मनीष सिसोदिया को भी गिरफ्तार करना चाहती है BJP, दिल्ली विधानसभा में बोले AAP चीफ अरविंद केजरीवाल

Last Updated: मंगलवार, 5 जुलाई 2022 (20:46 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि आम आदमी पार्टी (आप) के सामने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अब चुनाव लड़ने से डर रही है और हार के डर की वजह से ही दिल्ली में निगम चुनाव टाल रही है।

आप के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल ने दिल्ली विधानसभा में मंगलवार को 'हार के डर से भाजपा एमसीडी का चुनाव नहीं करा रही' विषय पर अल्पकालीन चर्चा के दौरान कहा कि भाजपा को पता है कि दिल्ली की जनता हमेशा अपने बेटे, अपने भाई (केजरीवाल) के साथ खड़ी रहेगी। मैंने एक बेटे की तरह घर का ख्याल रखा है। अपने भाई-बहनों को पढ़ाता हूं। घर में कोई बीमार हो जाए तो उसका इलाज कराता हूं। ये लोग एमसीडी का चुनाव कराने वाले नहीं हैं। हमें न्यायालय में जाना पड़ेगा। हम न्यायालय जाएंगे और समय पर एमसीडी का चुनाव करवा कर रहेंगे।
उन्होंने कहा कि भाजपा वाले अब धमकी दे रहे हैं कि दिल्ली में अगला विधानसभा चुनाव ही नहीं होगा और दिल्ली को संपूर्ण केंद्र शासित प्रदेश बनाएंगे। ये लोग केजरीवाल से नफरत करते-करते इस देश से नफरत कर बैठे। अगर देश में चुनाव खत्म कर दोगे और जनतंत्र को खत्म कर दोगे तो यह देश नहीं बचेगा।

उन्होंने चर्चा का समर्थन करते हुए कहा कि बहुत मन होता है कि काश! अगर हमारे पास एमसीडी होती तो हम दिल्ली को साफ कर देते। पिछले 15 साल से भाजपा के पास एमसीडी थी, लेकिन इन्होंने दिल्ली को साफ नहीं किया। अब ये लोग चुनाव भी नहीं करा रहे हैं। इन्होंने सारेआम गुंडागर्दी मचा रखी है कि हम भी काम नहीं करेंगे और तुमको भी नहीं करने देंगे। देखते हैं कि दिल्ली कैसे साफ होती है? ये लोग दिल्ली वालों से बदला निकाल रहे हैं।
उन्होंने कहा कि मैंने इनके एक वरिष्ठ नेता से पूछा कि दिल्ली को साफ करना इतनी बड़ी बात थोड़ी है। दिल्ली को साफ क्यों नहीं करते हैं? इस पर वे कहते हैं कि दिल्ली के सफाई कर्मचारी कामचोर हैं। भाजपा वाले कहते हैं कि दिल्ली के सफाई कर्मचारी कामचोर हैं। पहले ये लोग इसी तरह गंदी-गंदी भद्दी गालियां सरकारी स्कूल के शिक्षकों और सरकारी अस्पताल के डॉक्टरों को दिया करते थे।
कहते थे कि दिल्ली के सरकारी स्कूलों के शिक्षक पढ़ाते नहीं हैं, निकम्मे हैं। शिक्षक स्कूल आते ही नहीं हैं। आते हैं, तो पेड़ों के नीचे बैठे रहते हैं। आज वही शिक्षक हैं। हमने तो शिक्षक बदले नहीं। दिल्ली के सरकारी स्कूल में करीब 60 हजार शिक्षक हैं और उन्होंने क्रांति करके दिखा दी। सरकारी अस्पतालों में वही डॉक्टर भी हैं, हमने तो बदले नहीं। इन्हीं डॉक्टरों ने क्रांति करके दिखा दी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि ये लोग फंड का रोना रोते रहते हैं कि दिल्ली सरकार फंड नहीं देती है जबकि हमने सारे फंड दे दिए हैं। अब तो एमसीडी केंद्र सरकार के अधीन आ गई है। अब तो हमारा फंड देना बनता ही नहीं है। अब तो सारा फंड केंद्र सरकार को देना है। केंद्र सरकार जब बिल लेकर आई थी, तब कहा था कि दिल्ली सरकार ने एमसीडी के साथ बहुत सौतेला व्यवहार कर रखा है। अब हम एमसीडी को अपने अधीन में ले रहे हैं। अब केंद्र सरकार से फंड ले लो। अब हमारे पास किसलिए आ रहे हो और हमें किस लिए गाली दे रहे हो? अब तो कुछ करके दिखा दो। पर अभी भी सफाई कर्मचारियों को तनख्वाह नहीं दे रहे हैं।
अब तो एमसीडी में दिल्ली सरकार का कोई रोल ही नहीं है। हमें एमसीडी को कोई फंड नहीं देना है। भाजपा वाले कहते हैं कि हमारे पास ईडी है, इंकम टैक्स है, सीबीआई है, दिल्ली पुलिस है, सारी दौलत है, हर जिले में बड़े-बड़े कार्यालय हैं, तुम्हारे पास क्या है? दिल्ली की 2 करोड़ जनता एकसाथ बोलती है कि हमारे पास हमारा बेटा अरविंद केजरीवाल है इसीलिए ये लोग डरते हैं।

