दिल्ली यूनिवर्सिटी का बड़ा फैसला, नए कॉलेजों के बदलेंगे नाम

पुनः संशोधित रविवार, 31 अक्टूबर 2021 (18:16 IST)
नई दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति ने फैसला किया है कि नए बनने वाले महाविद्यालयों और केंद्रों के नाम और दिवंगत भाजपा नेता के नाम पर होंगे। सूत्रों ने यह जानकारी दी।
उन्होंने बताया कि यह निर्णय विश्वविद्यालय की कार्यकारी परिषद में लिया गया। सूत्रों ने बताया कि परिषद ने तीन सदस्यों- सीमा दास, राजपाल सिंह पवार और अधिवक्ता अशोक अग्रवाल की असहमति के बावजूद सहायक प्राध्यापक के चुनाव और नियुक्ति में प्रस्तावित बदलाव को मंजूरी दे दी गई।

सूत्रों ने बताया कि विश्वविद्यालय की कार्यकारी परिषद की अगस्त में हुई बैठक में फैसला किया गया कि इन महाविद्यालयों/ केंद्र का नाम सुषमा स्वराज, स्वामी विवेकानंद, वीडी सावरकर और सरदार पटेल पर रखा जाएगा।

उन्होंने बताया कि परिषद ने अटल बिहारी वाजपेयी, सावित्री बाई फुले, अरुण जेटली, चौधरी ब्रह्म प्रकाश और सीडी देशमुख का नाम सुझाया था। परिषद ने नामों पर अंतिम फैसले के लिए कुलपति को अधिकृत किया था।

DU ने जारी की चौथी कट-ऑफ सूची : दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) ने शनिवार को अपनी चौथी कट-ऑफ सूची जारी की। हालांकि पूर्व में जारी सूचियों में अधिक मांग वाले कॉलेजों जैसे हिंदू कॉलेज और श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स में अनारक्षित श्रेणी की सीटें पहले ही भर चुकी हैं। पहली कट-ऑफ सूची एक अक्टूबर को जारी होने के बाद से 63,504 छात्र फीस जमा कर प्रवेश पा चुके हैं।

हंसराज कॉलेज में बीए (ऑनर्स) अर्थशास्त्र, बीए (ऑनर्स) इतिहास और बीकॉम (ऑनर्स) पाठ्यक्रमों में दाखिले जारी हैं जबकि अनारक्षित श्रेणी में अन्य अधिकतर कोर्स के लिए प्रवेश बंद कर दिया गया है।

वहीं हिंदू कॉलेज ने पहली कट-ऑफ सूची के बाद बीए (ऑनर्स) दर्शनशास्त्र में प्रवेश बंद कर दिया था, हालांकि इसे 97.75 प्रतिशत की कट-ऑफ के साथ विशेष सूची के तहत खोला गया था। प्रवेश के लिए आवश्यक न्यूनतम अंकों में 0.25 प्रतिशत की कमी की गई है। इस कॉलेज में अन्य कोर्स के लिए प्रवेश बंद कर दिया गया है।

किरोड़ी मल कॉलेज में बीए (ऑनर्स) अर्थशास्त्र, बीए (ऑनर्स) इतिहास, बीए (ऑनर्स) अंग्रेजी और बीकॉम (ऑनर्स) कोर्स में प्रवेश अभी जारी है। श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स ने सामान्य श्रेणी के अभ्यर्थियों के लिए बीकॉम (ऑनर्स) और अर्थशास्त्र (ऑनर्स) में दाखिला प्रक्रिया बंद कर दी है।(भाषा)




और भी पढ़ें :