मोदी सरकार ने 7 साल में LPG के दाम 585 रुपए बढ़ाए, अब सिलेंडर को सरेंडर करने का वक्त

Last Updated: शनिवार, 7 मई 2022 (14:32 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। कांग्रेस में सिलेंडर के दाम बढ़ाने पर सरकार की तीखी आलोचना करते हुए इसकी बड़ी कीमत तत्काल वापस लेने और लोगों को राहत देने की मांग की है। उल्लेखनीय है कि रसोई गैस के दामों में 50 रुपए की वृद्धि की गई है। इसके बाद रसोई गैस के दाम दिल्ली 1000 रुपए तो कई स्थानों पर 1025 रुपए के पार पहुंच गए हैं।


कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि मोदी सरकार आम आदमी के साथ अन्याय कर रही है और उसे सब्सिडी वाले सिलेंडर के दाम को तत्काल वर्ष 2014 के स्तर पर लाना चाहिए।

सिलेंडर को सरेंडर का वक्त : पार्टी प्रवक्ता पवन खेड़ा ने भी पार्टी मुख्यालय में विशेष संवाददाता सम्मेलन में कहा कि रसोई गैस के घरेलू सिलेंडर के दाम 50 रुपए बढ़ा दिए हैं और दिल्ली में इसकी कीमत 1000 रुपए से महज 50 पैसे कम रह गई है। उनका कहना था कि अब 'सिलेंडर को सरेंडर' करने का वक्त आ गया है क्योंकि आम आदमी की पहुंच से इसकी कीमतें बाहर हो गई है। उन्होंने पार्टी मुख्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में रसोई गैस के दो सिलेंडर भी सजा करके रखे थे। उनके सामने अगरबत्ती भी जल रही थी।

सुरजेवाला ने इससे पहले कहा कि 'भाजपा मालामाल, जनता बेहाल'। भाजपा राज में सब्सिडी वाला रसोई गैस सिलेंडर ढाई गुना हो चुका है, रसोई गैस की मध्यम और गरीब की पहुंच से बाहर हो चुकी है। एलपीजी की दर मई 2014 में 414 रुपए, आज- 999.50 रुपए, बढ़ोतरी 585.5 रुपये की गई।
अब सब्सिडी जीरो : प्रवक्ता ने कहा कि हमारी मांग है की सब्सिडी वाली रसोई गैस की कीमतों को वर्ष 2014 के स्तर पर लाया जाए। मोदी सरकार ने गैस सब्सिडी को खत्म करके गरीब तथा मध्यम वर्ग पर कुठाराघात किया है। वर्ष 2012-13 में कांग्रेस सरकार में एलपीजी सब्सिडी 39,558 करोड़ रुपए थी, 2013-14 में कांग्रेस सरकार ने 46,458 करोड़ रुपए गैस सब्सिडी दी, जिसे मोदी सरकार ने 2015-16 में 18 करोड़ रुपए और 2016-17 से जीरो कर दिया।
उन्होंने कहा कि मोदी सरकार में रसोई का चूल्हा, महंगाई की आग से जल रहा है। आज सुबह महंगाई की एक और किस्त घरेलू गैस सिलिंडर एलपीजी के दाम भी आज 50 रुपए बढ़ गए। पहले 22 मार्च को भी 50 रुपए बढ़ाए थे, 45 दिन में एलपीजी सिलेंडर के दाम 100 रुपए बढ़ गए। कमर्शियल सिलेंडर के दाम भी 60 दिन में 457.50 रुपए बढ़ गए।



और भी पढ़ें :