असम में भीषण बाढ़, 2 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित, पानी ने ट्रेन को पलटा, गेंडे बहे

पुनः संशोधित मंगलवार, 17 मई 2022 (20:17 IST)
हमें फॉलो करें
हाफलोंग/गुवाहाटी। असम में आई बाढ़ से 20 जिलों के हुए हैं, जबकि 7 लोगों की मौत हो गई। लगातार बारिश से आए भूस्खलन के कारण रेल एवं सड़क संपर्क टूट गया है। बुलेटिन के अनुसार दीमा हसाओ पर्वतीय जिले का संपर्क देश के शेष हिस्सों से टूट गया है। एक स्टेशन पर पानी के तेज बहाव के कारण ट्रेन ही पलट गई, जबकि जंगली इलाकों में कई गेंडों के बह जाने की खबर है।


रिपोर्ट्‍स के मुताबिक कछार जिले में बाढ़ से 2 लोगों की मौत हुई, जबकि इससे पहले, भूस्खलन के कारण दीमा हसाओ में 3 लोगों की मौत हुई थी। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) के बुलेटिन में बताया गया कि बाढ़ से 2 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं।

इस बीच, पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (एनएफआर) ने बताया कि भारी भूस्खलन और लगातार बारिश की वजह से पटरियों पर जलजमाव होने के कारण असम के लुमडिंग-बदरपुर पहाड़ी खंड में दो दिनों से फंसी दो ट्रेनों के लगभग 2800 यात्रियों को निकालने का काम सोमवार को वायुसेना और अन्य एजेंसियों की मदद से पूरा हो गया।
उसने बताया कि कई यात्रियों को वायु सेना द्वारा निकाला गया क्योंकि शनिवार से जारी लगातार बारिश से बचाव अभियान बाधित हुआ था। दो ट्रेनें दीमा हसाओ जिले में एनएफआर के लुमडिंग खंड में फंसी हुई थीं। प्रभावित क्षेत्र में शनिवार से खंड की लगभग 18 ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है और 10 से अधिक अन्य ट्रेनों को कुछ समय के लिए टाल दिया गया है।
त्रिपुरा पर भी असर : असम में बारिश के कारण आए भूस्खलनों से प्रभावित रेल नेटवर्क को बहाल करने में कम से कम 2 माह का समय लगेगा और ऐसे में त्रिपुरा सरकार पड़ोसी राज्य से सड़क मार्ग के जरिए आवश्यक सामग्रियों की आपूर्ति की आकस्मिक योजना बना रही है। अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के अतिरिक्त सचिव तपन कुमार दास ने कहा कि अभी त्रिपुरा में आवश्यक वस्तुओं और ईंधन की ‘कोई कमी’ नहीं है, लेकिन यदि ट्रेन सेवाएं लंबे समय तक बाधित रहती हैं, तो इससे राज्य में सामान्य आपूर्ति पर प्रभाव पड़ेगा।
उन्होंने कहा कि विभाग आकस्मिक योजना के तहत सड़क मार्ग से गुवाहाटी से आवश्यक सामग्रियां लाएगा। माईबोंग में ट्रेन सेवाएं बाधित होने के मद्देनजर स्थिति का जायजा लेने के लिए भारतीय खाद्य निगम के अधिकारियों के साथ हमारी आज एक वीडियो कॉन्फ्रेंस है। उन्होंने बताया कि राज्य में इस समय 42 दिन के लिए चावल का भंडार है।
एक अन्य अधिकारी ने बताया कि पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (एनएफआर) ने असम में भूस्खलनों के मद्देनजर त्रिपुरा, दक्षिण असम, मणिपुर और मिजोरम के लिए 25 मई तक ट्रेन सेवाओं को पहले ही निलंबित कर दिया है। उन्होंने कहा कि यदि माईबोंग और इसके निकटवर्ती इलाकों में बारिश जारी रहती है, तो बहाली कार्य में देरी हो सकती है।

अधिकारी ने बताया कि असम के माईबोंग इलाके में आपदा जैसी स्थिति के कारण लंबी दूरी की सभी 7 यात्री ट्रेन निलंबित कर दी गई हैं। बहरहाल, भूस्खलन के कारण अगरतला और सिलचर के बीच यात्री ट्रेन सेवाएं प्रभावित नहीं हुई हैं।



और भी पढ़ें :