नो टाइम टू डाय : कुछ किरदार कभी मरते नहीं, जेम्स बांड तो हरगिज नहीं

Author संदीपसिंह सिसोदिया| Last Updated: शुक्रवार, 1 अक्टूबर 2021 (15:24 IST)
लार्जर देन लाइफ, सुपरस्पाई और दुनिया को बचाने वाले एमआई 6 के दमदार ब्रिटिश इंटेलिजेंस एजेंट के कारनामों से सजी 'नो टाइम टू डाय' (No Time to Die) में हसीनाओं से इश्क लड़ाने वाले प्लेबॉय के बजाए इस फिल्म में हमें अलग ही मिलता है। फिल्म में ओल्ड एक्शन, थ्रिल, रोमांस, सस्पेंस से लेकर जेम्स बांड फ्रैंचाइजी का रोमांच अपने चरम पर दिखाई देता है। दो घंटे 43 मिनट लंबी फिल्म में दर्शक कुर्सी से बंध जाते है।

सबसे बड़ी बात है कि जेम्स बांड की इस फिल्म में रील पर तो दुनिया को बचाया गया है लेकिन कोरोना की मार से जूझ रहे सिनेमाघरों को भी बचाने के लिए रियल लाइफ में भी यह फिल्म शायद संजीवनी का काम कर जाए। कोरोना से लगभग 18 महीनों से बंद रहे थिएटर में 50-60 दर्शक देखना अपने आप में एक सुखद अनुभव रहा। वैसे भी फिल्म ‘नो टाइम टू डाइ’ का मजा सिर्फ सिनेमाघर में ही है। इतने शानदार एक्शन और भारी-भरकम बजट वाली फिल्म बनती भी बड़े परदे के हिसाब से ही है।



इस फिल्म में सबसे बड़ा बदलाव है कि यहां जेम्स हर हसीना के साथ इश्क नहीं लड़ाता है, अब वो इमोशनल और कमिटेड है। उसने प्यार में धोखा खाया है लेकिन फिर भी वह अपने प्यार के लिए सब कुछ कुर्बान कर सकता है। एक्शन से लेकर इमोशनल सीन में जेम्स बांड की जिंदगी में आए ठहराव, तड़प और दर्द को (Daniel Craig) ने फेशियल एक्स्प्रेशंस से बेहतरीन रूप से दिखाया है। इस फिल्म में लशाना लिंच ने पहली बार महिला एजेंट नोमी का रोल अदा किया है जो निश्चित तौर पर 007 के दमदार किरदार में जेम्स बांड के सामने कही नहीं ठहरती। हालांकि उनका किरदार जेम्स बांड के सामने अंडरप्ले भी किया गया है।

स्पेक्टर की (Léa Seydoux) ने जेम्स बॉन्ड के प्रेमिका के रूप में प्रभावशाली अभिनय किया है। वहीं सीआईए एजेंट पलोमा के छोटे लेकिन दमदार रोल में (Ana de Aramas) ने एक्शन के मामले में डैनियल क्रेग से जमकर टक्कर ली है। विलेन के रोल में (Rami Malek) ने दमदार रोल निभाया है पर यह फिल्म तो सिर्फ और सिर्फ डेनियल क्रेग के लिए याद रखी जाएगी।




इस फिल्म के ओपनिंग फ्रेम से लेकर क्लोजिंग शॉट तक डेनियल क्रेग का करिश्मा देखते ही बनता है। जिस इंटेंसिटी और भावपूर्ण शैली में उन्होंने इस फिल्म में जेम्स बांड का किरदार जिया है उसके लिए बांड फैंस उन्हें हमेशा याद रखेंगे। 25वीं बांड फिल्म निश्चित रूप से, डेनियल क्रेग युग के अंत का प्रतीक है, जेम्स बांड के अपने आखिरी किरदार को डेनियल ने जिस शक्तिशाली, अप्रत्याशित और भावनात्मक अदायगी से निभाया है उसका अनुसरण करना किसी भी कलाकार के लिए बेहद मुश्किल होगा।

फिल्म का ट्रेजिक एंड हमें भावुक कर देता है। अलविदा हमेशा मुश्किल होते हैं और इस क्लाइमैक्स के बिना शायद डेनियल क्रेग कभी 007 के किरदार को अलविदा नहीं कह पाते। लेकिन एक बात तय है कुछ किरदार कभी मरते नहीं, जेम्स बांड तो हरगिज नहीं।

इस फिल्‍म फ्रेंचाइजी में आगे क्‍या हो सकता है इसका इंतजार बेसब्री से रहेगा। बहरहाल, बांड सीरिज के सभी फैंस की तरफ से डेनियल क्रेग को इस शानदार सफर के अंत पर BEST Luck और THANK You...



और भी पढ़ें :