यूएफओ की व्याख्या नहीं की जा सकती : पेंटागन रिपोर्ट

Last Updated: सोमवार, 28 जून 2021 (19:23 IST)
हमें फॉलो करें
ब्रिस्बेन। यूएफओ की जांच करने वाले एक की रिपोर्ट ने इस विचार की न तो पुष्टि की है और न ही इसे खारिज किया है कि इस तरह की चीजों का दिखाई देना पृथ्वी पर के आने का संकेत हो सकते हैं।शुक्रवार 25 जून को, (ओडीएनआई) के कार्यालय ने इस संबंध में अपनी चिरप्रतीक्षित अवर्गीकृत खुफिया रिपोर्ट प्रारंभिक आकलन : अज्ञात हवाई गतिविधि शीर्षक से जारी की।
दस्तावेज़ कांग्रेस की सेवाओं और सशस्त्र सेवा समितियों को प्रदान की गई एक बड़ी वर्गीकृत रिपोर्ट का एक संक्षिप्त नौ-पृष्ठ का संस्करण है। यह अज्ञात हवाई गतिविधि (यूएपी) द्वारा उत्पन्न खतरे और इस खतरे को समझने में रक्षा विभाग के कार्य बल द्वारा की गई प्रगति का आकलन करता है।

रिपोर्ट ने निश्चित रूप से यह निष्कर्ष नहीं निकाला कि यूएफओ दूसरी दुनिया के अंतरिक्ष यान हैं हालांकि बहुत लोग ऐसी उम्मीद कर रहे थे। इसका सीधा मतलब है कि दस महीने पहले इसके गठन के बाद से कार्यबल ने ज्यादा प्रगति नहीं की। हालांकि इसके काम को देखते हुए यह अपने आप में हैरान करने वाला है।

हालांकि टास्क फोर्स का अस्तित्व सिर्फ एक साल पहले तक कई लोगों के लिए अकल्पनीय रहा होगा। यूएफओ को एक ऐसी वास्तविक और विलक्षण घटना, जिसका वैज्ञानिक और सैन्य विश्लेषण किया जाना चाहिए, के रूप में देखने वालों का इस तरह का नीतिगत बदलाव वास्तव में अभूतपूर्व है। पिछले साल अप्रैल में अमेरिकी रक्षा विभाग ने नौसेना के पायलटों द्वारा लिए गए तीन 'यूएफओ' वीडियो जारी किए।

रिपोर्ट अपने डेटा नमूने के विशिष्ट विवरण का जिक्र नहीं करती है, जिसमें 2004 और 2021 के बीच ज्यादातर सैन्य एविएटर्स द्वारा बनाई गई 144 यूएफओ रिपोर्ट शामिल हैं। इसकी धमाकेदार खोज यह कहती है कि मुट्ठीभर यूएपी उन्नत तकनीक का प्रदर्शन करते दिखाई देते हैं।

यह मुट्ठीभर (144 रिपोर्टों में से 21) यूएफओ की अनसुलझी पहेली का प्रतिनिधित्व करते हैं। ये वस्तुएं: ऊपर की ओर हवाओं में स्थिर रहती हैं, हवा के खिलाफ चलती हैं, अचानक कलाबाजी करती हैं, या काफी गति से चलती हैं, बिना प्रणोदन के स्पष्ट साधनों के। कुछ मामलों में, सैन्य विमान प्रणालियों ने यूएपी दिखने से जुड़ी रेडियो फ्रीक्वेंसी (आरएफ) ऊर्जा को संसाधित किया।

इन विशेषताओं से संकेत मिलता है कि कुछ यूएपी को समझदारी से नियंत्रित किया जा सकता है (क्योंकि वह हवा से नहीं उड़ते हैं) और वह विद्युत चुम्बकीय (क्योंकि वे रेडियो फ्रीक्वेंसी उत्सर्जित करते हैं) होते हैं। मार्च में नेशनल इंटेलिजेंस के पूर्व निदेशक जॉन रैटक्लिफ ने फॉक्स न्यूज को कुछ ऐसी रिपोर्टस के बारे में बताया, जिनमें ऐसी वस्तुओं का वर्णन किया गया था जो ध्वनि बूम के बिना ध्वनि की गति से अधिक गति से चलती हैं। ध्वनि बूम उन ध्वनि तरंगों को कहते हैं जो ध्वनि अवरोध को तोड़ने वाली वस्तुओं द्वारा उत्पन्न होती हैं।

कोई भी ज्ञात विमान ध्वनि बूम बनाए बिना ध्वनि से तेज गति से यात्रा नहीं कर सकता है। नासा वर्तमान में शांत सुपरसोनिक तकनीक विकसित कर रहा है, जो विमानों को अपेक्षाकृत हलकी आवाज के साथ ध्वनि से तीव्र गति से उड़ने की क्षमता दे सकती है।

कुछ ने दावा किया है कि वस्तुएं शायद गुप्त, उन्नत रूसी या चीनी विमान हैं। हालांकि वैश्विक एयरोस्पेस विकास 1940 के दशक के बाद से रिपोर्ट की गई वस्तुओं की उड़ान विशेषताओं से मेल खाने में विफल रहा है और यह गुप्त विमानों को बार-बार एक विरोधी के हवाई क्षेत्र में उड़ाने के लिए प्रतिकूल लगता है जहां उन्हें दर्ज किया जा सकता है। हम यहां कैसे पहुंचें?

