होली कविता : होली पर्व है सबका प्यारा

Essay on Holi
Happy Holi 2022
 
- रूपल घनघोरिया

चलो मनाएं आज हम होली,
सबको दिखाएं रंगों की बोली।

गली-गली में बच्चे आते,
सबको रंग-गुलाल लगाते।

होली हमें बहुत हर्षाती,
सबके लिए खुशी है लाती।


सबका है एक ही नारा,
होली पर्व है सबका प्यारा।


साभार- देवपुत्र



और भी पढ़ें :