नवरात्रि पर मनचाही कामनापूर्ति के 6 सटीक और सरल मंत्र

(3) घर-परिवार में तनाव हो, हानि-दुर्घटना की आशंका हो या कोई बड़ी समस्या हो जिसका निवारण नहीं मिल रहा हो तो देवी मंत्र जपें-
 
सर्व मंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके।
शरण्ये त्रयम्बके गौरी नारायणि नमोस्तुते।।
(4) युवक जिनकी विवाह समस्या हो या वे अपनी पसंद की कन्या से विवाह चाहते हों, जिसके कार्य में रुकावटें कैसी भी हों, जपें-
 
'ॐ पत्नी मनोरमां देहि मनोवृत्तानु सारिणीम।
तारिणीं दुर्ग संसार सागरस्य कुलोद्भवाम।।' 
(5) यह आम बात सुनने में आती है कि पितृदेव, जिनका निवारण सरल नहीं है, यदि पितृ-गायत्री मंत्र का यथाशक्ति जप नवरात्रि में किया जाए तो काफी प्रभावी रहता है- 
 
'ॐ देवताभ्य: पितृभ्यश्च महायोगीभ्य एव च।
नम: स्वाहायै स्वधायै नित्वमेव नमो नम:'
तथा नवरात्रि के पश्चात 1 माला नित्य करें। कठिन हो तो 'ॐ पितृ देवतायै नम:' करें।
(6) कुलदेवता की प्रसन्नता के लिए मंत्र-
 
'ॐ कुलदेवतायै नम:' के सवा लाख जप करें तथा नित्य 1 माला करें। इति।



और भी पढ़ें :