जम्मू-कश्मीर आतंकियों पर टूट पड़े सुरक्षाबल, 36 घंटों में 9 मार गिराए

सुरेश एस डुग्गर| पुनः संशोधित बुधवार, 13 अक्टूबर 2021 (19:04 IST)
जम्मू। कश्मीर में तूफान की भांति आतंकियों पर टूट पड़े हैं। आज भी उन्होंने जैश-ए-मुहम्मद के एक टॉप आतंकी कमांडर को मार गिराया है। इसके साथ ही पिछले 36 घंटों में मरने वाले आतंकियों का आंकड़ा 9 पहुंच गया है। जबकि, इस माह मारे गए 12 आतंकियों में से 9 को सिर्फ 36 घंटों में ही मार गिराया गया है। इस बीच, राजौरी और पुंछ में सेना और पुलिस का आतंकियों के खिलाफ तलाशी अभियान लगातार तीसरे दिन भी जारी है।

अधिकारियों ने बताया कि अवंतीपोरा त्राल के तिलवानी मोहल्ला में जारी मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को मार गिराया है। मारे गए आतंकी की पहचान जैश-ए-मोहम्मद के कमांडर शमीम उर्फ शाम सोफी के रूप में हुई है। यह सुरक्षाबलों की बड़ी सफलता है। समाचार लिखे जाने तक मुठभेड़ जारी थी।


पिछले तीन दिनों में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच यह छठी मुठभेड़ है। यही नहीं सुरक्षाबलों ने इस दौरान अभी तक 9 आतंकियों को ढेर कर दिया है। फिलहाल एक आतंकवादी को मार गिराने के बाद भी दोनों ओर से गोलीबारी जारी है। वहीं मुठभेड़ से पहले ही आसपास रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों ले जाया गया था। कश्मीर पुलिस के महानिरीक्षक विजय कुमार ने जानकारी दी है कि मारा गया आतंकी जैश-ए-मोहम्मद का कमांडर सोफी है।

दूसरी ओर राजौरी और पुंछ में सेना और पुलिस का आतंकियों के खिलाफ तलाशी अभियान लगातार तीसरे दिन भी जारी है। ये वही आतंकी है जिनके खिलाफ कार्रवाई में रविवार देर रात सेना के एक जेसीओ समेत 5 जवान शहीद हो गए थे। सेना के सूत्रों के मुताबिक 4 से 5 आतंकियों का ग्रुप ऊंची पहाड़ी और जंगल का फायदा उठाकर लगातार अपने ठिकाने बदल रहा है।

मंगलवार को सेना के साथ आतंकियों की गोलाबारी भी हुई पर अभी तक सफलता नही मिल पाई है। सेना और पुलिस के सैकड़ों जवान पुंछ के डेरा की गली से लेकर थन्नामंडी तक इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान चला रहे हैं। वैसे बताया जा रहा है कि पुंछ और राजौरी जिले के बार्डर पर स्थित पंगेई के जंगलों में आतंकियों की मौजूदगी पिछले दो-तीन माह से है।
यह खुलासा पुलिस की राजौरी-पुंछ रेंज के डीआईजी विवेक गुप्ता ने भी बातचीत के दौरान किया है। पांच सैन्य जवानों की शहादत और चल रहे आप्रेशन पर डीआईजी ने कहा कि जंगलों में आतंकियों की मौजूदगी दो-तीन माह से है। इनकी तलाश की जा रही थी, इसी दौरान सर्च पार्टी पर हमला हुआ है।

डीआईजी ने कहा कि यहां की भौगोलिक परिस्थितियां बेहद चुनौतीपूर्ण हैं, लेकिन पूरा ऑपरेशन एक रणनीति के साथ आगे बढ़ रहा है। आतंकियों को स्थानीय स्तर पर कोई मदद नहीं मिल रही है। उन्हें एक क्षेत्र में घेर लिया गया है। पहले चलाए गए ऑपरेशन में भी समय जरूर लगा है, लेकिन आतंकियों को ढेर करने में सुरक्षा बलों ने सफलता पाई है। इस बार भी दहशतगर्दों का सफाया कर दिया जाएगा।



और भी पढ़ें :