Weather Updates : हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश से तबाही, कांगड़ा में चक्की पुल टूटा

Last Updated: शनिवार, 20 अगस्त 2022 (17:02 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। बंगाल की उत्तर-पूर्वी खाड़ी के ऊपर बना गहरा कम दबाव का क्षेत्र उत्तर-पश्चिम दिशा में चला गया है और एक डिप्रेशन के रूप में केंद्रित हो गया है। इसके पश्चिम उत्तर-पश्चिम दिशा में आगे बढ़ने की उम्मीद है में भारी वर्षा की संभावना है। में से तबाही के हालात नजर आ रहे हैं। कांगड़ा में चक्की पुल टूटा।
हिमाचल प्रदेश में लगातार बारिश के कारण स्कूल बंद :

हिमाचल प्रदेश के भारी बारिश से तबाही के हाल नजर आ रहे हैं। कांगड़ा में चक्की पुल टूटा।
मंडी जिले में लगातार हो रही बारिश के कारण शनिवार को स्कूल बंद रहेंगे। प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी।

जिला उपायुक्त सह जिलाधिकारी अरिंदम चौधरी ने कहा कि मंडी में पिछले 2 दिनों से लगातार हो रही बारिश और अगले 24 घंटों में भारी बारिश के पूर्वानुमान को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है कि 20 अगस्त को मंडी जिले के कॉलेजों और आईटीआई को छोड़कर सभी सरकारी और निजी शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे। आदेश में कहा गया है कि सभी आंगनवाड़ी भी बंद रहेंगी। अधिकारी ने कहा कि बंद शिक्षण संस्थानों के प्रमुख लोगों की सुरक्षा के लिहाज से जारी आदेश का सख्ती से पालन करेंगे।
सरायकेला-खरसांवा, पश्चिमी एवं पूर्वी सिंहभूम जिलों में बारिश का रेड अलर्ट :
झारखंड के सरायकेला-खरसांवा, पश्चिमी एवं पूर्वी सिंहभूम जिलों समेत अनेक इलाकों में अगले 48 घंटों के लिए भारी वर्षा का पूर्वानुमान व्यक्त करते हुए मौसम विभाग ने रेड अलर्ट जारी किया है।

मौसम विभाग के अनुसार राज्य के इन जिलों समेत अनेक अन्य इलाकों में इस दौरान 70 से 200 मिमी तक वर्षा होने की संभावना है। रांची स्थित मौसम विभाग के प्रमुख अभिषेक आनंद ने बताया कि झारखंड के चतरा, पूर्वी सिंहभूम और कोडरमा जिलों में अगले कुछ घंटे में जोरदार बारिश हो सकती है। उन्होंने कहा कि इन जिलों में मेघ गर्जन के साथ आकाशीय बिजली भी गिर सकती है। उन्होंने कहा कि इस दौरान तेज हवाएं भी चलेंगी और हवाओं की गति 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे तक हो सकती है।

दक्षिण-पूर्वी पाकिस्तान और उससे सटे राजस्थान के ऊपर बना हुआ गहरा कम दबाव का क्षेत्र अब दक्षिण-पूर्वी पाकिस्तान के ऊपर बना हुआ है। संबद्ध चक्रवाती परिसंचरण औसत समुद्र तल से 7.6 किमी तक फैला हुआ है। इसके पश्चिम उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और 20 अगस्त तक धीरे-धीरे कमजोर होने की उम्मीद है।
अब जैसलमेर, हिसार, बरेली, गोरखपुर, पटना, बांकुड़ा, दीघा और फिर पूर्व दक्षिण पूर्व की ओर उत्तर-पश्चिम और इससे सटे उत्तर-पूर्व बंगाल की खाड़ी के ऊपर डिप्रेशन के केंद्र की ओर जा रही है। रायलसीमा से कोमोरिन क्षेत्रों तक उत्तर-दक्षिणी ट्रफ तमिलनाडु से गुजरते हुए निचले स्तर पर देखी गई।
पिछले 24 घंटों की मौसमी हलचल: पिछले 24 घंटों के दौरान पश्चिम बंगाल, ओडिशा के उत्तरी तट और हिमाचल प्रदेश में कुछ स्थानों पर मध्यम से भारी बारिश हुई। छत्तीसगढ़, ओडिशा के शेष हिस्सों, सिक्किम, पूर्वी असम, अरुणाचल प्रदेश, गुजरात, पश्चिमी राजस्थान, कोंकण और गोवा, मध्य महाराष्ट्र, तेलंगाना के कुछ हिस्सों, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, मध्यप्रदेश और विदर्भ में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई। उत्तराखंड, शेष पूर्वोत्तर भारत और दक्षिण प्रायद्वीप के शेष हिस्सों में हल्की बारिश हुई।
अगले 24 घंटों के मौसम का अनुमान: अगले 24 घंटों के दौरान, गंगीय पश्चिम बंगाल, दक्षिण-पूर्व झारखंड, उत्तरी ओडिशा में एक या दो बहुत भारी बारिश के साथ मध्यम से भारी बारिश हो सकती है। झारखंड, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्सों और आंतरिक ओडिशा में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है।

दक्षिण उत्तरप्रदेश, तेलंगाना और में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक या दो स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है। शेष उत्तरप्रदेश, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर, पूर्वोत्तर भारत, केरल के कुछ हिस्सों, मराठवाड़ा, मध्य महाराष्ट्र और तमिलनाडु में हल्की से मध्यम बारिश संभव है।



और भी पढ़ें :