दिल्ली BJP का बड़ा दावा, AAP का पदाधिकारी है जहांगीरपुरी हिंसा का साजिशकर्ता अंसार

Last Updated: रविवार, 17 अप्रैल 2022 (21:00 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। जहांगीरपुरी हिंसा मामले में दिल्ली पुलिस अभी तक 20 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। गिरफ्तार आरोपियों को दिल्ली पुलिस ने में पेश किया गया। पेशी के दौरान आरोपियों को जब पुलिस अपने साथ ले जा रहे थे, उस वक्त आरोपियों के चेहरे पर जरा भी शिकन नहीं थी।
ALSO READ:

: जहांगीरपुरी दंगे में अब तक 20 लोग गिरफ्तार, क्राइम ब्रांच को सौंपा केस, कोर्ट ले जाते समय आरोपी ने दिया फिल्म पुष्पा वाला पोज
इस बीच दिल्ली भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने सनसनीखेज दावा किया है कि अंसार आम आदमी पार्टी का पदाधिकारी है। भाजपा ने दंगों को लेकर विपक्ष का भी घेराव किया है।
भाजपा ने कहा कि पिछले 70 वर्षों से चली आ रही ‘तुष्टीकरण की विचारधारा’ देशभर में हुए सांप्रदायिक दंगों के लिए जिम्मेदार है।
भाजपा मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए पात्रा ने कहा कि उत्तर-पश्चिमी दिल्ली में हुईं झड़पों की जांच की जा रही है और सभी को नतीजे का इंतजार करना चाहिए।
उन्होंने कहा कि लेकिन साथ ही, हम यह कहना चाहेंगे कि सोनिया गांधी द्वारा कल अन्य विपक्षी नेताओं के साथ एक संयुक्त बयान जारी किया गया। कुछ विपक्षी नेताओं की यह चुनिंदा राजनीति देश के लिए ठीक नहीं है, यह देश के लिए हानिकारक है। पात्रा ने कहा कि सोनिया गांधी ने इस पत्र में विचारधारा के बारे में बात की... आज सवाल उठता है कि कौन सी विचारधारा देश में इस तरह के दंगों को जन्म देती है।

पिछले सत्तर साल से एक ही विचारधारा है और उसका नाम है तुष्टीकरण की विचारधारा। उन्होंने कहा कि तुष्टीकरण की यह नीति और राजनीति ‘अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है। पात्रा ने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल कुछ नहीं करते हैं और केवल भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई की डींग हांकते हैं।

उनके साथ भाजपा की दिल्ली इकाई के प्रमुख आदेश गुप्ता भी थे। पात्रा ने कहा कि दिल्ली में ऐसा माहौल बना दिया गया जैसे अरविंद केजरीवाल जी भ्रष्टाचार के खिलाफ कोई बड़ी लड़ाई लड़ने की कोशिश कर रहे हों। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) के अधिकारियों ने कहा कि भ्रष्टाचार रोधी हेल्पलाइन 1031 पर प्राप्त सभी कॉल का कोई रिकॉर्ड नहीं है। उन्होंने कहा कि हेल्पलाइन बंद कर दी गई और एक भी व्यक्ति दोषी नहीं पाया गया। (इनपुट भाषा)



और भी पढ़ें :