इस रिपोर्ट को जारी किया जाना यूएफओ रहस्य के इतिहास में एक महत्वपूर्ण क्षण है, मुख्यतः इसके संस्थागत संदर्भ के कारण। यूएफओ अध्ययन के भविष्य के लिए इस क्षण का क्या अर्थ हो सकता है, इसे पूरी तरह से जानने के लिए हमें यह समझना होगा कि यूएफओ समस्या को ऐतिहासिक रूप से संस्थागत कैसे किया गया है।

1966 में यूएफओ समस्या को हल करने के लिए अमेरिकी वायुसेना को जनता के बढ़ते दबाव का सामना करना पड़ रहा था। ऐसा करने का उसका प्रयास, जिसे तब प्रोजेक्ट ब्लू बुक के नाम से जाना जाता था, एक संगठनात्मक बोझ और एक जनसंपर्क समस्या बन गया था।

इसने प्रमुख भौतिक विज्ञानी एडवर्ड कोंडोन की अध्यक्षता में कोलोराडो विश्वविद्यालय में यूएफओ के दो साल के वैज्ञानिक अध्ययन को वित्त पोषित किया। अज्ञात उड़ती वस्तुओं के वैज्ञानिक अध्ययन पर अंतिम रिपोर्ट के रूप में 1969 में प्रकाशित निष्कर्षों के चलते वायुसेना ने अपनी यूएफओ जांच को समाप्त कर दिया।

कॉन्डन ने निष्कर्ष निकाला कि पिछले 21 वर्षों में यूएफओ के अध्ययन से वैज्ञानिक ज्ञान में कुछ भी नया नहीं आया है। उन्होंने यह भी कहा कि यूएफओ के आगे के व्यापक अध्ययन को शायद इस उम्मीद में उचित नहीं ठहराया जा सकता है कि विज्ञान इस तरह उन्नत होगा।
ALSO READ:

तेलंगाना सरकार गरीब दलित परिवारों को देगी 10-10 लाख रुपए की मदद
दुनिया की सबसे प्रतिष्ठित वैज्ञानिक पत्रिकाओं में से एक नेचर ने कोंडोन रिपोर्ट को छोटी समस्या के लिए बड़े हल के रूप में वर्णित किया। लेकिन तब तक वायुसेना ने प्रोजेक्ट ब्लू बुक के तहत 12,618 रिपोर्टें एकत्र कर ली थीं, जिनमें से 701 को अज्ञात के रूप में वर्गीकृत किया गया था। पेंटागन की नई रिपोर्ट के विपरीत, कॉन्डन रिपोर्ट में ऐसा कोई यूएफओ नहीं मिला जो उन्नत तकनीक का प्रदर्शन करता हो। सबसे अधिक समस्याग्रस्त मामलों को अस्पष्ट रूप से वर्गीकृत करके हल किया गया था।
यहां एक उदाहरण है : इस असामान्य दृश्य को लगभग निश्चित रूप से प्राकृतिक घटना की श्रेणी में रखा जाना चाहिए क्योंकि यह इतना दुर्लभ है कि जाहिरा तौर पर पहले या बाद में इसकी सूचना नहीं दी गई है। टूलकिट में इस रणनीतिक श्रेणी के साथ, यूएपी द्वारा प्रदर्शित उन्नत तकनीक को स्वीकार करने की कोई आवश्यकता नहीं थी। वास्तव में उन्हें जानबूझकर संस्थागत ज्ञान से जोड़ा गया था।
अमेरिकी रक्षा विभाग ने पुष्टि की है कि यूएफओ से उड़ान सुरक्षा और संभावित रूप से राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा है। ऐसा करते हुए इसने अपने संगठनात्मक सिद्धांतों की कमजोरी को उजागर किया है। इसने स्वीकार किया है कि यूएफओ क्या हैं, यह जानना बहुत अच्छा नहीं है।

इसे इस आलोचना का भी सामना करना पड़ता है कि यूएफओ के पहली बार रडार पर आने के सात दशक बाद उसे यह जानना बाकी है कि वे क्या हैं। पेंटागन की नई रिपोर्ट हमें एलियंस के धरती पर आने की वास्तविकता को स्वीकार करने के लिए बाध्य नहीं करती है, लेकिन यह हमें यूएफओ को गंभीरता से लेने के लिए मजबूर करती है।(द कन्वरसेशन)



और भी पढ़ें :