बाल कविता : हिंदी बहुत जरूरी है

Hindi Bhasha
Hindi language
 
दस मंजिल से नीचे आती,
मम्मी के संग लिफ्ट में।
सुबह-सुबह ही शाला जाती,
मैं तो पहली शिफ्ट में।

जोड़ घटाना गुणा भाग तो,
मैडम जी सिखलाती हैं।
अंग्रेजी की ए.बी.सी.डी.
भी लिखना बतलाती हैं।

लेकिन मुझको अपनी भाषा,
हिंदी प्यारी लगती है।
भारत माता की सुंदर छबि,
जग से से न्यारी लगती है।

अंग्रेजी तो सीखेंगे ही,
अंग्रेजी मजबूरी है।
पर मन की खुशियों की खातिर,
हिंदी बहुत जरूरी है।

(वेबदुनिया पर दिए किसी भी कंटेट के प्रकाशन के लिए लेखक/वेबदुनिया की अनुमति/स्वीकृति आवश्यक है, इसके बिना रचनाओं/लेखों का उपयोग वर्जित है...)



और भी पढ़ें :