मानसून के आगे बढ़ने के लिए बनीं अनुकूल स्थितियां, मध्यप्रदेश और हरियाणा में लू की आशंका

Last Updated: शुक्रवार, 20 मई 2022 (13:35 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। अगले 48 घंटों के दौरान दक्षिण और मध्य की खाड़ी के कुछ और हिस्सों और दक्षिण अरब सागर के कुछ हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम के आगे बढ़ने के लिए स्थितियां अनुकूल होती जा रही हैं। एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र उत्तरी आंतरिक तमिलनाडु और आसपास के क्षेत्र पर बना हुआ है।
ALSO READ:

दक्षिण पश्चिम मानसून आगे बढ़ा, इन राज्यों में भारी बारिश की संभावना

एक ट्रफ रेखा पूर्वोत्तर मध्यप्रदेश से विदर्भ, मराठवाड़ा और आंतरिक कर्नाटक होते हुए आंतरिक तमिलनाडु तक फैली हुई है। राजस्थान के पूर्वी मध्य भागों पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। एक पश्चिमी विक्षोभ जम्मू-कश्मीर और आसपास के क्षेत्र पर बना हुआ है। एक पूर्व-पश्चिम ट्रफ रेखा उत्तर-पश्चिम राजस्थान से पश्चिम तक दक्षिण उत्तरप्रदेश, दक्षिण और उपहिमालयी पश्चिम बंगाल से होती हुई गुजर रही है।
पिछले 24 घंटों के दौरान मेघालय, असम, के कई हिस्सों और केरल के कुछ हिस्सों में मध्यम से भारी बारिश हुई। अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, शेष पूर्वोत्तर भारत और कर्नाटक के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई। लक्षद्वीप, रायलसीमा, तटीय आंध्रप्रदेश, तेलंगाना के कुछ हिस्सों, सिक्किम, उपहिमालयी पश्चिम बंगाल और उत्तराखंड में हल्की से मध्यम बारिश हुई। तमिलनाडु, छत्तीसगढ़ के कुछ हिस्सों, झारखंड, उत्तरी पंजाब, उत्तरी हरियाणा, झारखंड, गोवा और पूर्वोत्तर मध्यप्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में हल्की बारिश हुई।

अगले 24 घंटों के दौरान तटीय कर्नाटक, उत्तरी आंतरिक कर्नाटक, केरल के कुछ हिस्सों, लक्षद्वीप, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, पश्चिम असम और में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है। बाकी पूर्वोत्तर भारत, उपहिमालयी पश्चिम बंगाल, बिहार के पूर्वी हिस्सों, रायलसीमा के कुछ हिस्सों, तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, गिलगित-बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद, लद्दाख और हिमाचल प्रदेश के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।
उत्तराखंड, पूर्वी झारखंड, ओडिशा के कुछ हिस्सों, दक्षिण छत्तीसगढ़, विदर्भ, मराठवाड़ा, दक्षिण कोंकण और गोवा, दक्षिण मध्य महाराष्ट्र और तटीय तमिलनाडु के एक या दो हिस्सों में हल्की बारिश संभव है। राजस्थान, दक्षिण हरियाणा और मध्यप्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में हीटवेव संभव है और 21 और 22 मई तक ओडिशा के कुछ हिस्सों में भी हीटवेव पहुंच सकती है।



और भी पढ़ें :