0

नवरात्रि उत्सव: रंग, उत्साह और आनंद से भरा त्योहार

बुधवार,सितम्बर 28, 2022
0
1
World Heart Day 2022आजकल बढ़ते ह्रदय रोगों ने सभी को चिंता में डाल दिया हैं, क्योंकि अब हार्ट अटैक से संबंधित खबरें युवा वर्ग की तरफ से अधिक सुनाई देने लगी है। अत: ऐसे में जहां सभी को अपनी लाइफ स्टाइल में पूरी तरह बदलाव करने की आवश्यकता है, वहीं ...
1
2

क्या Diabetes में वरदान है अजवाइन?

बुधवार,सितम्बर 28, 2022
अजवाइन का उपयोग सब्जियों में स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है। दिन में अजवाइन खाने से पाचन शक्ति बढ़ जाती है। इसका सेवन करने से पेट दर्द, गैस, उल्टी, खट्टी डकार और एसिडिटी में आराम मिलता है। अजवाइन को लोग सर्दी-ज़ुकाम के इलाज में काढ़ा बनाने के लिए ...
2
3
कुछ चीजें ऐसी भी हैं जिन्हें फ्रिज में रखना सुरक्षित नहीं होता और यह आपकी सेहत को खराब कर सकता है। आलू भी उन्हीं में से एक है।
3
4
क्रांतिकारी भगत सिंह (Bhagat Singh) बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे, जिन्होंने अंग्रेजी हुकूमत से देश को आजादी दिलाने के लिए हंसकर मौत को गले लगाया था। यहां पढ़ें अमर शहीद भगत सिंह के 20 अनमोल विचार-
4
4
5
उनकी पहली गिरफ्तारी भी लाहौर में दशहरा बम-कांड के सिलसिले में 23 अक्तूबर को ही हुई थी। फांसी से दो दिन पहले जब मां उनसे अंतिम बार मिलने गई तो देखा, उसके खाना खाने के लोहे के बरतन में गुलाब के ताजे फूल रखे हैं। मां ने पूछा, ‘भगतसिंह, ये फूल कहां से ...
5
6
कई बार सोचा करता हूं क्या वे उनके विचारों को भी जला या बहा पाए? नहीं। उनके विचार आज भी दिल और दिमागों में आग लगाया करते हैं।
6
7
इसे पीस कर शहद में मिलाकर सूंघने से जुकाम में आराम मिलता है। पढ़ें राई के असरकारी नुस्खे...
7
8
जीते जी क्रांति करने वाले भगत सिंह के लिखे हुए शेर उनके बाद भी क्रांति पैदा करने की ताकत रखते हैं। देश के प्रति उनका प्रेम, दीवानगी और मर मिटने का भाव, उनकी शेर और कविताओं में साफ नजर आता है, एक बार पढ़ेंगे तो खून में देशभक्‍ति महसूस होने लगेगी।
8
8
9
अगर ये 6 समस्याएं हैं तो न खाएं मखाने ... मखाने को सेहत के लिए फायदेमंद माना जाता है लेकिन ज्यादा मखाना खाने के नुकसान जान हैरान हो जाएंगे आप...
9
10
भारत के अमर शहीदों में सरदार भगत सिंह का नाम सबसे प्रमुख रूप से लिया जाता है। जिस दिन भगत सिंह पैदा हुए उनके पिता एवं चाचा को जेल से रिहा किया गया।
10
11
साबूदाने की खिचड़ी बनती है जिसे व्रत उपवास में खाया जाता है। साबूदाना भारत में कसावा, टैपियोका या टैपिओका की जड़ों से और अफ्रीकी देशों में सैगो पाम नामक पेड़ के तने के गूदे से बनता है। इसमें प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फाइबर, ऊर्जा, ...
11
12
प्रधानमंत्री ने देश की सभी पिछली सरकारों और सामाजिक, धार्मिक एवं सांस्कृतिक संगठनों द्वारा स्वच्छता को लेकर किए गए प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि भारत को स्वच्छ बनाने का काम किसी एक व्यक्ति या अकेले सरकार का नहीं है, यह कार्य तो देश के 125 करोड़ ...
12
13
उल्लास.... क्या होता है जब आप इस शब्द को सुनते हैं, पढ़ते हैं, गुनते हैं, समझते हैं? एक चमक आती है चेहरे पर, एक तेज, ताजगी या तरंग लहराती है मन के कोने में और फिर पुलकित कर जाती है पूरे तन को.... जी हां बहुत जरूरी है इस शब्द को अपने जीवन में शामिल ...
13
14
शब्द...क्या है, कहां से आए कैसे आए क्यों आए... चर्चा अब इस पर नहीं, अब चर्चा इस पर होगी कि ब्रह्मांड में जो शब्द विद्यमान हैं उनकी उपयोगिता से अनभिज्ञ हम उनका कैसा और कितना दुरुपयोग कर रहे हैं। मीडिया में रहते हुए हमारी महती जिम्मेदारी है कि हम अपने ...
14
15
Navratri Food :अभी नवरात्रि का पर्व चल रहा है और गरबा के दिनों में शरीर को अधिक उर्जा की आवश्यकता होती है। यदि आप उपवास और गरबा दोनों ही कर रहे हैं तो शरीर को पौष्टिकता प्रदान करने वाली मूंगफली की यह डिशेज आपको अवश्य पसंद आएगी। जानिए यहां-moongfali ...
15
16
ब्रह्माजी द्वारा उपदेश में दुर्गाकवच कहा गया। इससे प्राप्त होने वाली जड़ी-बूटियों के माध्यम से हनुमानजी ने भगवान लक्ष्मण की जान बचाई बल्कि आज की तारीख में भी चिकित्सकों द्वारा मानव रोगोपचार हेतु अमल में लाया जाता है। प्रसिद्ध विद्वान चरक ने तो हर ...
16
17
इनसे पिछली पीढ़ी के बड़े होते हुए खुली आर्थिक नीति के दरवाज़े खुल गए थे, पूंजीवाद अपनी सफलता की चमक दिखाने लगा था और उनके लिए अच्छी नौकरी पाने का लोड था। उनके पैदा होने के साथ ही सैटेलाइट क्रांति हुई थी और उन बच्चों ने बड़े होते हुए अपने आसपास के घरों ...
17
18
शक्ति की उपासना का पर्व शारदीय नवरात्रि आत्म संयमी साधकों को आध्यात्मिक प्रेरणा देने की शक्ति का पर्व समूह है। ऋग्वेद के दसवें मंडल में एक पूरा सूक्त शक्ति की आराधना पर आधारित है, जिसमें शक्ति की भव्यता का दुर्लभ स्वरूप मुखरित हुआ है। 'मैं ही ...
18
19
नवरात्रि आ गई है और हम सभी मां दुर्गा के नौ अवतारों से भेंट करने के लिए तत्पर हैं। हालाँकि कुछ ऐसे व्यक्तित्व भी हैं जो हमें हर रोज़ मिलते हैं, विशेष तौर पर अपने-अपने ऑफिस में-जिनके भाव हमारी दुर्गा मां के ही समान हैं। आइए, मिलवाती हूं अपने ऑफिस के ...
19