कपिल सिब्बल के इस्तीफे पर कांग्रेस महासचिव वेणुगोपाल ने दिया यह बयान...

पुनः संशोधित बुधवार, 25 मई 2022 (20:08 IST)
हमें फॉलो करें
कोच्चि। ने वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल के पार्टी छोड़ने को अधिक तवज्जो नहीं देते हुए बुधवार को कहा कि पार्टी राष्ट्रीय राजनीति में उच्च स्तर की पार्टी है और विभिन्न राज्यों में कई नेता इसमें शामिल हुए हैं जिस पर ध्यान नहीं दिया गया है।
अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) महासचिव ने कहा कि आठ पूर्व विधायक दो दिन पहले हरियाणा में कांग्रेस में शामिल हुए थे लेकिन अफसोस की बात है कि इस तरह की खबरों को प्रमुखता नहीं मिलती।

वेणुगोपाल हाल ही में राजस्थान में आयोजित चिंतन शिविर के बाद भी नेताओं के कांग्रेस पार्टी छोड़ने को लेकर पूछे गए सवाल का जवाब दे रहे थे। वेणुगोपाल ने कहा कि उत्तर प्रदेश से समाजवादी पार्टी (सपा) के समर्थन से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर आज राज्यसभा के लिए नामांकन दाखिल करने वाले सिब्बल ने अपने त्याग पत्र में कांग्रेस की विचारधारा के खिलाफ कुछ नहीं कहा है।

वेणुगोपाल ने यह पूछ जाने पर कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया कि क्या सिब्बल ने केवल राज्यसभा की सीट को लेकर पार्टी छोड़ दी क्योंकि वरिष्ठ नेता को समायोजित करने के लिए कांग्रेस के पास कोई सीट नहीं थी। वेणुगोपाल ने साथ ही सिब्बल के इस्तीफे के बाद पार्टी पर पड़ने वाले प्रभाव जैसे अन्य सवालों पर भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

इससे पहले, सिब्बल के कांग्रेस छोड़ने के विषय पर बात करते हुए वेणुगोपाल ने कहा, कांग्रेस राष्ट्रीय राजनीति में उच्च स्तर की पार्टी है। वेणुगोपाल ने कहा कि बहुत जल्द पार्टी में व्यापक बदलाव होगा, क्योंकि पार्टी के चिंतन शिविर के दौरान लिए गए निर्णयों के अनुरूप अधिक युवा चेहरों को शामिल किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस भाजपा सरकार से मुकाबला करना जारी रखेगी, जो अपने विरोधियों को राजनीतिक रूप से खत्म करने के लिए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी), केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और खुफिया ब्यूरो (आईबी) सहित केंद्रीय एजेंसियों का इस्तेमाल कर रही है।

वेणुगोपाल ने कहा, झटके लग सकते हैं। हम उनसे सबक लेंगे और हम इससे उबरेंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस एकमात्र ऐसी पार्टी है जो राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा से मुकाबला करने में सक्षम है।

सिब्बल ने यह घोषणा करते हुए कि उन्होंने पिछले सप्ताह कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था, बुधवार को समाजवादी पार्टी द्वारा समर्थित एक निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में राज्यसभा के लिए अपना नामांकन पत्र दाखिल किया।(भाषा)



और भी पढ़ें :