प्रियंका गांधी ने की मृतक किसानों के परिजनों से बात, हुड्डा बोले- अपराधियों की तरह किया जा रहा है व्यवहार

अवनीश कुमार| पुनः संशोधित मंगलवार, 5 अक्टूबर 2021 (19:12 IST)
लखनऊ। उत्तरप्रदेश के लखीमपुर किसानों से मिलने जा रही की महासचिव प्रियंका गांधी व कांग्रेस पार्टी के सांसद दीपेंद्रसिंह हुड्डा को पुलिस ने में पीएसी गेस्ट हाउस में (अस्थायी जेल) में नजरबंद कर दिया था। इसके बाद से लगातार देश और प्रदेश की राजनीति गर्मा गई थी और कांग्रेसी कार्यकर्ता जमकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी सड़कों पर कर रहे हैं, वहीं प्रियंका गांधी के लगातार किसानों से बगैर मिले वापस न जाने की बात कह रही है।

इसके चलते आज सीतापुर में नजरबंद कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने फोन द्वारा मृतक किसानों के परिजनों से बातचीत की है। इसकी पुष्टि करते हुए कांग्रेस के सांसद दीपेंद्रसिंह हुड्डा के माध्यम से बयान जारी करते हुए कहा है कि आज सीतापुर पुलिस हिरासत से प्रियंका ने लखीमपुर खीरी में शहीद हुए स्व. नक्षत्र सिंह, स्व. गुरुविंदर सिंह, स्व. लवप्रीत सिंह व स्व. रमन कश्यप के परिजनों से बात कर उन्हें सांत्वना दी और ढांढस बंधाया। साथ ही विश्वास दिलाया कि जो हमसे बन पड़ेगा वह आपके लिए करेंगे।
ALSO READ:

प्रियंका गांधी की गिरफ्तारी के बाद BJP के खिलाफ एकजुट हुआ विपक्ष
इसी के साथ सांसद दीपेंद्रसिंह हुड्डा योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि उत्तरप्रदेश पुलिस ने हमें ज़बरन हमें गाड़ी से उतारा और पुलिस की गाड़ी में हमें बिठाया गया। हर तरह से हाथापाई की नौबत आई। वहां से हमें पुलिस लाइन सीतापुर लाया गया।
यहां हम पिछले 38-40 घंटे से पुलिस हिरासत में रखे गए हैं। उन्होंने कहा कि हम अपराधियों की तरह हिरासत में हैं और किसानों को कुचलने वाले आज़ाद। उन्होंने कहा कि लखीमपुर की धरा किसानों के रक्त से लाल कर दी गई, पर इस रक्त की एक-एक बूंद आने वाली क्रांति की कहानी लिखेगी।
किसानों को निर्ममता से कुचलने वाले ‘आज़ाद’ हैं और हम पुलिस ‘हिरासत’ में, किसान परिवारों में ‘मातम’ छाया हुआ है और लखनऊ में ‘उत्सव’ मनाया जा रहा है,मैं देशवासियों से पूछता हूं, आप कुचलने वालों का साथ देंगे या कुचले जाने वाले के लिए लड़ेंगे।



और भी पढ़ें :