0

जानिए शिवाजी महाराज के सेनापति के बारे में जो अकेले ही हाथी से लड़ लिए थे

मंगलवार,मई 24, 2022
0
1
28 मई 1883 को महान क्रांतिकारी वीर सावरकर (Veer Savarkar) का जन्म नासिक के भगूर गांव में हुआ। उनके पिता का नाम दामोदर पंत सावरकर था, जो गांव के प्रतिष्ठित व्यक्तियों में जाने जाते थे। उनकी माता का नाम राधाबाई था।
1
2
27 मई को पंडित जवाहरलाल नेहरू की पुण्यतिथि है। पंडित जवाहरलाल नेहरू (Jawaharlal Nehru) कश्मीरी ब्राह्मण परिवार के थे, जो अपनी प्रशासनिक क्षमता तथा विद्वत्ता के लिए विख्यात थे।
2
3
भारतीय कुश्ती के पितामह के रूप में पहचाने जाने वाले विजय पाल यादव जी की आज 23 मई को पुण्यतिथि रहती है। उन्हें 'गुरु हनुमान' के नाम से भी जाना जाता है। वह स्वयं एक अच्छे पहलवान के साथ साथ कुश्ती के अच्छे प्रशिक्षक भी थे।
3
4
कहते हैं विपदाएं ही व्यक्ति को मजबूत बनती है। वास्तविक उदाहरण है बछेंद्री पाल। उन्होंने बचपन से संघर्षों के साथ स्वयं को ढाल लिया और उन परिस्थितियों को पार कर उन्होंने सागर के माथे पर ( सागरमाथा पर्वत ) कदम रख दिए। आइए जानते हैं बछेंद्री पाल के बारे ...
4
4
5
प्रतिवर्ष साल 21 मई को आतंकवाद विरोधी दिवस (Anti Terrorism Day) मनाया है। इसी दिन यानी 21 मई 1991 को भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की तमिलनाडु के श्रीपेरुंबुदूर में लिट्‍टे आतंकवादियों ने हत्या कर दी थी।
5
6
बिपिन चंद्र पाल। वह एक कर्मठ और निडर व्यक्तित्व थे। वह एक पत्रकार, लेखक, शिक्षक और अद्भुत वक्ता थे। उन्हें राष्ट्रवादी नेता के रूप में जाने जाते थे। वे गरम दल के नेता थे। 20 मई को उन्हें नमन करते हुए जानते हैं उनकी कुछ ख़ास बातें -
6
7
लाल बाल पाल के बिपिन चंद्र पाल कौन थे, जानिए खास बातें
7
8
हम अगर किसी भी 90 के दशक के प्रेमी से पूछें तो उसे एक धारावाहिक तो अवश्य याद आता होगा, 'एक था रस्टी'। यह रस्किन बांड की कहानियों पर ही आधारित था। साहित्य में रुचि रखने वाले रस्किन बांड को एक 'प्यारे लेखक' और ' बच्चों का लेखक' के रूप में देखते हैं। ...
8
8
9
महाराणा प्रताप उदयपुर, मेवाड़ में सिसोदिया राजवंश के राजा थे। उनके कुल देवता एकलिंग महादेव हैं। मेवाड़ के राणाओं के आराध्यदेव एकलिंग महादेव का मेवाड़ के इतिहास में बहुत महत्व है।
9
10

