हाथ पैर नहीं लेकिन खेलते हैं फुटबॉल और गोल्फ, एक बार कोशिश की थी आत्महत्या करने की

Nick Vujicic
Last Updated: मंगलवार, 28 सितम्बर 2021 (18:20 IST)
यदि आप खुद को किसी भी स्तर पर कमजोर मानते हैं तो आपको ( Nick Vujicic ) की कहानी को जानने के बाद एक बार फिर से सोचना होगा। यह व्यक्ति पूरी दुनिया के लिए एक प्रेरक उदाहरण है कि शारीरिक कमजोरी कुछ नहीं होती है। यदि व्यक्ति मन से मजबूत हो तो दुनिया जीती जा सकती है।

निक का जन्म 1982 को मेलबोर्न, ऑस्ट्रेलिया में हुआ था। एक दुर्लभ बीमारी फ़ोकोमेलिया ( Phocomelia ) के साथ पैदा हुए निक के बचपन से ही हाथ और पैर नहीं है। आप सोच सकते हैं कि कैसे इस बच्चे ने बचपन में संघर्ष किया होगा। इसके साथ इसके माता-पिता ने भी संघर्ष किया होगा, लेकिन निक आत्मनिर्भर बनने में कामयाब रहे। वे अपना काम खुद करते हैं।

इसके पीछे उनके माता-पिता की काफी मेहनत रही। निक के माता-पिता ने छोटी उम्र से ही उन्हें तैरना सिखाने लगे। 6 साल की उम्र में उन्हें पंजे की सहायता से टाइप करना सिखाया, तकनीशियनों के सहयोग से उन्होंने निक के लिए प्लास्टिक का ऐसा डिवाइस बनवाया जिनकी सहायता वे पैंसिल व पैन पकड़कर लिखना सीख गए। उनका सभी मित्रों, रिश्तेदारों ने सहयोग किया और वे सबकुछ सीख गए।
निक के माता-पिता ने उन्हें स्पेशल स्कूल में भेजने के बजाया सामान्य स्कूल में पढ़ाया। सामान्य बच्चों के साथ पढ़ने-लिखने ये लाभ हुआ कि निक भी सामान्य बच्चों की तरह काम करने के लिए प्रेरित हुए। लेकिन निक को पढ़ाई, खेलकूद व अपने रोजमर्रा के काम करने में बड़ी कठिनाइयों का सामना करना होता था। स्कूल में बच्चे उनका मजाक उड़ाते थे। इन सब चीजों से हताश और दु:खी होकर 10 वर्ष की उम्र में उन्होंने एक पानी के टब में डूबकर आत्महत्या तक करने का प्रयास किया लेकिन उनके माता-पिता के प्यार और प्रोत्साहन ने उन्हें हौसला प्रदान किया।
निक को उनकी मां ने एक न्यूज पैपर में प्रकाशित एक लेख पढ़कर सुनाया जिसमें एक विकलांग व्यक्ति के संघर्ष और सफलता की कहानी थी। तब निक को अहसास हुआ कि दुनिया में वो अकेला विकलांग नहीं है और परिश्रम एवं संघर्ष द्वारा आगे बढ़ा जा सकता है। उसके बाद उसके जीवन की दिशा ही बदल गई।

निक ने क्वीनलेंड (Queensland) में ग्रिफ़िथ विश्वविद्यालय (Griffith University) से फाइनेंसियल प्लानिंग में बैचलर की डिग्री हासिल की। आपको जानकर आर्श्य होगा कि निक एक सफल वक्त ही नहीं एक फुटबॉलर भी है और वे गोल्फ भी खेलते हैं। उन्हें स्काइडाइविंग और सर्फिंग भी कहते हैं। आज वे एकमोटिवेशनल वक्ता, लेखक, संगीतकार और कलाकार हैं। उनको फिशिंग, पेंटिंग और स्विमिंग में भी काफी रूचि है।
19 वर्ष की उम्र में अपने पहले भाषण से लेकर अब तक निक पूरे संसार की यात्रा कर रहे हैं और अपनी प्रेरणादायी घटनाओं से लोगों को प्रेरित कर रहे हैं। उन्होंने लाखों लोगों को प्रेरित किया और कई पुरस्कार हासिल गए। उन्होंने कई टीवी चैनलों पर शो किए, इंटरव्यू दिए, फिल्मों में काम किया और उन्होंने एक किताब भी लिखी जिसका नाम है- Life without limits: Inspiration for a ridiculously good life"। अब तक वे 7 किताब लिख चुके हैं। तो है ना हैरान करने और प्रेरित करने वाली बात।



और भी पढ़ें :