चेन्नई ने हारे हैं सबसे ज्यादा IPL फाइनल, ऐसे 5 बार मिली थी खिताबी हार

Last Updated: गुरुवार, 14 अक्टूबर 2021 (23:30 IST)
हमें फॉलो करें
2013: मुंबई इंडियंस बना आईपीएल का नया चैंपियन > कीरोन पोलार्ड की विषम परिस्थितियों में खेली गई तूफानी पारी तथा तेज और स्पिन मिश्रित आक्रमण के कमाल के प्रदर्शन से मुंबई इंडियंस ने चैंपियन चेन्नई सुपरकिंग्स पर 23 रन की जीत दर्ज करके पहली बार आईपीएल का खिताब अपने नाम किया।> पोलार्ड ने केवल 32 गेंदों पर सात चौकों और तीन छक्कों की मदद से नाबाद 60 रन बनाए। उनके अलावा अंबाती रायुडु ने 37 रन का योगदान दिया, जिससे टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी के लिए उतरी मुंबई इंडियंस ने नौ विकेट पर 148 रन बनाए।

लीग चरण में मुंबई के खिलाफ ही 79 रन पर ढेर होने वाली चेन्नई टीम के आठ विकेट 58 रन पर निकल गए थे। कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 45 गेंद पर तीन चौकों और पांच छक्कों की मदद से नाबाद 63 रन बनाए। इसके बावजूद स्पॉट फिक्सिंग के कारण चर्चा में चल रही चेन्नई की टीम नौ विकेट पर 125 रन ही बना पाई।

मुंबई पहली बार आईपीएल चैंपियन बना। उसने इस जीत से चेन्नई से 2010 के फाइनल और इस साल पहले क्वालीफायर में मिली हार का बदला भी चुकता कर दिया। मुंबई को विजेता बनने पर 10 करोड़ रुपए मिले जबकि चेन्नई को सात करोड़ 50 लाख रुपए से ही संतोष करना पड़ा।

मुंबई की जीत में पोलार्ड की धुआंधार पारी के बाद गेंदबाजों ने अहम भूमिका निभाई। मुंबई की तरफ से मिशेल जॉनसन, लसिथ मलिंगा और हरभजन सिंह ने दो-दो विकेट लिए। पोलार्ड ने चार ओवर में 34 रन देकर एक विकेट लिया।

मुंबई की इस जीत से आईपीएल छह में सर्वाधिक 32 विकेट लेकर 'परपल कैप' हासिल करने वाले ड्वेन ब्रावो का प्रदर्शन भी फीका पड़ गया। उन्होंने 42 रन देकर चार जबकि एल्बी मोर्कल ने तीन ओवर में 12 रन देकर दो विकेट लिए।0

जीत के लिए 149 रनों का पीछा करने उतरी चेन्नई की टीम को मलिंगा ने अपने पहले ओवर में दहलाकर रख दिया और अगले ओवर में जॉनसन ने भी एक विकेट लेकर स्कोर 3 विकेट पर 3 रन कर दिया।

मलिंगा ने पारी की चौथी गेंद पर टूर्नामेंट में सर्वाधिक 733 रन बनाने वाले माइकल हसी को इनस्विंग यॉर्कर पर बोल्ड किया और अगली गेंद पर चेन्नई के दूसरे सफल बल्लेबाज सुरेश रैना को हवा में गलत शॉट खेलने के लिए मजबूर करके स्क्वेयर लेग पर कैच कराया।

हसी को आईपीएल के किसी सत्र में सर्वाधिक 733 रन के क्रिस गेल के रिकॉर्ड तोड़ने के लिए दो रन की दरकार थी लेकिन वह केवल एक रन बना पाए। इस तरह से उन्होंने गेल के 2012 में बनाए गए रिकॉर्ड की बराबरी की। जॉनसन ने दूसरे ओवर में मुंबई को तीसरा झटका दिया। एस.बद्रीनाथ ने आफ स्टंप से बाहर जाती गेंद पर विकेटकीपर दिनेश कार्तिक को कैच दे दिया।

ब्रावो (15) भी कुछ देर तक विजय का साथ देने के बाद ऋषि धवन की धीमी गेंद पर मिड ऑन पर कैच दे गए। अब हरभजन की बारी थी, जिन्होंने रविंदर जडेजा को खाता भी नहीं खोलने दिया।

विकेटों के पतझड़ को आगे बढ़ाने के लिए रोहित शर्मा ने जॉनसन को दूसरे स्पैल के लिए बुलाया और इस ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज ने मुरली विजय (20 गेंद पर 18 रन) का धैर्य तोड़कर अपने कप्तान को निराश नहीं किया।

विजय बैकफुट पर जाकर सही तरह से पुल नहीं कर पाए और कवर पर रोहित को आसान कैच दे बैठे। प्रज्ञान ओझा ने एल्बी मोर्कल (10) की गिल्लियां बिखेरी तो हरभजन ने एक अन्य दक्षिण अफ्रीकी ऑलराउंडर क्रिस मौरिस को पैवेलियन भेजा। धोनी ने ओझा पर दो और पोलार्ड पर तीन छक्के लगाए। उन्होंने आर अश्विन के साथ नौवें विकेट के लिए 41 रन जोड़कर धुंधली उम्मीद जगाई लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।

इससे पहले मुंबई की शुरुआत भी अच्छी नहीं रही और उसने पहली 20 गेंद और 16 रन के अंदर दोनों सलामी बल्लेबाज और कप्तान रोहित शर्मा के विकेट गंवा दिए। पिछले दो मैचों में अर्धशतक जमाने वाले ड्वेन स्मिथ (4) पहले ओवर में ही मोहित शर्मा की गेंद को रक्षात्मक रूप से खेलने के प्रयास में एलबीडब्ल्यू आउट हो गए।

मोर्कल ने अगले ओवर की पहली गेंद पर आदित्य तारे को बोल्ड कर दिया। रोहित ने तो चेन्नई को अपना विकेट इनाम में दिया। मोर्कल के अगले ओवर में उन्होंने शॉर्ट पिच गेंद पर वापस गेंदबाज को कैच थमाया। दिनेश कार्तिक (26 गेंद पर 21 रन) और रायुडु ने अगले छह ओवर तक विकेट नहीं गिरने दिया जो तब मुंबई के लिए जरूरी था।

मौरिस ने कोण लेती गेंद पर कार्तिक को बोल्ड करके रायुडु के साथ उनकी 36 रन की साझेदारी तोड़ी। दसवें ओवर तक स्कोर 58 रन था लेकिन पोलार्ड के क्रीज पर कदम रखने के बाद स्कोर ने कुछ गति पकड़ी।

इस कैरेबियाई ऑलराउंडर ने अश्विन पर पारी का पहला छक्का जमाया और फिर जडेजा पर दो चौके जड़े। जब लग रहा था कि मुंबई की स्थिति सुधर रही है तब ब्रावो ने रायुडु का मिडिल स्टंप उखाड़ दिया। रायुडु ने अपनी पारी में चार चौके लगाए और पोलार्ड के साथ पांचवें विकेट के लिए 48 रन जोड़े।

हरभजन ने ब्रावो के अगले ओवर में तीन चौके जड़कर डीप कवर पर कैच थमाया। ब्रावो ने पारी के आखिरी ओवर में जानसन और मलिंगा को भी आउट किया लेकिन पोलार्ड ने उनकी आखिरी दो गेंदों पर छक्के जड़कर स्कोर 148 रन तक पहुंचाया।



और भी पढ़ें :