उन्होंने कहा कि अब भाजपा वालों ने एक नई धमकी देनी शुरू कर दी है कि दिल्ली में अब अगला विधानसभा चुनाव ही नहीं होगा। कह रहे हैं कि दिल्ली को अब संपूर्ण केंद्र शासित प्रदेश बनाएंगे। भाजपा वाले केजरीवाल से नफरत करते-करते देश से नफरत कर बैठे। केजरीवाल आएगा, जाएगा, केजरीवाल महत्वपूर्ण नहीं है। लेकिन अगर आप लोग इस देश में चुनाव कराना खत्म कर दोगे, संविधान के टुकड़े कर दोगे, जनतंत्र को खत्म कर दोगे, तो यह देश नहीं बचेगा, हम रहें या न रहें। हम अमर नहीं हैं। मैं भी मर जाऊंगा और आप भी मर जाओगे, लेकिन आपके बच्चे आपको गाली देंगे कि मेरे बाप ने इस सदन में खड़े होकर कहा था कि दिल्ली में चुनाव नहीं होंगे।
आज देश में हमारे कट्टर विरोधी भी कहते हैं कि ये लोग तो कट्टर ईमानदार हैं। भ्रष्टाचार नहीं करते हैं। पैसे नहीं खाते हैं। इनको यह चुभ रहा है। ये लोग जबर्दस्ती साबित करना चाहते हैं कि ये भी हमारे जैसे ही हैं। जैसे हम हैं, वैसे ये भी हैं। इन्होंने सत्येन्द्र जैन को पकड़ लिया। एक पैसे का भ्रष्टाचार साबित नहीं कर पा रहे हैं। मैं समझता हूं कि वह दिन देश के लिए काला दिन था।

सत्येन्द्र जैन ने इस देश को ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया को मोहल्ला क्लिनिक का कॉन्सेप्ट दिया। पूरी दुनिया में दिल्ली अकेला शहर है, जहां दिल्ली के आदमी का सारा इलाज मुफ्त है। यह सत्येन्द्र जैन ने किया। ऐसे आदमी को उठाकर ये लोग जेल में डाल देते हैं। फिर भी कोई मान ही नहीं रहा है। लोग कह रहे हैं कि सत्येन्द्र जैन तो ईमानदार हैं।
उन्होंने कहा कि अब ये लोग धमकी दे रहे हैं कि अगस्त के अंत तक मनीष सिसोदिया को भी गिरफ्तार कर लेंगे। मनीष सिसोदिया ने दिल्ली के 18 लाख बच्चों का भविष्य बनाया है। मैं खुली चुनौती दे रहा हूं कि भाजपा की 19 राज्यों में सरकारें हैं। भाजपा के 19 राज्य एक तरफ और दिल्ली एक तरफ। भाजपा शासित राज्यों के 10 स्कूल हम देख आते हैं और हमारे 10 स्कूल तुम देख लो। अभी गुजरात से भाजपा के 22 नेता दिल्ली सरकार के स्कूल देखने आए थे जिसमें शिक्षामंत्री समेत तमाम लोग थे। वे बोले कि हम पोल खोलकर आएंगे। हमने उनका स्वागत किया और कहा कि आओ स्कूल देखो। हम उनके साथ नहीं गए। वे खुद ही स्कूल देखकर आए। इनको कुछ कमी ही नहीं मिली।
अभी तक हमारे 20-22 एमएलए को जेल भेज चुके हैं। अभी इन्होंने अमानतुल्ला खान, आतिशी, कादयान, संजीव और मुकेश अहलावत के खिलाफ नोटिस कर रखा है। कोर्ट के जितने भी फैसले आए, उन सारे फैसलों में हमारे विधायकों को बरी कर दिया। कोर्ट ने इन लोगों को ऐसा लताड़ा कि क्या झूठे केस कर रहे हो? फिर भी इनको अक्ल नहीं आई।

