स्वस्थ बच्चे ही भारत को आगे बढ़ाएँगे-तीरथ

नई दिल्ली| भाषा| पुनः संशोधित शनिवार, 14 नवंबर 2009 (17:38 IST)
PIB
महिला एवं बाल राज्य मंत्री ने आज कहा कि स्वस्थ बच्चे ही को विकास के पथ पर आगे ले जाएँगे। तीरथ राष्ट्रीय बाल पुरस्कार वितरण समारोह में बोल रही थीं। इस अवसर पर उन्होंने देश के विभिन्न हिस्सों से आए 25 बच्चों को उनकी उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए वर्ष 2009 के राष्ट्रीय बाल पुरस्कार प्रदान किए।


बेंगलुरु की 15 वर्षीय श्रुति को उसकी उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए राष्ट्रीय बाल पुरस्कार के स्वर्ण पदक से सम्मानित किया गया। हैदराबाद की बंसी प्रतिमा मुत्याला (8) और गुवाहाटी की पाँच वर्षीय आस्थाजिता नंदा बोरदोलोई सहित 25 बच्चों को उनकी उल्लेखनीय उपलब्धियों के लिए इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

तीरथ ने कहा कि मैं अपने देश के बच्चों में झाँसी की रानी और गाँधीजी का रूप देखती हूँ। वे ही हमारा भविष्य हैं। हमारे सामने सवाल यह है कि कुपोषण से जूझ रहे बच्चों के लिए हम क्या कर सकते हैं। यह हम सबकी जिम्मेदारी है कि अपने आस पास के कुपोषण के शिकार बच्चों पर हम ध्यान दें। इस मौके पर उन्होंने बच्चों और महिलाओं के पोषण के लिए मातृत्व सहयोग और सबला नाम से दो योजनाओं की घोषणा भी की।

जाने-माने राजनेता करनसिंह ने भी इस अवसर पर पूर्व प्रधानमंत्री पंडित नेहरू को याद करते हुए कहा कि नेहरूजी कहा करते थे कि हमें जो करना है हमने कर दिया। आने वाला कल बच्चों का है। उन्होंने बच्चों से अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देने और योग करने की अपील की और कहा कि मिल जुलकर काम करने की भावना से अच्छे समाज का विकास होता है।

महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री ने इस मौके पर 25 नवंबर से देश में ‘दहेज के खिलाफ बेटियाँ’ नाम से एक अभियान चलाने की घोषणा भी की। (भाषा)



और भी पढ़ें :