असली मुद्दों से गोवा के लोगों का ध्यान भटका रहे हैं प्रधानमंत्री मोदी : राहुल गांधी

Last Updated: शुक्रवार, 11 फ़रवरी 2022 (20:49 IST)
हमें फॉलो करें
पणजी। के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पर्यावरण और रोजगार जैसे वास्तविक मुद्दों से गोवा के लोगों का ध्यान भटकाने का शुक्रवार को आरोप लगाया।
गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी के उस बयान की आलोचना की, जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू चाहते तो गोवा को 1947 में कुछ ही घंटों के भीतर आजाद कराया जा सकता था। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री उस समय की स्थिति और द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद क्या हो रहा था, इसे नहीं समझते हैं।

गांधी ने मडगांव में कहा, मोदी गोवा इसलिए आए हैं क्योंकि वे रोजगार, पर्यावरण जैसे वास्तविक मुद्दों से गोवा का ध्यान भटकाना चाहते हैं। क्या उन्होंने पर्यावरण और रोजगार के बारे में कुछ कहा? भाजपा के घोषणा पत्र में पर्यावरण के बारे में एक शब्द भी नहीं है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को गोवावासियों को बताना चाहिए कि उन्होंने राज्य में रोजगार पैदा करने और पर्यटन उद्योग और पर्यावरण के लिए क्या किया है। मोदी ने 14 फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले यहां के निकट मापुसा में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि कांग्रेस सरकार को गोवा को पुर्तगाली शासन से मुक्त कराने में 15 साल लग गए।

इस टिप्पणी पर उन पर निशाना साधते हुए गांधी ने कहा, इस मुद्दे पर स्वतंत्रता सेनानियों ने टिप्पणी की है। शिक्षाविदों ने इसके बारे में बात की है। दुखद बात यह है कि प्रधानमंत्री उस समय के इतिहास को नहीं समझते हैं। उन्हें समझ नहीं आता कि द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद क्या हो रहा था। वह पर्यावरण और रोजगार जैसे वास्तविक मुद्दों से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए गोवा आ रहे हैं।
Koo App
The people’s mandate for the last five years was stolen by BJP. People of had clearly said that they want a Congress government, but stole the mandate through corruption, by giving money. : Shri @RahulGandhi #RahulGandhiWithGoa - Bihar Congress (@INCBihar) 11 Feb 2022

गांधी ने आरोप लगाया कि गोवा में भारतीय जनता पार्टी ने लोगों द्वारा कांग्रेस को दिए गए जनादेश को चुराकर पिछले पांच वर्षों तक शासन किया। उन्होंने कहा, गोवा में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत मिलेगा और किसी से गठबंधन का सवाल ही नहीं उठेगा और गोवा में हमारी सरकार बनाने के लिए तुरंत कदम उठाया जाएगा।

राज्य में 2017 के चुनावों में कांग्रेस 40 सदस्‍यीय सदन में 17 सीट जीतकर सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी थी, लेकिन सत्ता में नहीं आ सकी थी। भाजपा ने 13 सीटों पर जीत दर्ज की थी और उसने मनोहर पर्रिकर के नेतृत्व में सरकार बनाने के लिए कुछ निर्दलीय उम्मीदवारों और क्षेत्रीय दलों के साथ गठबंधन किया था।

पर्रिकर का 2019 में निधन हो गया था। कांग्रेस इस बार गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ रही है। कांग्रेस ने जहां 37 उम्मीदवार उतारे हैं, वहीं जीएफपी ने तीन को टिकट दिया है।

गोवा के एक दिवसीय दौरे पर आए गांधी ने कहा कि अगर उनकी पार्टी सत्ता में आती है, तो वह राज्य में खनन शुरू कर देगी। उन्होंने कहा, हमने विषय का अध्ययन किया है। कानूनी तरीके से खनन को फिर से शुरू करने में कोई समस्या नहीं है।

उन्होंने कहा, हम कानूनी और सतत खनन की अनुमति देंगे जिससे बड़ी संख्या में लोगों को नौकरियां मिलेंगी। मैंने पर्यटन उद्योग में विभिन्न हितधारकों से बात की है, हमारे पास पर्यटन उद्योग को पूरी तरह से फिर से जीवंत करने की योजना है।

गांधी ने कहा कि कांग्रेस ने गोवा को आईटी और ज्ञान केंद्र में बदलने के लिए धन और ऊर्जा का निवेश करने का प्रस्ताव किया है, ताकि गोवा के कई युवा आईटी उद्योग में रोजगार प्राप्त कर सकें।

उन्होंने ‘हिजाब’ को लेकर चल रहे विवाद पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया और कहा कि वह किसी भी तरह की ऐसी बातचीत में शामिल नहीं होंगे, जिससे गोवा के लोगों का ध्यान भटके। उन्होंने कहा, मेरा मिशन उन चीजों पर ध्यान केन्द्रित करना है, जो गोवा के लोगों के लिए महत्वपूर्ण है।(भाषा)



और भी पढ़ें :