मन की बात में पीएम मोदी को याद आया आपातकाल, कहा- छीन लिया गया था जीने का अधिकार

Last Updated: रविवार, 26 जून 2022 (14:00 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कार्यक्रम के जरिए देशवासियों को संबोधित किया। इस अवसर पर उन्होंने 1975 की इमरजेंसी को याद कर कहा कि लोगों से जीने का अधिकार छीन लिया गया था। लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास किया गया था।

उन्होंने मन की बात के 90वें एपिसोड को संबोधित करते हुए कहा कि आज की पीढ़ी के नौजवानों से, 24-25 साल के युवाओं से, एक सवाल पूछना चाहता हूं और सवाल बहुत गंभीर है। लेकिन मेरे नौजवान साथियो, हमारे देश में एक बार ऐसा हुआ था। ये बरसों पहले 1975 की बात है। जून का वही समय था जब 'आपातकाल' लागू किया गया था।

नरेंद्र मोदी ने कहा कि उस समय भारत के लोकतंत्र को कुचल देने का प्रयास किया गया था। देश की अदालतें, हर संवैधानिक संस्था, प्रेस, सब पर नियंत्रण लगा दिया गया था। सेंसरशीप की ये हालत थी कि बिना स्वीकृति कुछ भी छापा नहीं जा सकता था।
उन्होंने कहा कि भारत के लोगों ने लोकतांत्रिक तरीके से ही 'आपातकाल' को हटाकर, वापस, लोकतंत्र की स्थापना की। तानाशाही की मानसिकता को, तानाशाही वृति-प्रवृत्ति को लोकतांत्रिक तरीके से पराजित करने का ऐसा उदाहरण पूरी दुनिया में मिलना मुश्किल है।

मोदी ने कहा कि इमरजेंसी के दौरान मुझे भी देशवासियों के संघर्ष का, गवाह रहने का, साझेदार रहने का सौभाग्य मुझे लोकतंत्र के एक सैनिक के रूप में मिला था।

आज हमारा भारत जब इतने सारे क्षेत्रों में सफलता का आकाश छू रहा है, तो आकाश, या अन्तरिक्ष, इससे अछूता कैसे रह सकता है। बीते कुछ समय में हमारे देश में स्पेस सेक्टर से जुड़े कई बड़े काम हुए हैं। देश की इन्हीं उपलब्धियों में से एक है In-Space नाम की एजेंसी का निर्माण।
कुछ दिन पहले जब मैं In-Space के हेडक्वार्टर के लोकार्पण के लिए गया था, तो मैंने कई युवा स्टार्ट अप्स के आइडिया और उत्साह को देखा। आज से कुछ साल पहले तक हमारे देश में, स्पेस सेक्टर में, स्टार्ट अप्स के बारे में, कोई सोचता तक नहीं था। आज इनकी संख्या 100 से भी ज्यादा है।

बीते दिनों, हमारे ओलंपिक गोल्ड मेडल विजेता नीरज चोपड़ा फिर से सुर्खियों में छाए रहे। फिनलैंड में नीरज ने पावो नुरमी गेम्स में सिल्वर जीता। यही नहीं, उन्होंने अपने ही जेवलिन थ्रो के रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया।



और भी पढ़ें :