0

सबसे आखि‍री पंक्‍त‍ि में निर्मल वर्मा ‘Void’ लिखकर छोड़ देते हैं—क्‍या शून्‍य भी कोई फैसला है?

सोमवार,अक्टूबर 25, 2021
Nirmal verma
0
1
झारखंड में हजारीबाग के रहने वाले यायावर के कविता संग्रह ‘झेलते हुए’ और ‘मैं यहां हूं’ बहुत चर्चित रहे। उन्हें ‘नागार्जुन पुरस्कार’ से सम्‍मानित किया गया था।
1
2
कुछ समय पहले उनका बनाया हिमोजी एप बहुत चर्चित हुआ था। कुछ साल पहले ही यह हिमोजी एप लांच किया गया था। दरअसल, इमोजी सिर्फ भावनाओं का संचार करता है, लेकिन हिमोजी के बारे में कहा जाता है कि यह एक चरित्र के साथ कुछ शब्दों के जरिए भावनाओं को भी व्यक्त ...
2
3
दरअसल, कोरोना महामारी के चलते यह पुस्तक मेला पिछले दो साल से आयोजित नहीं हो सका था। अब नई दिल्ली के प्रगति मैदान में 8 से 16 जनवरी तक विश्व पुस्तक मेला आयोजि‍त किया जा रहा है।
3
4
अमजद अली खान ने कई शास्त्रीय राग बनाए, जिसमें गणेश कल्याण, श्यामा गौरी, अमीरी तोड़ी, सरस्वती कल्याण, सुहाग भैरव जैसे नाम हैं, लेकिन 1995 में उन्होंने एक बेहद खास राग बनाया। इस राग के बारे में उस्‍ताद ने बताया था कि उन्‍होंने अपनी पत्‍नी के नाम पर ...
4
4
5
जितनी ज्यादा विधाओं के लोग साहित्य का सृजन करेंगे, उसमें उतना ही ज्यादा नयापन मिलेगा। उन्होंने कहा कि आज हम अंग्रेजी के दबाव में इतने ज्यादा दब चुके हैं कि अपनी मातृभाषा के बारे में सोचने-समझने की शक्ति खोते जा रहे हैं।
5
6
उन्हें उपन्यास पढ़ने का ऐसी दिलचस्‍पी जागी कि किताबों की दुकान पर बैठकर ही उन्होंने सारे उपन्यास पढ़ लिए। 13 साल की उम्र में से ही प्रेमचन्द ने लिखना शुरू कर दिया था। शुरुआत में कुछ नाटक लिखे और बाद में उर्दू में उपन्यास लिखा।
6
7
आज भी देशभर के तमाम रेलवे स्‍टेशनों के बुक स्‍टॉल्‍स पर सबसे सबसे ज्‍यादा मुंशी प्रेमचंद की किताबें रखी नजर आ जाएगीं। हिंदी लेखन के लिए प्रसिद्ध हुए मुंशी जी के बारे में शायद बहुत कम लोग जानते हैं कि उन्‍होंने अपने लिखने की शुरुआत उर्दू से की थी।
7
8
जांजीबार में जन्मे और इंग्लैंड में रहने वाले लेखक अब्दुलरजाक गुरनाह यूनिवर्सिटी ऑफ केंट में प्रोफेसर रह चुके हैं। उनके उपन्यास 'पैराडाइज' को 1994 में बुकर पुरस्कार के लिए चयनित किया गया था।
8
8
9
बिहार म्यूजियम और कलाकार स्वामीनाथन पर उनकी फिल्में काफी चर्चित रही हैं। तीन कविता संग्रह, तीन उपन्यास, एक कहानी संग्रह के अलावा सिनेमा और कला पर कई पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। हालिया प्रकाशित ‘यादनामा’ के दो खण्ड ख़ूब लोकप्रिय हुए। हार्पर कॉलिंस ...
9
10
इस पंक्‍ति की गहराई में जो अर्थ छुपा है वो यही कहता है कि आप किसी चीज को अपने दिल, दिमाग और अपनी पूरी आत्‍मा से चाहोगे तो यह सृष्‍ट‍ि, यह प्रकृति या यह कुदरत भी उसे हासिल करने में आपकी पूरी मदद करने लगेगी। फि‍र चाहे वो कोई इरादा हो, कोई मकसद या फि‍र ...
10
11
लमही पत्रिका प्रेमचंद और उनकी विरासत से जुड़ी प्रतिबद्धता के लिए सदैव जानी जाती रही है। लमही के प्रमुख विशेषांक श्रृंखला में सारा राय के बाद अमृतराय जन्मशताब्दी विशेषांक अत्यंत महत्वपूर्ण है। महत्वपूर्ण इन अर्थों में है कि अभी तक किसी भी पत्रिका ने ...
11
12
इस बार के पुस्तक मेले की थीम आज़ादी का अमृत महोत्सव रखा गया है। इस मेले में देशभर से प्रकाशक अपनी पुस्तकों का प्रदर्शन करने के लिए लखनऊ आ रहे हैं।
12
13
विधान तो प्रथम और अंतिम शब्द एक ही रखने का है पर कई कवियों ने इस नियम का पालन नहीं किया है। जैसे काका हाथरसी की अनेक कुण्डलिया में इस विधान के बिना ही कुण्डलिया लिखी गईं हैं जो अत्यंत प्रसिद्ध हुईं हैं। मात्रा विधान: इसे गिरधर की प्रसिद्ध कुण्डलिया ...
13
14
अनुवाद दो भाषाओं के बीच मैत्री का पुल है। वे कहते हैं- ”अनुवाद एक भाषा का दूसरी भाषा की ओर बढ़ाया गया मैत्री का हाथ है। वह जितनी बार और जितनी दिशाओं में बढ़ाया जा सके, बढ़ाया जाना चाहिए।”
14
15
कमला भसीन के निधन पर अभिनेत्री शबाना आज़मी ने अपने ट्विटर पर लिखा है, “मुझे हमेशा से लगता था कि कमला भसीन अजेय थीं और वह अंत तक अजेय रहीं। उनकी कथनी और करनी में किसी तरह का विरोधाभास नहीं था”
15
16
लघुकथा में संवेदना, रिश्ते, साहित्य को समझना आवश्यक है। लघुकथाकार लघुकथा के माध्यम से समकालीन समय की संवेदना के साथ बातचीत करती है।
16
17
संस्था क्षितिज' द्वारा तृतीय अखिल भारतीय लघुकथा सम्मेलन 2021 का आयोजन 26 सितंबर, 2021 रविवार को सुबह 10.00 बजे से श्री मध्य भारत हिंदी साहित्य समिति, शिवाजी सभागृह में किया जा रहा है।
17
18
ईशमधु पूरी तरह से स्वस्थ्य थे। रात ही उनकी तबीयत अचानक खराब होने लगी। दो दिन पहले उन्होंने अलवर में प्रगतिशील लेखक संघ एवं जनवादी लेखक संघ के कार्यक्रम में शिरकत की थी। उनके साथ वरिष्ठ साहित्यकार उदय प्रकाश भी मंच पर थे। कार्यक्रम की तस्वीरें ...
18
19
इसके अन्तर्गत साहित्य अकादमी द्वारा समूचे मप्र से प्रत्येक सत्र में कुल 40 रचनाकारों को चयनित किया जाता है, जिसमें अपना स्थान बनाने में अटल ने सफलता प्राप्त की है।
19