या में महिलाएं हाथ में झाड़ू और तिरंगा लेकर तिरंगा यात्रा में शामिल हुईं। आज हल्द्वानी पहुंचकर दिल्ली सीएम केजरीवाल ने उत्तराखंड में आप की सरकार बनने पर जनता को 6 गारंटी दी है।

इसके तहत सरकार बनने पर हर घर रोजगार, तब तक हर महीने 5 हजार रुपए का भत्ता, नौकरियों में उत्तराखंडियों को 80% आरक्षण, 6 महीने में 1 लाख सरकारी नौकरी, प्राइवेट सेक्टर में नौकरियों के लिए जॉब पोर्टल, पलायन रोकने के लिए रोजगार एवं पलायन मंत्रालय का गठन किया जाएगा।

उत्तराखंड की अन्य खबरें
चारधाम यात्रा के लिए 42 हजार से अधिक ई पास हुए जारी :
उत्तराखंड चारधाम यात्रा की शनिवार से हुई शुरुआत के बाद यात्रा हेतु देवस्थानम बोर्ड की वेबसाइट पर ई पास बनने का सिलसिला जारी है। अभी तक चारधाम हेतु 42 हजार से अधिक ई पास जारी किए जा चुके है। तथा 2530 से अधिक तीर्थयात्रियों ने चार धाम के दर्शन कर लिए हैं। हाईकोर्ट नैनीताल ने 16 सितंबर गुरुवार को चारधाम यात्रा को लेकर हुई सुनवाई कर यात्रा शुरू करने हेतु फैसला दिया।

प्रदेश सरकार एवं देवस्थानम बोर्ड ने न्यायालय के दिशा-निर्देश के अनुसार एसओपी जारी की तथा कल 18 सितंबर से चारधाम यात्रा का शुभारंभ हो गया। चार धामों श्री बदरीनाथ, श्री केदारनाथ, श्री गंगोत्री एवं श्री यमुनोत्री धाम में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने चारधाम यात्रा के सफलतापूर्वक शुभारंभ पर प्रसन्नता जताई है। पर्यटन- धर्मस्व मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि तीर्थयात्री चारधाम यात्रा हेतु उत्साहित है। मुख्य सचिव डॉ. एसएस संधू लगातार चार धाम यात्रा की संचालन हेतु उच्च स्तर पर निर्देश दे रहे हैं।

श्री केदारनाथ धाम में प्रतिदिन 800 श्रद्धालुओं, बद्रीनाथ धाम में 1000, गंगोत्री में 600, यमुनोत्री धाम में कुल 400 श्रद्धालुओं को जाने की अनुमति प्रदान की गई है।

चारधाम यात्रा हेतु उत्तराखंड से बाहर के श्रद्धालुओं हेतु देहरादून स्मार्ट सिटी पोर्टल //smartcitydehradun.uk.gov.in में रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है तथा ई पास हेतु देवस्थानम बोर्ड की वेबसाइट www.devasthanam.uk.gov.in या // badrinah- Kedarnath.uk.gov.in प्रत्येक श्रद्धालु को कोविड नेगेटिव रिपोर्ट अथवा वैक्सीन की डबल डोज लगी होने का सर्टिफिकेट जमा करना है। उत्तराखंड प्रदेश के लोगों को स्मार्ट सिटी पोर्टल में पंजीकरण की आवश्यकता नहीं है।

उत्तराखंड के चमोली, रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी जिलों में स्थित धामों में होने वाली यात्रा को लेकर मुनिकीरेती, देवप्रयाग, टिहरी, उत्तरकाशी, बड़कोट, रुद्रप्रयाग, सोनप्रयाग, जोशीमठ, पांडुकेश्वर, सहित चारों धामों के प्रवेश मार्ग से पुलिस द्वारा तीर्थयात्रा पर नजर रखी जा रही है।

धामों में श्रद्धालु किसी भी कुंड में स्नान नहीं कर रहे हैं। कोरोना प्रोटोकॉल एवं सामाजिक दूरी का पालन अनिवार्य किया गया है। गढ़वाल आयुक्त एवं उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविनाथ रमन ने बताया कि अभी तक 2500 से अधिक तीर्थयात्री चार धाम के दर्शन कर चुके है।

चारों धामों में कोरोना बचाव मानकों का पालन करते हुए निरंतर पूजा अर्चना के साथ तीर्थ यात्री निर्धारित दूरी से दर्शन कर रहे है। एसओपी के मुताबिक कोरोना बचाव मानकों एवं 6 फुट की सामाजिक दूरी का पालन करते हुए श्रद्धालु चार धामों में दर्शन कर रहे है। न्यायालय से प्राप्त निर्देशों / सरकार द्वारा जारी एसओपी के क्रम में श्रद्धालुओं को सभी निर्धारित मानकों का पालन करवाया जा रहा है। देवस्थानमों/ मंदिरों के प्रवेश द्वार पर थर्मल स्क्रीनिंग हो रही है।

ई पास, कोरोना रिपोर्ट, वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट, स्मार्ट सिटी रजिस्ट्रेशन की जांच के बाद एक समय में तीन तीर्थ यात्रियों को मंदिर में प्रवेश दिया जा रहा है। दर्शन पंक्तियों में तीर्थयात्रियों को सामाजिक दूरी को बनाए रखने हेतु निर्धारित वृत्त बनाए गये है। उत्तरकाशी जिले के जिलाधिकारी मयूर दीक्षित के अनुसार श्री गंगोत्री धाम एवं श्री यमुनोत्री धाम में तीर्थयात्रियों के आने का क्रम जारी है। देवस्थानों में आवास, खान-पान, चिकित्सा-स्वास्थ्य, स्वच्छ पेयजल, स्वच्छता पर भी फोकस किया जा रहा है।

तीर्थयात्रियों तथा देवस्थानम बोर्ड कर्मचारियों द्वारा कोरोना प्रोटोकॉल का पालन किया जा रहा है। देवस्थानम बोर्ड के मीडिया प्रभारी डॉ. हरीश गौड़ ने बताया कि चार धाम के अलावा द्वितीय केदार रुद्रनाथ, तृतीय केदार तुंगनाथ, चतुर्थ केदार रुद्रनाथ एवं पंच बदरी योग बदरी पांडुकेश्वर, ध्यान बदरी उर्गम, भविष्य बद्री सुभाई (जोशीमठ) वृद्ध बदरी अणीमठ सहित देवस्थानम बोर्ड के अधीनस्थ मंदिरों में भी तीर्थ यात्री पहुंच रहे हैं।

गोविंद घाट गुरुद्वारा से सरदार सेवा सिंह ने देवस्थानम बोर्ड को बताया कि पवित्र गुरुद्वारा हेमकुंड साहिब/ लोकपाल तीर्थ हेतु में आज 72 श्रद्धालु मत्था टेकने पहुंचे। नवंबर माह के मध्य तक चारों धामों के कपाट शीतकाल हेतु बंद हो जाते है। इस बार चारधाम यात्रा कोरोना संकट के चलते समय पर शुरू नहीं हो पाई थी।



और भी पढ़ें :