सबसे तेज 100 टेस्ट विकेट लेने वाले भारतीय तेज गेंदबाज बने जसप्रीत बुमराह, कपिल देव का तोड़ा रिकॉर्ड

Last Updated: सोमवार, 6 सितम्बर 2021 (20:44 IST)
लेने के मुहाने पर खड़े हुए थे। हेडिंग्ले में इंग्लैंड की दूसरी पारी नहीं हुई तो इस इंतजार को में खत्म करने का प्रयास किया गया। ओवल में भी बुमराह ने पहली पारी में रोरी बर्न्स और हसीब हमीद को पहली पारी में रवाना किया।

लगा कि बुमराह पहली पारी में ही यह उपलब्धि हासिल कर लेंगे लेकिन वह फिर 99 के फेर में पड़ गए। चौथे दिन इंग्लैंड के बल्लेबाजों का नई गेंद से वह विकेट निकालने में नाकाम रहे। लेकिन पांचवे दिन अंतत बुमराह का यह इंतजार खत्म हुआ।

अपने घरेलू मैदान पर खेल रहे और पहली पारी में इंग्लैंड के सर्वोच्च स्कोरर रहे ओली पोप को बोल्ड कर जसप्रीत बुमराह टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज 100 विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाज बन गए हैं। उन्होंने पूर्व भारतीय कप्तान और ऑलराउंडर का रिकॉर्ड तोड़ा।
कपिल देव अपने टेस्ट करियर में 25 मैचो में 100 विकेट तक पहुंचे थे। बुमराह को 100 विकटों तक पहुंचने के लिए 24 मैच ही खेलने पड़े।इरफ़ान पठान ने 100 विकेट पूरे करने के लिए 28 टेस्ट, मोहम्मद शमी ने 29 टेस्ट, जवागल श्रीनाथ ने 30 टेस्ट और इशांत शर्मा ने 33 टेस्ट खेले थे।

बुमराह ने जनवरी 2018 में केपटाउन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट पदार्पण किया था और तभी से वह विराट कोहली की अगुवाई वाली भारतीय टीम का अहम हिस्सा हैं।

भारत टेस्ट क्रिकेट में भारत के लिए सर्वाधिक विकेट चटकाने वालों की सूची में अब 22वें स्थान पर हैं। महान स्पिनर अनिल कुंबले 619 विकेट के साथ शीर्ष पर हैं। खबर लिखे जाने तक बुमराह ने जॉनी बेरेस्टो को भी बोल्ड कर दिया और इंग्लैंड के 5 विकेट गिर गए हैं।

आईसीसी प्लेयर ऑफ द मंथ अवार्ड के लिए भी हुए नामित

इंग्लैंड के खिलाफ शानदार प्रदर्शन करने वाले बुमराह आईसीसी मासिक पुरस्कार के लिये नामित

इस खुशखबरी से कुछ घंटे पहले ही उनको एक और खुशखबरी मिली थी। इंग्लैंड के खिलाफ मौजूदा टेस्ट श्रृंखला में बल्ले और गेंद दोनों से शानदार प्रदर्शन करने वाले भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को अगस्त महीने के ‘आईसीसी सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी’ के पुरस्कार के लिये नामांकित किया गया है।

बुमराह के अलावा पुरूष वर्ग में इंग्लैंड के टेस्ट कप्तान जो रूट और पाकिस्तानी तेज गेंदबाज शाहीन शाह अफरीदी भी नामांकित हैं । महिला वर्ग में थाईलैंड की नत्ताया बूचाथाम , आयरलैंड की गैबी लुईस और ऐमियर रिचर्डसन को नामांकन मिला है ।

बुमराह ने पहले टेस्ट में नौ विकेट लिये। इसके बाद दूसरे टेस्ट में मोहम्मद शमी के साथ नौवे विकेट के लिये 89 रन की साझेदारी की जो भारत की जीत में निर्णायक साबित हुई।अब उन्होंने अपना 100वां टेस्ट विकेट भी ले लिया है।

वहीं इंग्लैंड के लिये कप्तान रूट ने तीनों टेस्ट में शतक जमाये और टेस्ट बल्लेबाजों की रैंकिंग में शीर्ष पर पहुंचे।

वहीं अफरीदी ने वेस्टइंडीज के खिलाफ दो टेस्ट में 18 विकेट लिये। दूसरे टेस्ट में उन्होंने दस विकेट चटकाये और यह कारनामा करने वाले पाकिस्तान के चौथे सबसे युवा गेंदबाज बन गए।

महिला क्रिकेट में नत्ताया ने जिम्बाब्वे के खिलाफ बल्ले और गेंद दोनों से कमाल किया । उसकी बदौलत थाईलैड ने तीन मैचों की श्रृंखला 2 . 1 से जीती ।

आयरलैंड की लुईस और रिचर्डसन के शानदार खेल की मदद से उनकी टीम ने टी20 विश्व कप यूरोप क्वालीफायर के चार में से तीन मैच जीते।



और भी पढ़ें :