IPL इतिहास में सर्वाधिक 31 छक्के पड़े सिराज को, 306 गेंदो में लुटाए 514 रन

पुनः संशोधित शुक्रवार, 3 जून 2022 (15:46 IST)
हमें फॉलो करें
मुंबई: इंडियन प्रीमियर लीग 2022 में ने की ओर से निराशाजनक प्रदर्शन किया लेकिन भारत के उभरते हुए गेंदबाजों में शामिल इस तेज गेंदबाज को उम्मीद है कि वह इंग्लैंड में पांचवें टेस्ट में लाल ड्यूक्स गेंद से मजबूत वापसी करेंगे।

हाल में संपन्न आईपीएल में सिराज 15 मैच में 10.07 के इकोनॉमी रेट से सिर्फ 9 विकेट ही चटका पाए। इससे भी निराशाजनक यह रहा कि उनके खिलाफ 31 छक्के लगे जो टूर्नामेंट के इतिहास में किसी एक सत्र में एक गेंदबाज के खिलाफ सर्वाधिक छक्के हैं। 306 गेंदो में 514 रन लुटाने वाले सिराज अपनी टीम के लिए बेहद महंगे साबित हुए।

निराश है सिराज

सिराज ने आस्ट्रेलिया में 2020-21 टेस्ट श्रृंखला में भारत की जीत पर बनी वेब सीरीज ‘बंदों में था दम’ का ट्रेलर लांच करने के लिए आयोजित कार्यक्रम के दौरान

कहा, ‘‘आईपीएल का यह सत्र उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा। पिछले दो सत्र में मेरा प्रदर्शन अच्छा था और इस बार प्रदर्शन में गिरावट आई। लेकिन मैं पिछले दो साल के प्रदर्शन से आत्मविश्वास लूंगा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘इस साल मेरे लिए खराब दौर रहा लेकिन मैं कड़ी मेहनत करके मजबूत वापसी करूंगा। मैं अपनी क्षमता और मजबूत पक्षों पर काम करूंगा।’’

टेस्ट पर हैं निगाहें

भारत के लिए खेल के लंबे प्रारूप में अच्छा प्रदर्शन करने वाले सिराज एजबस्टन में एक से पांच जुलाई तक इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले पांचवें टेस्ट में अच्छा प्रदर्शन करना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘टेस्ट मैच के लिए मेरी तैयारी अच्छी हो रही है। इंलैंड में ड्यूक्स गेंद का इस्तेमाल होता है, इंग्लैंड के हालात में गेंदबाजी करना हमेशा अच्छा होता है और ये गेंदबाजों की मददगार होती हैं।’’पिछले साल टेस्ट श्रृंखला के दौरान भारतीय दल में कोविड मामलों के कारण पांचवें टेस्ट को स्थगित किया गया था और सिराज ने कहा कि विश्व टेस्ट चैंपियनशिप को देखते हुए यह बेहद महत्वपूर्ण है।

हैदराबाद के इस तेज गेंदबाज ने कहा, ‘‘यह टेस्ट हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण है। हम 2-1 से आगे चल रहे हैं। यह अच्छा है कि टेस्ट के कार्यक्रम में बदलाव किया गया और हमें अच्छा प्रदर्शन करने का भरोसा है। हमें बढ़त हासिल है और यह अच्छा अहसास है।’’

आस्ट्रेलिया में हुई 2020-21 की टेस्ट श्रृंखला से पहले सिराज ने अपने पिता को गंवा दिया था। इसके बावजूद सिराज ने आस्ट्रेलिया में ही रुकने का फैसला किया और ब्रिसबेन में चौथे टेस्ट में पहली बार पारी में पांच विकेट चटकाए।

उन्होंने कहा, ‘‘मेरे लिए सबसे यादगार लम्हा गाबा (ब्रिसबेन में) में पांच विकेट चटकाना है। यह काफी भावुक था और अब्बा के गुजरने के बाद मुझे काफी कुछ सहना पड़ा।’’सिराज ने कहा, ‘‘पृथकवास के कारण स्थिति कड़ी थी लेकिन यह मेरे पिता का ख्वाब था कि मैं देश के लिए प्रदर्शन करूं और यह मेरी सबसे बड़ी प्रेरणा थी।’’



और भी पढ़ें :