अब तो इन्होंने हद कर दी है। पिछले हफ्ते ईडी ने 3 दिन तक रोज 10-10 घंटे तक हमारे एक कार्यकर्ता को समन करके बुलाया। कोई फर्जी मामला बना रखा है। उसको न खाने को दिया और न पानी दिया। मैं आम आदमी पार्टी के सारे विधायक, मंत्री और सभी कार्यकर्ताओं से अपील करना चाहता हूं कि अपने-अपने घर में कह दो और जेल जाने के लिए तैयार हो जाओ। इनसे डरने की जरूरत नहीं है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे देश के अंदर एक-एक कर सारी पार्टियां टूटती जा रही हैं, सारी पार्टियां झुकती जा रही हैं या सारी पार्टियां गिरती जा रही हैं। भाजपा ने सबको तोड़ लिया है। आज पूरा देश आम आदमी पार्टी की तरफ देख रहा है। केवल आम आदमी पार्टी ही है जिससे भाजपा के टॉप दोनों नेता डरते हैं।

अभी मैं गुजरात से वापस आ रहा था। मेरे बगल में एक आदमी बैठा था। वह गुजरात का था। उसने मेरा हाथ कसकर पकड़ लिया और कहा कि कुछ भी करिए, इनसे गुजरात को बचा लीजिए। मैं सोच रहा था कि हम लोगों से लोगों को कितनी उम्मीद है। मैंने उसको बोला कि तुम लोग कुछ क्यों नहीं करते हो? इस पर वो बोला कि सारे डरे हुए हैं। इनके खिलाफ बोलने की किसी की हिम्मत नहीं होती है।
हमारे देश के अंदर जो आज का यह दौर चल रहा है, यह इतिहास में काले अक्षरों से लिखा जाएगा। जब ये इतिहास में काले अक्षरों से लिखा जाएगा, उस वक्त सत्येन्द्र जैन, मनीष सिसोदिया, संजीव झा समेत जेल गए ऐसे लोगों का नाम स्वतंत्रता सेनानी के रूप में लिखा जाएगा।

उन्होंने कहा कि एक कोई बड़ा टीवी चैनल है। उस टीवी चैनल का कोई एंकर है। उसने कोई फर्जी क्लिप दिखा दी। छत्तीसगढ़ की पुलिस उसको गिरफ्तार करने आई है। उसको गिरफ्तार होना चाहिए। पुलिस वारंट लेकर आई है। फिर भी उत्तरप्रदेश की पुलिस उसको बचाने के लिए पहुंच गई। अब दोनों राज्यों की पुलिस के बीच गुत्थम-गुत्था हो रही है। देश का यह क्या हाल बना दिया है? इनसे चीन से लड़ाई नहीं होती है, अपने देश के अंदर एक राज्य की पुलिस, दूसरे राज्य की पुलिस से लड़ रही है। पंजाब की पुलिस दिल्ली से एक अपराधी को पकड़ने के लिए आई तो दिल्ली पुलिस उसको बचाने के लिए पहुंच गई। क्या हम सब आपस में लड़ेंगे?
केजरीवाल ने कहा कि अभी उदयपुर में एक बड़ी दर्दनाक घटना घटी जिसमें 2 लोगों ने मिलकर एक आदमी का गला काटकर उसका कत्ल कर दिया। यह बड़ी दर्दनाक घटना है। हमने उसकी कड़ी निंदा की और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की। जब पुलिस दोषियों को पकड़ने गई तो पता चला कि उनमें से एक भाजपा का निकला। अभी जम्मू के अंदर 2 दिन पहले लश्कर का एक बहुत बड़ा आतंकवादी पकड़ा गया है। वह लश्कर का कमांडर बताया जा रहा है। बताया जा रहा है कि वो भी भाजपा का एक वरिष्ठ नेता निकला है।
उन्होंने कहा कि अभी थोड़े दिन पहले सिंगापुर के एम्बेसडर मेरे से मिलने आए। उन्होंने कहा कि आपने दिल्ली के अंदर बहुत शानदार काम किया है। उन्होंने बिजली, पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य, स्कूल, अस्पताल सबका जिक्र किया। उन्होंने कहा कि मैं सिंगापुर सरकार की तरफ से आपको निमंत्रित करता हूं। आपको सुनने के लिए सिंगापुर में हमने दुनियाभर के सारे शहरों के मेयरों और मुख्यमंत्री बुला रखे हैं। आप वहां आए और बताएं कि आपका दिल्ली मॉडल क्या है?
केजरीवाल ने कहा कि मैं समझता हूं कि यह तो देश के लिए गर्व की बात है। पूरी दुनिया सुनती कि दिल्ली मॉडल क्या है? पूरी दुनिया सुनती कि दिल्ली के लोगों ने किस तरह से अपने स्कूल-अस्पताल अच्छे कर दिए। ये मेरी सिंगापुर वाली फाइल को रोककर बैठ गए। हमें सिंगापुर जाने नहीं दे रहे हैं। ये केजरीवाल से नफरत करते-करते इस देश के साथ नफरत करने लग गए कि किसी भी हालत में पूरे दुनिया में भारत का नाम नहीं होना चाहिए?(वार्ता)



और भी पढ़ें :