बाजीराव पेशवा की महानता

गुरुवार,अप्रैल 28, 2022
पेशवा बाजीराव बल्लाल एक महान योद्धा थे उन्होंने अपने चालीस वर्ष के जीवन में बयालीस युद्ध लड़े और सभी में वह विजयी रहे। उनका कुशल नेतृत्व ऐसा था कि उनका और शिवाजी महाराज का अनुसरण कर उनके सैनिक किसी भी विषम परिस्थिति को सरलता से पार कर जाते थे।
10
11
पूरा नाम श्रीनिवास रामानुजन अयंगर था। 26 अप्रैल 1930 को मद्रास में निधन हुआ था। रामानुजन की बायोग्राफी का नाम है THE MAN WHO KNEW INFINITY अर्थात ऐसा व्यक्ति जो अनंत को जानता था।
11
12
क्या आप जानते हैं ऐसे वीर को जो गरीबों के हित के लिए फांसी पर झूल गया.... वीर नारायण सिंह बिंझवार ... वीर नारायण सिंह बिंझवार जिन्हें 1857 के स्वातंत्र्य समर में छत्तीसगढ़ के प्रथम शहीद के रूप में जाना जाता है।
12
13
Jyotiba Phule महात्मा ज्योतिबा फुले का जन्म 11 अप्रैल 1827 को पुणे में हुआ था। उन्होंने अपने जीवन काल में देश से छुआछूत खत्म करने और समाज को सशक्त बनाने के लिए अहम किरदार निभाया।
13
14
आजादी की लड़ाई में भागीदारी करने वाले क्रांतिकारी मंगल पांडे (mangal pande) का जन्म एक सामान्य ब्राह्मण परिवार में 10 जुलाई 1827 को बलिया जिले के नगवा गांव में हुआ था।
14
15

राम नवमी क्यों मनाई जाती है?

