नंबर वन द. अफ्रीका के लिए अलग होगी रणनीति : शास्त्री

नई दिल्ली| पुनः संशोधित शुक्रवार, 25 सितम्बर 2015 (17:26 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। के निदेशक और पूर्व क्रिकेटर रवि शास्त्री ने कहा है कि दक्षिण अफ्रीका की टीम विश्व में नंबर एक है और इतनी मजबूत टीम के लिए घरेलू सीरीज में 5 गेंदबाज या 6 बल्लेबाज से इतर और बेहतर रणनीति के साथ उतरना होगा।
शास्त्री ने कहा कि टीम कभी स्थायी रणनीति के साथ नहीं उतरती है। हमें स्थिति के अनुसार चलना होता है। यह क्रिकेट के खेल में होता है। यदि आप उनके हिसाब से बेहतर रणनीति नहीं बनाएंगे तो विपक्षी टीम पलटवार कर सकती है। ऐसे में हो सकता है कि आपको 6 बल्लेबाजों की जरूरत हो और करीब 4 गेंदबाजों की ही जरूरत हो। परिस्थितियों के हिसाब से चलना होगा।> > उन्होंने कहा कि हमें विपक्षी टीम को समझना होगा और यह सबसे अहम है। उसके बाद ही निर्णय करना होगा कि किन खिलाड़ियों को उतारना है और क्या संयोजन होगा। हमारी रणनीतियों में लचीलापन होना जरूरी है और बल्लेबाजी क्रम में भी लचीलापन होना चाहिए। श्रीलंका में जब दोनों ओपनर उपलब्ध नहीं थे तो चेतेश्वर पुजारा ने शीर्ष क्रम में खेला था। अजिंक्य रहाणे नंबर 5 पर सफल रहे थे लेकिन उन्हें रोहित शर्मा के स्थान पर नंबर 3 पर खेलाया गया।
शास्त्री ने कहा कि बल्लेबाजों के लिए हर क्रम पर खेलने की क्षमता होनी चाहिए तथा कोई भी खिलाड़ी किसी एक क्रम पर खेलने का आदी नहीं है। एक बल्लेबाज के तौर पर यदि आप शीर्ष क्रम पर खेल रहे हैं तो आपको टीम की जरूरत के हिसाब से बाकी क्रम में भी खेलने का अभ्यास होना चाहिए। कई बार कुछ अनचाही परिस्थितियां आती हैं और उसके लिए तैयार होना चाहिए।

राष्ट्रीय टीम के साथ हाल ही में कार्यकाल बढ़ाए जाने के बाद टीम निदेशक के तौर पर बने हुए शास्त्री ने कहा कि श्रीलंका दौरे पर शिखर चोटिल हो गए जबकि हैमस्ट्रिंग चोट से मुरली विजय बाहर हो गए। हर बार दोनों ओपनर पूरी तरह फिट रहे, यह संभव नहीं है।

रोहित और रहाणे के बल्लेबाजी क्रम में बदलाव को लेकर उन्होंने कहा कि यह भी स्थिति पर निर्भर करता है। टीम के लिए जो सही है वही होगा न कि अन्य लोगों के हिसाब से रणनीति तय करेगी। वनडे प्रारूप में रोहित की स्थिति टीम में काफी स्थिर है जबकि बंगलादेश दौरे में टीम से बाहर रखे गए रहाणे को लेकर स्थिति साफ नहीं है। इसके अलावा कप्तान धोनी भी नंबर 4 पर बल्लेबाजी करने उतर सकते हैं।

टीम में 2 अलग-अलग कप्तानों की मौजूदगी को लेकर पूर्व भारतीय क्रिकेटर ने कहा कि टीम में किसी तरह का मतभेद नहीं है। धोनी की कप्तानी में टीम ने विश्व कप में खेला है। टीम एक चैंपियन के नेतृत्व में खेली है इसलिए कुछ नया नहीं है। धोनी एक बेहतरीन खिलाड़ी और कप्तान हैं।

शास्त्री ने धोनी की अहमियत बताते हुए कहा कि भारत दुनिया की नंबर एक टीम के खिलाफ खेल रही है और भारत को इस मजबूत टीम के खिलाफ जीतने के लिए चैंपियनों की जरूरत है। हम जानते हैं कि हमारी विपक्षी टीम कितनी मजबूत है।

उन्होंने कहा कि दक्षिण अफ्रीका किसी अन्य टीम की तुलना में विदेशी जमीन पर भी अच्छा खेलती है और यह उसके रिकॉर्ड से साफ है इसलिए हमें उसी तरह से तैयारी करनी होगी और हम भी पीछे नहीं हटेंगे। (वार्ता)




और भी पढ़ें :