काउंटी में भेदभाव के कारण पाकिस्तान चला गया था यह क्रिकेटर, नस्लवाद के खिलाफ अब ECB ने बनाई यह योजना

Last Updated: शनिवार, 27 नवंबर 2021 (16:04 IST)
हमें फॉलो करें
लंदन:इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने रंगभेद से निपटने और क्रिकेट के सभी स्तरों पर समावेश और विविधता को बढ़ावा देने के लिए 12-सूत्रीय कार्य योजना की शुरुआत की है। > अन्य संगठनों के साथ ईसीबी, मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी), प्रोफेशनल क्रिकेट एसोसिएशन (पीसीए) और काउंटी क्लबों द्वारा संयुक्त रूप से विकसित इस न्यायसंगत, विविधता और समावेश (ईडीआई) कार्य योजना के तहत अन्य महत्वपूर्ण मामलों के साथ-साथ ड्रेसिंग रूम कल्चर और यहां सभी के लिए स्वागत योग्य वातावरण बनाने पर जोर दिया जाएगा।> समझा जाता है कि कार्य योजना का उद्देश्य पूरे मैच के दौरान रिपोर्टिंग और जांच करने तथा शिकायतों, आरोपों और अन्य विवादित मसलों पर जवाबदेही और खिलाड़ियों और कोचों सहित क्रिकेट से जुड़े सभी कर्मचारियों, वॉलंटियर्स, मनोरंजक क्लब के अधिकारियों, अंपायरों और निदेशकों के प्रशिक्षण के लिए मानकीकृत दृष्टिकोण को अपनाना है।

इसके अलावा पेशेवर टीमों में दक्षिण एशियाई, अश्वेत और कम विशेषाधिकार प्राप्त युवाओं की प्रगति में सहायता करने के प्रयास किए जाएंगे। वहीं 2022 सीजन से पहले सभी प्रयासों की पूर्ण पैमाने पर समीक्षा भी की जाएगी।

उल्लेखनीय है कि रंगभेद का शिकार हुए इंग्लैंड के पूर्व काउंटी क्रिकेटर द्वारा संसदीय समिति के सामने दी गई गवाही के तुरंत बाद ईसीबी ने यह कदम उठाया है। उन्होंने समिति को बताया था कि यॉर्कशायर काउंटी क्लब में रंगभेद के कारण उनका करियर खत्म हो गया।

ईसीबी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) टॉम हैरिसन ने इस बारे में कहा, “ ईसीबी के लिए क्रिकेट का मतलब समुदायों को जोड़ना और जीवन में सुधार है। यही हमारा उद्देश्य है। हमें यह स्वीकार करके शुरुआत करनी चाहिए कि हमारे खेल को बेहतर बनाने के लिए अभी पर्याप्त काम नहीं हुआ है। बीते हफ्तों में अजीम रफीक और अन्यों की रंगभेद को लेकर गवाही के लिए यही एकमात्र संभावित प्रतिक्रिया है।

हैरिसन ने कहा, “ मुझे खुशी है कि यह योजना ठोस कार्रवाई और सार्थक परिवर्तन के लिए पूरे खेल का प्रतिनिधित्व करेगी। हमारी भूमिका अब उन परिवर्तनों को स्वीकार करने की होगी, जिन्हें आंतरिक रूप से किए जाने की आवश्यकता है। इन परिवर्तनों को अंजाम देने में खेल की सहायता के लिए हमें समर्थन, संसाधन और धन की पेशकश भी करनी होगी। हम एक मजबूत, अधिक समावेशी खेल बनाने और क्रिकेट से प्यार करने वाले सभी लोगों का विश्वास वापस बनाने के लिए खेल में हमारे भागीदारों के साथ काम करने के लिए तत्पर हैं। ”

ईसीबी के अंतरिम अध्यक्ष बैरी ओ ब्रायन ने इस पर कहा, “ यह क्रिकेट के लिए एक महत्वपूर्ण क्षण है। पिछले हफ्ते ऑल गेल बैठक में हम निर्णायक रूप से कार्य करने की जरूरत पर एक स्वर से सहमत हुए। बदलाव की तत्काल आवश्यकता के साथ-साथ हम यह भी मानते हैं कि अगर हम देश में सबसे अधिक अनुकूल और विविध खेल बनना चाहते हैं तो महीनों और वर्षों तक लगातार कार्रवाई और सुधार की आवश्यकता होगी। हम आज से शुरुआत करेंगे और हर कदम पर खुद की जवाबदेही तय करेंगे।”

यॉर्कशायर में न देखने की जो रूट की टिप्पणी आहत करने वाली थी : रफीक

यॉर्कशायर काउंटी क्लब और इंग्लैंड क्रिकेट में रंगभेद का खुलासा करने वाले इंग्लैंड के पूर्व प्रथम श्रेणी क्रिकेटर अजीम रफीक ने हाल ही में कहा था कि जो रूट का दावा कि उन्होंने कभी भी यॉर्कशायर में रंगभेद नहीं पाया, आहत कर देने वाला था।

पाकिस्तानी मूल के ब्रिटिश नागरिक रफीक ने कहा कि जब क्लब के साथ उनका कॉन्ट्रेक्ट खत्म होने वाला था तब उन्हें मोटी रकम दी जा रही थी, ताकि वह अपना मुंह बंद रखें। उन्होंने कहा था कि तमाम परेशानियों के बावजूद उन्होंने इस प्रस्ताव को ठुकराया और पाकिस्तान चले गए, जहां से वह कभी वापस इंग्लैंड नहीं लौटना चाहते थे।

हेल्स पर भी लगाया था आरोप

अजीम रफीक ने आरोप लगाया था कि टीम के उनके पूर्व साथी गैरी बैलेंस इस नाम का इस्तेमाल उन खिलाड़ियों के लिए करते थे जो श्वेत नहीं थे।

उन्होंने दावा किया था कि इंग्लैंड के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी बैलेंस ‘केविन’ नाम का इस्तेमाल ‘अपमानजनक’ शब्द के रूप में उन खिलाड़ियों के संदर्भ में करते थे जो श्वेत नहीं थे। उन्होंने कहा कि इंग्लैंड के ड्रेसिंग रूम में सभी को इसकी जानकारी है। रफीक ने कहा कि हेल्स ने अपने कुत्ते का नाम ‘केविन’ रखा क्योंकि वह काला था।



और भी पढ़ें :