चैपल, क्लार्क ने की कोहली की रणनीति की आलोचना

सिडनी| पुनः संशोधित बुधवार, 7 जनवरी 2015 (22:40 IST)
हमें फॉलो करें
सिडनी। कप्तान के रूप में अपना केवल दूसरा टेस्ट मैच खेल रहे विराट कोहली की चौथे और आखिरी टेस्ट मैच के दौरान गेंदबाजी में बदलाव करने की रणनीति को लेकर बुधवार को ऑस्ट्रेलिया के और माइकल क्लार्क ने आलोचना की। 
पूर्व कप्तान चैपल और एडिलेड में पहले टेस्ट मैच में कप्तानी करने के बाद हैमस्ट्रिंग की चोट के कारण बाकी मैचों से हटने वाले क्लार्क ने कमेंट्री करते हुए कहा कि वे कोहली की क्षेत्ररक्षण सजाने के तरीके और गेंदबाजी में बदलाव से चकित थे। 
 
पहले दिन चाय के विश्राम के बाद तीनों तेज गेंदबाजों मोहम्मद शमी, उमेश यादव और भुवनेश्वर कुमार को एक-एक ओवर के स्पैल के बुलाया गया जबकि दूसरे छोर से रविचंद्रन अश्विन ने गेंद थाम रखी थी। 
 
चैपल ने कहा कि गेंदबाजों को केवल एक ओवर देने से कोहली की अधीरता का पता चलता है। उन्होंने ‘सिडनी मार्निंग हेरल्ड’ से कहा, इससे गेंदबाजों को लेकर अधीरता का संदेश पता चलता है। और मुझे लगता है कि यह भी खराब गेंदबाजी का कारण बना। लेकिन मैं इस तरह की अधीरता को नहीं समझ पाया। एक ओवर के स्पैल से गेंदबाजों को कोई मौका नहीं मिलता है। क्लार्क भी कोहली की रणनीति से नाखुश दिखे। 
 
उन्होंने कहा, मुझे नहीं लगता कि मैं आपको इसका कारण बताऊं कि विराट ने ऐसा क्यों किया। छोटे प्रारूपों जैसे कि टी20 क्रिकेट में एक ओवर का स्पैल चल सकता है ताकि बल्लेबाज किसी एक गेंदबाज को नहीं समझ पाए, लेकिन टेस्ट मैचों में मैं इसका वास्तविक कारण नहीं जानता। हो सकता है कि वह कुछ विकेट हासिल करने के लिए अलग से कुछ करना चाहता हो। (भाषा)
  



और भी पढ़ें :