0

दशहरे के दूसरे दिन की 10 परम्पराएं

शनिवार,अक्टूबर 16, 2021
0
1
आश्‍विन माह के शुक्ल पक्ष को पापांकुशा एकादशी का व्रत रखा जाता है। पापांकुशा एकादशी का नाम पापों को हरने के कारण रखा गया है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार इस बार यह एकादशी 16 अक्टूबर 2021 को है। आओ जानते हैं कि इस एकादशी को रखने के क्या है 7 फायदे।
1
2
इस वर्ष शनिवार, 16 अक्टूबर 2021 को पापांकुशा एकादशी मनाई जा रही है। यह एकादशी पापों से मुक्ति देकर स्वर्ग प्राप्ति में सहायता कर‍ती है। प्रतिवर्ष शारदीय नवरात्रि की समाप्ति के बाद और विजयादशमी पर्व
2
3
धार्मिक शास्त्रों के अनुसार आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को पापांकुशा एकादशी कहते हैं। इस एकादशी के दिन भगवान विष्णु का पूजन करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है।
3
4
प्रतिवर्ष कार्तिक कृष्ण चतुर्थी के दिन सुहागिन महिलाएं करवा चौथ व्रत रखती है। यह सौभाग्यवती स्त्रियों का सुंदर सुहाग पर्व है। इस व्रत में सास अपनी बहू को सरगी देती है।
4
4
5
कहते हैं कि प्रभु श्रीराम ने आश्‍विन माह की दशमी के दिन रावण का वध कर दिया था। रावण बहुत ही शक्तिशाली था और यदि विभीषण, हनुमान और जामवंत जैसे योद्धा नहीं होते तो संभवत: श्रीराम को रावण का वध करने में और भी ज्यादा कठिनाइयों का सामना करना पड़ता। ...
5
6
एक मंत्र मात्र में समाई है सम्पूर्ण रामायण...क्या आप जानते हैं कि दशहरे के शुभ दिन इस मंत्र को पढ़ने, सुनने और आदान प्रदान करने से ठीक वही पुण्य मिलता है जो पवित्र रामायण या रामचरित मानस के पाठ से मिलता है....
6
7
आज है दशहरा, विजयादशमी पर्व पर रावण दहन मुहूर्त सहित विशेष सामग्री एक साथ
7
8
.गेंदे का रंग केसरिया है। यह रंग विजय, हर्ष और उल्लास का प्रतिनिधित्व करता है। इस फूल का धार्मिक महत्व भी अन्य फूलों से ज्यादा है। यूं तो गुलाब तथा चमेली के साथ और भी अन्य कई प्रकार के सुगंधित फूल धरती पर मौजूद हैं तब भी गेंदे के फूल का रंग शुभ का ...
8
8
9

दशहरा : दशानन रावण की 26 रोचक बातें

शुक्रवार,अक्टूबर 15, 2021
'रावण'... दुनिया में इस नाम का दूसरा कोई व्यक्ति नहीं है। राम तो बहुत मिल जाएंगे, लेकिन रावण नहीं। रावण तो सिर्फ रावण है। राजाधिराज लंकाधिपति महाराज रावण को दशानन भी कहते हैं।
9
10
दशहरा के पर्व को विजयादशमी भी कहा जाता है। यह असत्य पर सत्य की और बुराई पर अच्‍छाई की जीत का पर्व है। इस दिन माता दुर्गा ने महिषासुर का वध किया था और इसी दिन श्रीराम ने रावण का वध किया था। इसीलिए इस दिन दुर्गा पूजा, शस्त्र पूजा और श्रीराम पूजा के ...
10
11
राम और रावण का युद्ध अश्विन शुक्ल पक्ष की तृतीया को प्रारंभ हुआ था और दशमी को यह युद्ध समाप्त हुआ था। लेकिन युद्ध तो उससे पहले ही जारी था। कुल मिलाकर युद्ध 32 दिन चला था। रामजी लंका में कुल 111 दिन रहे थे। राम ने जब रावण का वध किया तो इस तरह किया
11
12
शस्त्र पूजन की परंपरा आदिकाल से चली आ रही है। प्राचीन समय में राजा-महाराजा विशाल शस्त्र पूजन करते रहे हैं। आज भी इ‍स दिन क्षत्रिय शस्त्र पूजा करते हैं। सेना में भी इस दिन शस्त्र पूजन किया जाता है।
12
13
15 अक्टूबर 2021 को विजयादशी के दिन प्रत्येक जगह पर शाम के बाद रावण दहन होता है। इस दिन रावण के साथ-साथ कुंभकर्ण और मेघनाद के पुतलों का भी दहन किए जानें की परंपरा है। आओ जानते है कि किस मुहूर्त या समय में रावण दहन किया जाए या रावण दहन का मुहूर्त ( ...
13
14
दशहरा पर्व पर इस पक्षी के दर्शन को शुभ और भाग्य को जगाने वाला माना जाता है। जिसके चलते दशहरे के दिन हर व्यक्ति इसी आस में छत पर जाकर आकाश को निहारता है कि उन्हें नीलकंठ पक्षी के दर्शन हो जाए। ताकि साल भर उनके यहां शुभ कार्य का सिलसिला चलता रहे।
14
15
वेद और शास्त्रों का ज्ञाता रावण महापंडित था। आश्विन माह की दशमी के दिन प्रभु श्रीराम ने उसका वध कर दिया था। रावण नाम का दुनिया में कोई दुसरा आदमी कभी नहीं हुआ। कोई अपने बच्चे का नाम रावण नहीं रखता है। आओ जानते हैं रावण के बारे में ऐसा अनसुने रहस्य ...
15
16
नवरात्रि में नवमी तिथि नवरात्रि की अंतिम तिथि होती है। इसीलिए इसका खास महत्व होता है और इसे महानवमी कहते हैं। चैत्र और शारदीय नवरात्रि में इस तिथि को माता सिद्धिदात्री देवी की पूजा होती है। 14 अक्टूबर 2021 को शारदीय नवरात्रि की नवमी तिथि है। आओ ...
16
17
-विजयादशमी के दिन प्रदोषकाल में शमी वृक्ष के समीप जाकर उसे प्रणाम करें। तत्पश्चात शमी वृक्ष की जड़ में गंगा जल/ नर्मदा जल/ शुद्ध जल का सिंचन करें। जल सिंचन के उपरांत शमी वृक्ष के सम्मुख दीपक प्रज्वलित करें।
17
18
15 अक्टूबर 2021 को विजयादशी का पर्व है जिसे दशहरा भी कहते हैं। दशहरे पर कई लोग वाहन, घर, कपड़े आदि की खरीददारी करते हैं और इस दिन विशेष पूजन भी होता है तो आओ जानते हैं कि क्या है खरीदी और पूजन के शुभ मुहूर्त।
18
19
आश्विन शुक्ल पक्ष की दशमी का बहुत ही खास महत्व रहता है। इस दिन दशहरा और विजयादशी का पर्व मनाया जाता है। कई लोग इस दिन साधना करते हैं और कई लोग इस दिन ज्योतिष के उपाय करके अपने जीवन को संकटों से उभारते हैं। आओ जानते हैं दशहरे के ( Dashara ke upay ) ...
19