बुधवार,अप्रैल 6, 2022
Lord Ram भगवान राम त्रेतायुग में अवतरित हुए। भगवान राम का जन्म चैत्र शुक्ल नवमी के दिन हुआ था। जिसका उद्देश्य रावण के अत्याचारों को समाप्त करने तथा अधर्म का नाश करके धर्म की स्थापना करना था...
15
16
अपनी पोस्ट में शेयर करते हुए लिखा 'कल रात के समारोह में मेरा व्यवहार अस्वीकार्य था। मेरे खर्चों पर मजाक करना मेरे काम केा एक हिस्सा लेकिन जेडा की मेडिकल कंडीशन का मजाक उड़ाना मेरे बर्दाश्त के बाहर था। इसलिए मैंने भावुक हो कर रिएक्ट कर दिया। मैं ...
16
17
25 मार्च यानी आज गणेश शंकर विद्यार्थी का बलिदान दिवस (Ganesh shankar Vidyarthi) है। वे मानवता के पुजारी थे, जिन्होंने इंसानियत की रक्षा और शांति स्थापना के लिए अपना बलिदान दे दिया था। Ganesh Shankar Vidyarthi Death anniversary
17
18
सुखदेव थापर का जन्म 15 मई 1907 को पंजाब के लायलपुर पाकिस्तान में हुआ था। बचपन से ही सुखदेव के मन में देशभक्ति की भावना कूट-कूट कर भरी थी।
18
19
23 मार्च के दिन क्रांतिकारी भगत सिंह (Bhagat Singh) को फांसी पर लटका दिया था। वे बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे, जिन्होंने अंग्रेजी हुकूमत से देश को आजादी दिलाने के लिए हंसकर मौत को गले लगाया था। यहां पढ़ें अमर शहीद भगत सिंह के 20 अनमोल विचार-
19
20
125 साल की उम्र में भी तंदुरूस्त दिखने वाले विश्व योग गुरू का आधार कार्ड के मुताबिक 8 अगस्त 1896 को उनका जन्म हुआ है। उनका जन्म बंगाल के श्रीहट्टी जिले में हुआ। लेकिन छोटी उम्र में ही माता-पिता का साया सिर से उठ गया था। इसके बाद वे काशी आ गए थे। ...
20
21
आज देश के लिए लड़ते हुए अपने प्राणों को हंसते-हंसते न्यौछावर करने वाले तीन वीर सपूतों का शहीद दिवस है। 23 मार्च यानि क्रांतिकारी वीर भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव का बलिदान दिवस
21
22
404 पृष्ठ की यह मूल डायरी आज भगतसिंह के पौत्र भतीजे बाबरसिंह संधु के पुत्र यादविंदरसिंह के पास है, जिसे उन्होंने अनमोल धरोहर के रूप में संजोकर रखा है। दिल्ली के नेहरू मेमोरियल म्यूजियम में इस डायरी की प्रति भी उपलब्ध है, जबकि राष्ट्रीय संग्रहालय में ...
22
23
प्रदीप ने बताया कि वो कंपनी में नौकरी के बाद अपने घर दौड़ते हुए ही लौटते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि प्रदीप के पास दौड़ने के लिए अतिरिक्त समय नहीं है और सेना में भर्ती होना उनका ख्वाब है। जब फिल्म मेकर विनोद कापड़ी ने उन्हें सुबह जल्दी उठकर भागने की सलाह ...
23
24
तिथि के अनुसार शिवाजी जयंती आज यानी 21 मार्च को मनाई जा रही है। Shivaji Maharaj Jayanti 2022
24
25
17 मार्च भारतीय इतिहास में 17 मार्च का दिन खासकर हरियाणा के लिए बहुत अहम है क्योंकि इस दिन इस राज्य में दो ऐसी बेटियों ने जन्म लिया, जिन्होंने विश्व स्तर पर अपने परिवार और राज्य ही नहीं बल्कि पूरे देश का नाम रोशन किया। इनमें से एक हैं 17 मार्च ...
25
26
सावित्रीबाई फुले (Savitribai Phule) को कौन नहीं जानता। वे एक कवयित्री, महान समाज सुधारक और भारत की पहली महिला शिक्षिका थीं।
26
27
इस अवसर पर ब्रह्मदत्त और सुनीता को सम्मानित करते हुए कैलाश सत्यार्थी ने कहा, ‘‘ब्रम्हदत्त और सुनीता ने जो किया है वह अनुकरणीय है। उन्होंने अपनी अंतरात्मा की आवाज सुनी और ‘सही’ के लिए खड़े हुए। उन्‍होंने बच्चों को ट्रैफिकर के चंगुल से मुक्त किया। वे ...
27
28
सरोजिनी नायडू का जन्म 13 फरवरी 1879 को हैदराबाद में हुआ था। उनके पिता का नाम अघोरनाथ चट्टोपाध्याय था, जो एक प्रसिद्ध वैज्ञानिक और शिक्षाशास्त्री थे। उनकी माता का नाम वरद सुंदरी था, वे कवयित्री थीं और बंगला में लिखती थीं।
28
29
आचार्य चाणक्य (Chanakya) ने अपने नीति शास्त्र में कई बातों पर अपना मत बताया है। उनको कौटिल्य के नाम से भी जाना जाता है। उनकी बातें हम सभी को अपने जीवन में अपनाना चाहिए।
29
30
छत्रपपति शिवाजी महाराज की जयंती (Chhatrapati Shivaji Maharaj Jayanti): भारत के वीर सपूतों में से एक श्रीमंत छत्रपति शिवाजी महाराज का जन्म 19 फरवरी 1630 को हुआ था और 3 अप्रैल 1680 को उन्होंने देह छोड़ दी थी। वे भारतीय गणराज्य के महानायक थे। उनका पूरा ...
30
31
शिवाजी महाराज (Shivaji Maharaj) का जन्म मराठा परिवार में 19 फरवरी 1627 को शिवनेरी में हुआ था। वे भारत के वीर सपूतों में से एक थे। बहुत से लोग इन्हें 'हिन्दू हृदय सम्राट' कहते हैं,
31
32
छत्रपति शिवाजी महाराज (Shivaji Maharaj) को भारत के शूरवीरों में गिना जाता है। वे बुद्धिमानी, बहादुर, शौर्यवीर और दयालु शासक थे। बहुमुखी प्रतिभा के धनी छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती महाराष्ट्र में 19 फरवरी को मनाई जाती है।
32