श्री कृष्ण जन्माष्टमी मुहूर्त 2021: जानिए विशेष शुभ संयोग

shri krishna Episode
श्रीकृष्‍ण जन्माष्टमी का महोत्सव हिन्दू कैलेंडर के अनुसार हर वर्ष भाद्रपद की कृष्ण अष्टमी को मनाया जाता हैं। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार इस बार 30 अगस्त 2021 सोमवार को श्री कृष्ण का 5248वां जन्मोत्सव मनाया जाएगा।


1. श्री कृष्ण ने विष्णु के 8वें अवतार के रूप में 8वें मनु वैवस्वत के मन्वंतर के 28वें द्वापर में भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की रात्रि के 7 मुहूर्त निकल गए और 8वां उपस्थित हुआ तभी आधी रात के समय सबसे शुभ लग्न में उन्होंने जन्म लिया। उस लग्न पर केवल शुभ ग्रहों की दृष्टि थी। तब रोहिणी नक्षत्र तथा अष्टमी तिथि के संयोग से जयंती नामक योग में लगभग 3112 ईसा पूर्व को उनका जन्म हुआ था। ज्योतिषियों के अनुसार रात 12 बजे उस वक्त शून्य काल था।
2. इस बार हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि का आरंभ 29 अगस्त 2021 रविवार को रात 11 बजकर 25 मिनट से हो रहा है। इस तिथि का समापन 30 अगस्त दिन सोमवार को देर रात 01 बजकर 59 मिनट पर होगा।

3. दूसरी ओर रोहिणी नक्षत्र का प्रारम्भ 30 अगस्त को सुबह 06 बजकर 39 मिनट से हो रहा है, जबकि इसका समापन 31 अगस्त को सुबह 09 बजकर 44 मिनट पर होगा।

4. भगवान श्रीकृष्ण जन्म रात्रि में हुआ था और व्रत के लिए उदया तिथि मान्य है, ऐसे में इस वर्ष श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पावन पर्व 30 अगस्त को रहेगा और दिनभर व्रत रख सकते हैं। इस स्थिति में आप 31 अगस्त को प्रात: 09 बजकर 44 मिनट के बाद पारण कर सकते हैं क्योंकि इस समय ही रोहिणी नक्षत्र का समापन होगा।
5. जन्माष्टमी का व्रत रखने वाले लोग मुख्यत: दिनभर व्रत रखते हैं और रात्रि में बाल गोपाल श्रीकृष्ण के जन्म के बाद प्रसाद ग्रहण करते हैं और उसी समय अन्न ग्रहण करके व्रत का पारण कर लेते हैं। हालांकि कई स्थानों पर अगले दिन प्रात: पारण किया जाता है।

6. यदि आप रात्रि में ही पारण करता चाहते हैं तो श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पूजा का मुहूर्त 30 अगस्त को रात 11 बजकर 59 मिनट से देर रात 12 बजकर 44 मिनट तक रहेगा। इसके बाद पारण कर सकते हैं।
7. निशित काल 30 अगस्त रात 11:59 से लेकर सुबह 12:44 तक और अभिजित मुहूर्त सुबह 11:56 से लेकर दोपहर 12:47 तक और गोधूलि मुहूर्त शाम 06:32 से लेकर शाम 06:56 तक रहेगा।

8. आनन्दादि योग सुस्थिर 06:39 AM के बाद वर्धमान। सर्वार्थसिद्धि योग- Aug 30 06:39 AM To Aug 31 06:12 AM (Rohini and Monday).

9. व्याघात योग 29 Aug 06:44 AM To Aug 30 07:46 AM इसके बाद हर्षण योग Aug 30 07:46 AM To Aug 31 08:48 AM तक रहेगा।

10. इस दिन सूर्य और मंगल लग्न में स्थित सिंह राशि में रहेंगे। चंद्र और राहु कर्म भाव में वृषभ राशि में और केतु वृश्‍चिक चतुर्थभाव में रहेंगे। शुक्र और बुद्ध दूसरे भाव में कन्या राशि में रहेंगे। शनि छठे भाव में मकर राशि में रहेंगे और गुरु सप्तम भाव में कुंभ राशि में रहेंगे।



और भी पढ़ें :