चारधाम यात्रा मार्ग में अब तक 47 लोगों की मौत, क्या बोले सीएम धामी?

एन. पांडेय| पुनः संशोधित गुरुवार, 19 मई 2022 (08:20 IST)
हमें फॉलो करें
देहरादून। उत्तराखंड में चारधाम यात्रा में अब तक 47 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमे से धाम में 20, यमुनोत्री धाम में 15, धाम में 8, गंगोत्री धाम में 4 श्रद्धालुओं की मौत हुई है। अधिकतर श्रद्धालुओं की मौत बीमारी के कारण हुई है, लेकिन मौत का कारण समय पर इलाज नहीं मिलना भी रहा है।

बुधवार को भी यमुनोत्री धाम में महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले की रहने वाली एक महिला तीर्थयात्री की पहाड़ी से गिरे पत्थर की
चपेट में आ जाने से उनकी मौत हो गई।
लगातार आ रही यात्रियों की मौतों की खबर के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सभी यात्रियों को नसीहत दी है कि वो अपने स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए ही यात्रा पर आएं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि चार धाम में सभी व्यवस्थाएं मुकम्मल हैं। उन्होंने रजिस्ट्रेशन करा कर ही चारधाम यात्रा पर आने की अपील लोगों की। तीर्थ यात्रियों की उम्मीद से ज्यादा संख्या में पहुंच के चलते चारों धामों की की व्यवस्थाएं भी नाकाफी साबित हो रही है।
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि कोरोना महामारी के चलते यात्रा दो साल बाद चल रही यात्रा में बड़े पैमाने पर जो लोग अस्वस्थ हैं, वो भी यात्रा पर आ रहे हैं। ऐसे में उनका अनुरोध यह है कि जिनका स्वास्थ्य खराब है, वह अभी यात्रा में ना आए।सीएम पुष्कर धामी का कहना है कि चारधाम के लिए सभी धामों में व्यवस्थाएं बेहतर की गई हैं।

6,58,685 यात्री कर चुके चार धाम का दर्शन: उत्तराखंड में बुधवार तक कुल 6,58,685 यात्री चार धाम का दर्शन कर चुके हैं। बुधवार को गंगोत्री में 8530, यमुनोत्री में 5825, बदरीनाथ में 10,396 और केदारनाथ में 11,782 श्रद्धालुओं ने दर्शन किए। 3 मई से शुरू हुए चारधाम यात्रा के तहत गंगोत्री धाम में 1,30,855, यमुनोत्री धाम में 1,06,352, बदरीनाथ धाम में 1,89,815 और केदारनाथ धाम में 2,31,663 श्रद्धालुओं अब तक दर्शन कर चुके हैं।
2 घंटे के लिए खोला जाएगा सोनप्रयाग बैरियर : केदार पैदल यात्रा मार्ग के प्रवेश द्वार गौरीकुंड के होटल व्यवसाय पर पड़ रहे असर के बाद गौरीकुंड के कारोबारियों के गौरीकुंड बंद के आवाहन के बाद से दबाव में आये प्रशासन ने आखिरकार अब सोनप्रयाग बैरियर तय सीमा के बाद 2 घंटे के लिए खोलने का निर्णय लिया है।

शाम 5 बजे से शाम 7 बजे तक गौरीकुंड तक जाने वाले यात्रियों के लिए सोनप्रयाग बैरियर खुलने से यात्रियों को रात्रिविश्राम के लिए गौरीकुंड जाने का अवसर मिलेगा। इससे गौरीकुंड में खली पड़े होटलों को ग्राहक मिल सकेंगे।
केदारनाथ धाम में श्रद्धालुओं की उमड़ रही भारी भीड़ को देखते हुए पुलिस प्रशासन की ओर से यात्रियों को शाम के समय सोनप्रयाग बैरियर पर रोका जा रहा था। जिस कारण तीर्थ यात्री गौरीकुंड में रात्रि विश्राम के लिए नहीं पहुंच पा रहे थे। जिसका असर गौरीकुंड के होटल व्यवसाय पर पड़ने से आक्रोशित व्यापारियों ने 20 मई को सोनप्रयाग बाजार बंद का ऐलान किया था।

इसका संज्ञान लेते हुए डीएम मयूर दीक्षित ने उप जिलाधिकारी ऊखीमठ जितेंद्र वर्मा एवं पुलिस उपाधीक्षक विमल रावत को उक्त समस्या के समाधान के लिए व्यापार मंडल के प्रतिनिधियों से वार्ता करने भेजा। उप जिलाधिकारी ऊखीमठ जितेंद्र वर्मा के अनुसार वार्ता के बाद सोनप्रयाग बैरियर शाम 5 बजे से शाम 7 बजे तक गौरीकुंड तक जाने वाले यात्रियों के लिए खोलने पर सहमति बनी है। इससे जहां यात्री गौरीकुंड में रात्रि विश्राम कर सकेंगे वहीं क्षेत्रीय व्यापारियों का व्यवसाय ठीक ढंग से संचालित हो सकेगा।



और भी पढ़ें :